Results 1 to 6 of 6

Thread: 30 जनवरी : गाधी जी की पुण्य-तिथि

  1. #1
    वरिष्ठ सदस्य
    Join Date
    Sep 2009
    प्रविष्टियाँ
    778
    Rep Power
    11

    30 जनवरी : गाधी जी की पुण्य-तिथि

    1948 में आज के दिन यानि 30 जनवरी को दिल्ली के बिरला भवन में गोली मार कर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी(मोहन दास कर्म चन्द गांधी) की हत्या कर दी गई थी।
    Name:  mk****hi.jpg
Views: 125
Size:  18.3 KB

  2. #2
    वरिष्ठ सदस्य
    Join Date
    Sep 2009
    प्रविष्टियाँ
    778
    Rep Power
    11

    गांधी की हत्या : सत्य का वध

    धन्य-धन्य हो गांधी बापू धन्य तेरी कुरबानी।
    हो धन्य तेरी कुरबानी।
    भूल नहीं सकती है दुनिया तेरी अमर कहानी।
    धन्य-धन्य हो गांधी बापू.....
    यह तेरा ही खून नहीं है मानवता का।
    खून अमन का आजादी का दुखियारी जनता का।
    सबके मुख पर आंसू हैं सबके मुख पर वीरानी।
    धन्य-धन्य हो गांधी बापू.....
    Name:  mkg-dead-body.jpg
Views: 97
Size:  22.2 KB

  3. #3
    वरिष्ठ सदस्य
    Join Date
    Sep 2009
    प्रविष्टियाँ
    778
    Rep Power
    11

    Re: 30 जनवरी 2011 : गाधी जी की पुण्य-तिथि

    गांधी जी का प्रिय भजन

  4. #4
    वरिष्ठ सदस्य
    Join Date
    Sep 2009
    प्रविष्टियाँ
    778
    Rep Power
    11

    गांधीजी को हो गया था मौत का पूर्वाभास

    देश के विभाजन के बाद सीमा के आर-पार मची मारकाट और खुद पर हुए हमले के बाद गांधी जी को आभास हो गया था कि जल्दी ही उनकी मृत्यु होने वाली है। उन्हें अपने खिलाफ की जा रही साजिशों की भी भनक लग चुकी थी। इस बात की तस्दीक इतिहासकारों सहित उनके करीबी लोगों ने की है। जीवन के आखिरी दिन उन्होंने मृत्यु का छह बार जिक्र करने के साथ ही न जीने की इच्छा भी जाहिर की थी।

    अंतिम दिन क्या हुआ : आज से 63 साल पहले 30 जनवरी 1948 को 5 बजकर 17 मिनट पर गांधी जी की हत्या नाथूराम विनायक गोडसे ने की थी। गांधीजी उस समय प्रार्थना करने जा रहे थे। उनके जीवनीकार राबर्ट पायने के अनुसार बम हमले से उन्हें अपने खिलाफ किए जा रहे षड्यंत्र की जानकारी मिल गई थी। इस दिन वे साढ़े तीन-पौने चार बजे उठे थे। भगवद् गीता का पाठ किया और पौने पांच बजे शहद मिला गर्म नींबू पानी पिया था। पौने छह बजे संतरे का रस पिया और अंतिम उपवास से आई थकान के चलते एक झपकी ली। आधे घंटे बाद उन्होंने चिट्ठी लिखने वाली फाइल को चेक किया। गांधी जी ने अंतिम मुलाकात तत्कालीन उप प्रधानमंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल से की थी। दोनों की मुलाकात निर्धारित समय से दस मिनट ज्यादा देर तक चली थी। इसलिए गांधी जी को प्रार्थना सभा में जाने में देरी हो गई थी।

    पहले भी हुई थी हत्या की कोशिश : दस दिन पहले 20 जनवरी 1948 को पाकिस्तान के मोंटगोमेरी जिले से आए एक शरणार्थी ने प्रार्थना सभा में उन पर बम फेंका था जिसमें वह बाल-बाल बच गए थे।

