Page 3 of 6 प्रथमप्रथम 12345 ... LastLast
Results 21 to 30 of 60

Thread: जासूस सैम

  1. #21
    सदस्य satyabrat's Avatar
    Join Date
    Apr 2011
    Location
    Nagpur
    प्रविष्टियाँ
    139
    Rep Power
    9

    Re: जासूस सैम

    रेल्वे प्लॅटफॉर्मपर जैसे लोगोंका सैलाब उमड पडा था. भिडमें लोग अपना अपना सामान लेकर बडी मुश्कीलसे रास्ता निकालते हूए वहांसे जा रहे थे. शायद अभी अभी कोई ट्रेन आई हो. वही प्लॅटफार्मपर एक कोनेमें स्टीव्हन, पॉल, रोनॉल्ड और क्रिस्तोफर ऍन्डरसन पत्ते खेल रहे थे. उन चारोंमे क्रिस्तोफर, उसके हावभावसे और उसका जो तिनोंपर एक प्रभाव दिख रहा था उससे, उनका लिडर लग रहा था. क्रिस्तोफर लगभग पच्चीस के आसपास, कसे हूवे और मजबूत शरीर का मालिक, एक लंबाचौडा यूवक था.

    " देखो अपनी गाडी आनेमें अभी बहूत वक्त है... कमसे कम और तीन गेम हो सकते है...'' क्रिस्तोफरने पत्ते बांटते हूए कहा.

    " पॉल तुम इस कागजपर पॉइंट्स लिखो " रोनॉल्डने एक हाथसे पत्ते पकडते हूए और दुसरे हाथसे जेबसे एक कागजका टूकडा निकालकर पॉलके हाथमें देते हूए कहा.

    " और, लालटेन जादा हुशारी नही चलेगी' पॉलने स्टीव्हनको ताकीद दी. वे स्टीव्हनको उसके चश्मेकी वजहसे लालटेनही कहते थे. क्रिस्तोफरका ध्यान पत्त्ते खेलते वक्त यूंही प्लॅटफॉर्मपर उमड पडी भिडकी तरफ गया.

    भिडमें नॅन्सी और जॉन एकदुसरेका हाथ पकडकर किसी परदेसी अजनबीकी तरह चल रहे थे.

    उसने नॅन्सीकी तरफ सिर्फ देखा और खुले मुंह देखताही रह गया.

    " बाप, क्या माल है " उसके खुले मुंहसे अनायासही निकल गया. पॉल, रोनॉल्ड और स्टीव्हनभी अपना गेम छोडकर उधर देखने लगे. उनकाभी देखते हूए खुला मुह बंद होनेको तैयार नही था.

    " कबूतरी कबूतरके साथ भाग आई है शायद" क्रिस्तोफरके अनुभवी नजरने भांप लिया.

    ' उस कबुतरके बजाय मै उसके साथ रहना चाहिए था' पॉल ने कहा.

    क्रिस्तोफरने सबके पाससे पत्ते छिनकर लेते हूए कहा, ' देखो, अब यह गेम बंद करदो... हम अब एक दुसराही गेम खेलते है "

    सबके चेहरे खुशीसे दमकने लगे. वे क्रिस्तोफरके बोलनेका छिपा अर्थ जानते थे. वैसे वे वह गेम कोई पहली बार नही खेल रहे थे. सब उत्साहसे भरे एकदम उठकर खडे होगए.

    " अरे, देखो जरा खयाल रहे... साले कही घुस जाएंगे तो बादमें मिलेंगे नही " रोनॉल्डने उठते हूए कहा.

    फिर वे उनके खयालमें ना आए इतना फासला रखते हूए उनके पिछे पिछे जाने लगे.

    " ऐ , लालटेन तुम जरा आगे जावो... साले पहलेही तुझे चश्मेसे जरा कमही दिखता है ." क्रिस्तोफरने स्टीव्हनको आगे धकेलते हूए कहा. स्टीव्हन नॅन्सी और जॉनके खयालमें नही आये ऐसा सामने दौडते हूए गया.

