PDA

View Full Version : लज्जा / भाग १ / कामायनी



anita
22-05-2017, 10:07 PM
"कोमल किसलय के अंचल में,नन्हीं कलिका ज्यों छिपती-सी।
गोधूली के धूमिल पट में,दीपक के स्वर में दिपती-सी।
मंजुल स्वप्नों की विस्मृति में,मन का उन्माद निखरता ज्यों।
सुरभित लहरों की छाया में,बुल्ले का विभव बिखरता ज्यों।

वैसी ही माया में लिपटीअधरों पर उँगली धरे हुए।
माधव के सरस कुतूहल काआँखों में पानी भरे हुए।
नीरव निशीथ में लतिका-सीतुम कौन आ रही हो बढ़ती?
कोमल बाँहे फैलाये-सीआलिगंन का जादू पढ़ती?

किन इंद्रजाल के फूलों सेलेकर सुहाग-कण-राग-भरे।
सिर नीचा कर हो गूँथ मालाजिससे मधु धार ढरे?
पुलकित कदंब की माला-सीपहना देती हो अंतर में।
झुक जाती है मन की डालीअपनी फल भरता के डर में।

वरदान सदृश हो डाल रहीनीली किरणों से बुना हुआ।
यह अंचल कितना हलका-साकितना सौरभ से सना हुआ।
सब अंग मोम से बनते हैंकोमलता में बल खाती हूँ।
मैं सिमिट रही-सी अपने मेंपरिहास-गीत सुन पाती हूँ।

स्मित बन जाती है तरल हँसीनयनों में भरकर बाँकपना।
प्रत्यक्ष देखती हूँ सब जोवह बनता जाता है सपना।
मेरे सपनों में कलरव कासंसार आँख जब खोल रहा।
अनुराग समीरों पर तिरता थाइतराता-सा डोल रहा।

अभिलाषा अपने यौवन में उठती उस सुख के स्वागत को।
जीवन भर के बल-वैभव सेसत्कृत करती दूरागत को।
किरणों का रज्जु समेट लियाजिसका अवलंबन ले चढ़ती।
रस के निर्झर में धँस कर मैंआनन्द-शिखर के प्रति बढ़ती।

छूने में हिचक, देखने मेंपलकें आँखों पर झुकती हैं।
कलरव परिहास भरी गूजेंअधरों तक सहसा रूकती हैं।
संकेत कर रही रोमालीचुपचाप बरजती खड़ी रही।
भाषा बन भौंहों की, कालीरेखा-सी भ्रम में पड़ी रही।

तुम कौन! हृदय की परवशता?सारी स्वतंत्रता छीन रही।
स्वच्छंद सुमन जो खिले रहेजीवन-वन से हो बीन रही।"
संध्या की लाली में हँसतीउसका ही आश्रय लेती-सी।
छाया प्रतिमा गुनगुना उठीश्रद्धा का उत्तर देती-सी।

"इतना न चमत्कृत हो बालेअपने मन का उपकार करो।
मैं एक पकड़ हूँ जो कहतीठहरो कुछ सोच-विचार करो।
अंबर-चुंबी हिम-श्रंगों सेकलरव कोलाहल साथ लिये।
विद्युत की प्राणमयी धाराबहती जिसमें उन्माद लिये।

मंगल कुंकुम की श्री जिसमेंनिखरी हो ऊषा की लाली।
भोला सुहाग इठलाता होऐसी हो जिसमें हरियाली।
हो नयनों का कल्याण बनाआनन्द सुमन सा विकसा हो।
वासंती के वन-वैभव मेंजिसका पंचम स्वर पिक-सा हो।

जो गूँज उठे फिर नस-नस मेंमूर्छना समान मचलता-सा।
आँखों के साँचे में आकररमणीय रूप बन ढलता-सा।
नयनों की नीलम की घाटीजिस रस घन से छा जाती हो।
वह कौंध कि जिससे अंतर कीशीतलता ठंडक पाती हो।

हिल्लोल भरा हो ऋतुपति कागोधूली की सी ममता हो।
जागरण प्रात-सा हँसता होजिसमें मध्याह्न निखरता हो।
हो चकित निकल आई सहसाजो अपने प्राची के घर से।
उस नवल चंद्रिका-से बिछले जोमानस की लहरों पर-से।"