    खुद को अप्रासंगिक महसूस कर रहे थे बापू : देश के बिगड़े हालात और उनकी बातों का जनता पर कम होते असर से गांधी जी के मन में निराशा छाने लगी थी। आखिरी दिनों में वे कई बार मरने की इच्छा तक व्यक्त कर चुके थे। 30 जनवरी की अल सुबह जब उनकी पोती आभा समय पर नहीं उठी तो नाराज गांधी जी ने दूसरी पोती मनु से कहा था, ‘मुझे यह सब लक्षण पसंद नहीं ईश्वर मुझे बहुत दिनों तक यह सब देखने के लिए जीवित न रखे’।

    पाकिस्तान में भारत के उच्चयुक्त प्रो. एन आर मलकानी से पाकिस्तान के हालात की जानकारी लेने के बाद उन्होंने कहा, ‘मेरी बात लोगों के दिल दिमाग तक नहीं पहुंचती है और मैं अब निर्थक हो गया हूं’। काठियावाड के प्रमुख कांग्रेसी यू.एन. ढेबर तथा रसिक लाल पारेख की मुलाकात का आग्रह लेकर जब मनु पहुंची तो उन्होंने कहा, ‘मैं मिलूंगा जरूर, लेकिन प्रार्थना सभा के बाद वह भी तब, जब मैं उसके बाद जीवित रहा’।

  5. #5
    नवागत sanedo_21's Avatar
    Join Date
    Aug 2009
    Location
    Gujarat
    आयु
    30
    प्रविष्टियाँ
    19
    Rep Power
    0

    Re: 30 जनवरी 2011 : गाधी जी की पुण्य-तिथि

    बहुत अच्छी प्रस्तुति हे
    धन्यवाद
    मेरे सूत्र आपको जरुर पसंद आयेंगे अवश्य देखें .. [Only Registered and Activated Users Can See Links. Click Here To Register...]
    [Only Registered and Activated Users Can See Links. Click Here To Register...]
    [Only Registered and Activated Users Can See Links. Click Here To Register...]

  6. #6
    कांस्य सदस्य Teach Guru's Avatar
    Join Date
    Oct 2010
    Location
    राजस्थान
    प्रविष्टियाँ
    5,025
    Rep Power
    28

    Re: 30 जनवरी : गाधी जी की पुण्य-तिथि

    30 जनवरी सन 1948 ईसवी को भारत में स्वतंत्रता संग्राम के संस्थापक मोहनदास करम चंद् गांधी को एक अतिवादी ने गोली मार दी। वे महात्मा गांधी और बापू के नाम से प्रसिद्ध थे।
    महात्मा गांधी का जन्म सन 1869 ईसवी में हुआ। उन्होंने ब्रिटेन में कानून की शिक्षा पूरी की। वे कुछ समय दक्षिणी अफ़्रीक़ा में भी भारतीय संघर्षक्रताओं का नेतृत्व करते रहे। बाद में वे भारत आए और ब्रिटिश साम्राज्य के विरूद्ध संघर्ष में जुट गये। अनेक कठिनाइयों का सामना करने के बाद भी वे अपने लक्ष्य से पीछे नहीं हटे। अंतत: 1947 ईसवी में भारत स्वतंत्र हुआ।
    महात्मा गांधी एक कुशल लेखक भी थे।

Thread Information

Users Browsing this Thread

There are currently 1 users browsing this thread. (0 members and 1 guests)

Similar Threads

  1. गाँधी जी के कुछ दुर्लभ फोटो
    By Nisha.Patel in forum मेरा भारत
    Replies: 96
    अन्तिम प्रविष्टि: 18-10-2016, 01:45 PM
  2. गाँधी का दलित विमर्श
    By dkj in forum साहित्य एवम् ज्ञान की बातें
    Replies: 110
    अन्तिम प्रविष्टि: 07-09-2016, 07:49 PM
  3. गांधी जयंती
    By garima in forum आओ कुछ जान लें !
    Replies: 9
    अन्तिम प्रविष्टि: 05-10-2015, 08:28 PM
  4. 13 जनवरी, 2010 : लोहड़ी
    By guruji in forum आज का दिन
    Replies: 3
    अन्तिम प्रविष्टि: 13-01-2011, 10:31 AM
  5. Replies: 3
    अन्तिम प्रविष्टि: 11-01-2011, 10:45 PM

Bookmarks

Posting Permissions

  • You may not post new threads
  • You may not post replies
  • You may not post attachments
  • You may not edit your posts
  •