    दिनभर इधर उधर घुमनेमें वक्त कैसा निकल गया यह जॉन और नॅन्सीको पताही नही चला. कुछ देर बाद शामभी हो गई. जॉन और नॅन्सी एक दुसरेका हाथ पकडकर मस्त मजेमें फुटपाथपर चल रहे थे. सामने एक जगह रास्तेपर हार्ट शेपके हायड्रोजसे भरे लाल गुब्बारे बेचनेवाला फेरीवाला उन्हे दिखाई दिया. वे उसके पास गए. जॉनने गुब्बारोंका एक बडासा दस्ता खरीदकर नॅन्सीको दिया. पकडनेके लिए जो धागा था उसके हिसाबसे वह दस्ता बडा होनेसे धागा टूट गया और वह दस्ता उडकर आकाशकी ओर निकल पडा. जॉनने दौडकर जाकर, उंची उंची छलांगे लगाकर उसे पकडनेका प्रयासे किया लेकीन वह धागा उसके हाथ नही आया. वे लाल गुब्बारे मानो एकदुसरेको धक्के देते हूए उपर आकाशमें जा रहे थे. जॉनकी उस धागेको पकडनेकी जी तोड कोशीश देखकर नॅन्सी खिलखिलाकर हंस रही थी.

    और उनके काफी पिछे क्रिस्तोफर , रोनॉल्ड, स्टीव्हन और पॉल किसीके खयालमें नही आए इसका ध्यान रखते हूए उनका पिछा कर रहे थे.

    नॅन्सी और जॉन एक जगह आईसक्रीम खानेके लिए रुक गए. उन्होने एक कोन लिया और उसमेंही दोनो खाने लगे. आईसक्रीम खातेवक्त नॅन्सीका ध्यान जॉनके चेहरेकी तरफ गया और वह खिलखिलाकर हंस पडी.

    '' क्या हूवा ?'' जॉनने पुछा.

    '' आईनेमें तो देखो '' नॅन्सी वही पास एक गाडीको लगे आईनेकी तरफ इशारा कर बोली.

    जॉनने आईनेमें देखा तो उसके नाक के सिरेको आईसस्क्रीम लगा था. अपना वह हुलिया देखकर उसेभी हंसी आ रही थी. उसने वह पोंछ लिया और एक प्रेमभरी नजरसे नॅन्सीकी तरफ देखा.

    '' सचमुछ अपनी रुची कितनी मिलती जुलती है '' नॅन्सीने कहा.

    '' फिर ... वह तो रहनेही वाली है... क्योंकी ...वुई आर द परफेक्ट मॅच"' जॉन गर्वसे बोल रहा था.

    आईस्क्रीम खाते हूए अचानक नॅन्सीका खयाल दुर खडे क्रिस्तोफरकी तरफ गया. क्रिस्तोफरने झटसे अपनी नजर फेर ली. नॅन्सीको उसकी नजर अजीब लगी थी और उसकी गतिविघीयांभी.

    '' जॉन मुझे लगता है अब हमें यहांसे निकलना चाहिए.'' नॅन्सीने कहा और वह वहांसे निकल पडी. जॉन उलझनमें सहमासा उसके पिछे पिछे जाने लगा.

    वहांसे आगे काफी समयतक चलनेके बाद वे एक कपडेके दुकानमें घुस गए. अब काफी रात हो चुकी थी. नन्सीको शक था की कहीं वह पहले दिखा हुवा लडका उनका पिछा तो नही कर रहा है. इसलिए उसने दुकानमें जानेके बाद वहांसे एक संकरी दरारसे बाहर झांककर देखा. बाहर क्रिस्तोफर उसके और दो साथीके साथ चर्चा करते हूए इधर उधर देख रहा था. जॉन उन लोगोंको दिख सके ऐसे जगहपर खडा था.

    '' जॉन पिछे मुडकर मत देखो... मुझे लगता है वह लडके अपना पिछा कर रहे है. '' नॅन्सी दबे स्वरमें बोली.

    '' कौन ? .. किधर ? '' जॉनने गडबडाते हूए पुछा.

    '' चलो जल्दी यहांसे हम निकल जाते है... वे हमतक पहूंचना नही चाहिए... '' नॅन्सीने उसे वहांसे बाहर निकाला.

    वे दोनो लंबे लंबे कदम डालते हूए फुटपाथपर चलरहे लोगोंकी भिडसे रास्ता निकालते हूए वहांसे जाने लगे.
    Satya

  2. #22
    सदस्य satyabrat's Avatar
    Join Date
    Apr 2011
    Location
    Nagpur
    प्रविष्टियाँ
    139
    Rep Power
    9

    Re: जासूस सैम

    अपना पिछा हो रहा है इसका अब पुरा यकिन नॅन्सी और जॉनको हो चूका था. वे दोनोभी घबराए और गडबडाए हूए थे. यह शहर उनके लिए नया था. वे उन चारोंसे बचनेके लिए जिधर रास्ता मिलता उधर जा रहे थे. चलते चलते वे एक ऐसे सुनसान जगहपर आये की जहा लोग लगभग नही के बराबर थे. वैसे रातभी काफी हो चूकी थी. यहभी एक वहां लोग ना होनेकी वजह हो सकती थी. उसने पिछे मुडकर देखा. क्रिस्तोफर और उसके दोस्त अभीभी उनका पिछा कर रहे थे. नॅन्सीका दिल धडकने लगा. जॉनकोभी कुछ सुझ नही रहा था. अब क्या किया जाए, दोनोभी इस संभ्रममे थे. वे तेजीसे चल रहे थे और उनसे जितना दुर जा सकते है उतनी कोशीश कर रहे थे. आगे रास्तेपर तो औरभी घना अंधेरा था. वे दोनो और उनके पिछे उनका पिछा कर रहे वे चार लडके इनके अलावा उनको वहां और कोईभी नही दिख रहा था.

    ''लगता है उनके खयालमें आया है की हम उनका पिछा कर रहे है '' स्टीव्हन अपने साथीयोंसे बोला.

    '' आने दो ... वह तो कभी ना कभी उनके खयालमें आनेही वाला था '' क्रिस्तोफरने बेफिक्र अंदाजमें कहा.

    '' वे बहुत डरे हूए भी लग रहे है ... '' पॉलने कहा.

    '' डरनाही तो चाहिए ... अब डरके वजहसेही अपना काम होनेवाला है... कभी कभी डरही आदमीको कमजोर बना देता है.. '' रोनॉल्डने कहा.

    जॉनने पिछे मुडकर देखा तो वे चारो तेजीसे उनकी तरफ आ रहे थे.

    '' नॅन्सी ... चलो दौडो... '' जॉन उसका हाथ पकडते हूए बोला.

    एकदुसरेका हाथ पकडकर वे अब जोरसे दौडने लगे.

    '' हमें पुलिसमें जाना चाहिए क्या ?'' नॅन्सीने दौडते हूए पुछा.

    '' अब यहां कहा है पुलिस... और अगर हम ढूंढकर गएभी ... तो वेभी हमेंही ढूंढ रहे होंगे... अबतक तुम्हारे घरवालोंने पुलिसमें रिपोर्ट दर्ज की होगी ... '' जॉन दौडते हूए किसी तरह बोल पा रहा था.

    दौडते हूए वे घने अंधेरेमे डूबे हूए एक संकरी गलीमें घुस गए. क्रिस्तोफर और उसके दोस्तभी उनके पिछेही थे. वे जब गलीमें घुसनेहीवाले थे की उतनेमे एक बडासा ट्रक रास्तेसे उनके और उस गलीके बिचमेंसे गुजर गया. वे ट्रक पास होनेतक रुक गए. और जब ट्रक पास हो चूका था तब उनको उस गलीमें कोई नही दिख रहा था. वे गलीमें घुस गए. गलीके दुसरे सिरे तक तेजीसे दौड गए. वहां रुककर उन्होने आजुबाजु देखा. लेकिन उन्हे जॉन और नॅन्सी कही नही दिखाई दे रहे थे.

    क्रिस्तोफर और उसके दोस्त इधर उधर देखते हूए एक चौराहेपर खडे हो गए. उन्हे नॅन्सी और जॉन कहीभी नही दिखाई दे रहे थे.

    '' हम सब लोग चारो तरफ फैलकर उन्हे ढूंढते है ... वे हमारे हाथसे छुटना नही चाहिए. '' क्रिस्तोफरने कहा.

    चार लोग चार दिशामे, चार रस्तेसे जाकर फैल गए और उन्हे ढूंढने लगे.

    नॅन्सी और जॉन रास्तेके किनारे पडे एक ड्रेनेज पाईपमें छिप गए थे. शायद ड्रेनेज पाईप्स नये डालनेके लिए या बदलनेके लिए वहां लाकर डाले होंगे. इतनेमे अचानक उन्हे उनकी तरफ दौडते हूए आ रहे किसीके पैरोकी आहट हो गई. वे अब वहांसे हिलभी नही सकते थे. वे अगर इस हालमें उन्हे मिले तो उनके पास करनेके लिए कुछ नही बचा था. उन्होने बिल्लीके जैसे अपनी आखे मुंदकर अपने आपको जितना हो सकता है उतना सिमटनेकी कोशीश की. इसके अलावा वे करभी क्या सकते थे. ?

    अब उनके खयालमें आया की वह दौडकर आनेवाला, उन्ही चारोंमेसे एक, अब उनके पाईपके पास पहूंच गया है. वह नजदिक आतेही जॉन और नॅन्सी एकदम शांत लगभग सांसे रोककर कुछभी हरकत ना करते हूए वैसे ही छिपे रहे. वह अब पाईपके एकदम पास आकर पहूंचा था.

    वह उन चारोंमेंसेही एक स्टीव्हन था. उसने आजुबाजु देखा.

    '' साले कहा गायब होगए ?'' वह चिढकर अपने आपसेही बुदबुदाया.

    उतनेमें स्टीव्हनका पाईपकी तरफ खयाल गया.

    जरुर साले इस पाईपमें छिपे होंगे....

    उसने अनुमान लगाया. वह पाईपके और करीब गया. वह अब झुककर पाईपमें देखनेही वाला था. इतनेमे....

    '' स्टीव... जरा इधर तो आवो .... जल्दी '' उधरसे क्रिस्तोफरने उसे आवाज दिया.

    स्टीव्हन पाईपमें झुककर देखते देखते रुक गया, उसने आवाज आया उस दिशामें देखा और मुडकर दौडते हूए उस दिशामें चला गया.

    जानेवाले पैरोंका आवाज आतेही नॅन्सी और जॉनने सुकूनकी सांस ली.
    Satya

  3. #23
    सदस्य satyabrat's Avatar
    Join Date
    Apr 2011
    Location
    Nagpur
    प्रविष्टियाँ
    139
    Rep Power
    9

    Re: जासूस सैम

    हॉटेलके एक कमरेमे नॅन्सी और जॉन बेडपर एकदुसरेके आमने सामने बैठे थे. जॉनने नॅन्सीके चेहरेपर आती बालोंके लटोंको एक तरफ हटाया.

    '' मुझे तो डरही लगा था की शायद हम उनके चंगुलमें ना फंस जाए'' नॅन्सीने कहा.

    वह अभीभी उस भयानक मनस्थीतीसे बाहर नही निकल पाई थी.

    '' देखो .. मेरे होते हूए तुम्हे चिंता करनेकी क्या जरुरत ?... मै तुम्हे कुछभी नही होने दुंगा... आय प्रॉमीस'' वह उसे सांत्वना देनेकी कोशीश करते हूए बोला.

    उसने मंद मंद मुस्कुराते हूए उसके तरफ देखा.

    सचमुछ उसे उसके इस शब्दोंसे कितना अच्छा लगा था. ...

    धीरेसे जॉन उसके पास खिसक गया. नॅन्सीने उसकी आंखोमें देखा. जॉनभी अब उसकी आंखोसे अपनी नजरे हटानेके लिए तैयार नही था. धीरे धीरे उनके सांसोकी गति बढने लगी. हलकेही जॉनने उसे अपनी बाहोंमें खिंच लिया. उसेभी मानो उसकी सुरक्षीत बाहोमें अच्छा लग रहा था.

    जॉनने धीरेसे उसे बेडपर लिटाकर उसका चेहरा अपनी हाथोंमे लेकर वह उसकी तरफ एकटक देखने लगा. धीरे धीरे उसकी तरफ झुकता गया और उसके गर्म होंठ अब उसके कांपते होंठोपर टीक गए. दोनोभी बेकाबु होकर एकदुसरेको आवेगमें चुमने लगे. इतने आवेगमेंकी वे दोनो 'धपाक' से बेडके निचे फर्शपर गिर गए. नॅन्सी निचे और उसके उपर जॉन गिर गया. दर्दसे कराहते हूए नॅन्सीने उसे दूर धकेला,

    '' मेरी क्या हड्डीयां तोडोगे? '' वह कराहते हूए बोली.

    जॉन झटसे उठ गया और उसे उपर उठानेका प्रयास करने लगा.

    '' आय ऍम सॉरी ... आय ऍम सो सॉरी '' वह बोला.

    नॅन्सीने उसे एक चांटा मारनेका अविर्भाव किया. उसनेभी डरके मारे अपनी आंखे बंद कर अपना चेहरा दुसरी तरफ हटाया. नॅन्सी मनही मन मुस्कुराई. किसी छोटे बच्चेकी तरह मासूम भाव उसके चेहरेपर उभर आए थे. उसकी इसी मासूम अदापर तो वह फिदा हूई थी. उसने उसका चेहरा अपने हाथोंमे लिया और उसकी होंठोंको वह कसकर चुमने लगी. वह भी उसी तडप, उसी आवेगके साथ जवाबमें उसे चुमने लगा. अब तो उन्होने निचे फर्शपर बिछे गालीचेसे उठकर उपर जानेकेभी जहमत नही उठाई. असलमें वे एक क्षणभी गवाना नही चाहते थे. वे निचे गालीचेपरही लेटकर एकदुसरेंके उपर चुंबनकी बरसात करने लगे. चुमनेके साथही उनके हाथ एकदुसरेके कपडे निकालनेमें व्यस्त थे. जॉन अब उसके सारे कपडे निकालकर उसमें समा जानेको बेताब हूवा था. वह धीरे धीरे बडी बडी सांसोके साथ नॅन्सीके उपर झुकने लगा. इतनेमें... इतनेंमे उनके कमरेके दरवाजेपर किसीने नॉक किया. वे मानो जैसे थे वैसे बर्फ की तरह जम गए. गडबडाकर वे एक दुसरेकी तरफ देखने लगे.

    हमें दरवाजा बजनेका आभास तो नही हुवा? ...

    तब फिरसे एकबार दरवाजेपर नॉक सुनाई दी - इसबार थोडी जोरसे.

    सर्विस बॉय तो नही होगा ...

    '' कौन है ?'' जॉनने पुछा.

    '' पुलिस ...'' बाहरसे आवाज आया.

    दोनो गालिचेसे उठकर कपडे पहनने लगे.

    पुलिस यहांतक कैसे पहूंच गई ?...

    जॉन और नॅन्सी सोचने लगे.

    उन्होने अपने कपडे पहननेके बाद जॉन सहमें हूए स्थितीमें दरवाजेतक गया. उसने फिरसे एक बार नॅन्सीकी तरफ देखा. अब इस परिस्थितीका सामना कैसे किया जाए इसकी वे मनही मन तैयारी करने लगे थे. जॉन कीहोलसे बाहर झांककर देखने लगा. लेकिन बाहर अंधेरेके सिवा कुछ नजर नही आ रहा था.

    या उस कीहोलमें कुछ प्रॉब्लेम होगा ...

    सावधानीसे, धीरेसे उसने दरवाजा खोला और दरवाजा थोडा तिरछा करते हूए बाहर झांकनेका प्रयास कर रहा था तभी ... क्रिस्तोफर, रोनॉल्ड, पॉल, और स्टीव्हन दरवाजा जोरसे धकेलते हूए कमरेमें घुस गए.

    क्या हो रहा है यह समझनेके पहलेही क्रिस्तोफरने दरवाजेको अंदरसे कुंडी लगा ली थी. किसी चित्तेकी फुर्तीसे रोनॉल्डने चाकू निकालकर नॅन्सीके गर्दनपर रख दिया और दुसरे हाथसे वह चिल्लाये नही इसलिये उसका मुंह दबाया.

    क्रिस्तोफरनेभी मानो पुर्वनियोजनकी तहत उसका चाकू निकालकर जॉनके गर्दनपर रखा और उसका मुंह दबाकर उसे दबोच लिया. मानो अब पुरी स्थिती उनके कब्जेमें आई हो इस तरहसे वे एकदुसरेकी तरफ देखकर अजीब तरहसे मुस्कुराए.

    '' स्टीव्ह इसका मुंह बांध'' क्रिस्तोफरने स्टीव्हनको आदेश दिया.

    जैसेही नॅन्सीने चिल्लानेकी कोशीश की रोनॉल्डने उसका मुंह जोरसे दबाते हुए और मजबुतीसे उसे दबोच लिया.

    '' पॉल इसकाभी बांध...''

    स्टीव्हनने जॉनका मुंह, हाथ और पैर टेपसे बांध दिया. पॉलने नॅन्सीका मुंह और हाथ बांध दीए.

    उन्होने जिस फुर्तीसे यह सब हरकतें की उससे ऐसा प्रतित हो रहा था की वे ऐसे कामोंमे बडे तरबेज हो.

    अब क्रिस्तोफरके चेहरेपर एक वहशी मुस्कुराहट छुपाए नही छुप रही थी.

    '' ए ... इसके आंखोपर कुछ बांधरे ... बेचारेसे देखा नही जाएगा. '' क्रिस्तोफरने कहा.

    स्टीव्हनने उनकेही सामानसे एक कपडा निकालकर जॉनकी आंखोपर बांध दिया. अब जॉनको सिर्फ अंधेरेके सिवा कुछ दिखाई नही दे रहा था. और सुनाई दे रहा था वह उन गिद्दोंकी वहशी और राक्षसी हंसी और नॅन्सीका दबा-दबाया हूवा चित्कार.
    Satya

  4. #24
    सदस्य satyabrat's Avatar
    Join Date
    Apr 2011
    Location
    Nagpur
    प्रविष्टियाँ
    139
    Rep Power
    9

    Re: जासूस सैम

    जॉनको एकदम सबकुछ शांत और स्थब्ध होनेका अहसास हूवा.

    '' ए उसके आंखोपर बंधा कपडा छोड रे... '' क्रिस्तोफरका चिढा हूवा स्वर गुंजा.

    जॉनको उसके आंखोपरसे कोई कपडा निकाल रहा है इसका अहसास हूवा. उसका आक्रोश आंसुओंके द्वारे बाहर निकलकर वह कपडा पुरी तरह गिला हूवा था.

    जैसेही उन्होने उसके आखोसे वह कपडा निकाला, उसने सामनेका दृष्य देखा. उसके जबडे कसने लगे, आंखे लाल लाल हो गई, सारा शरीर गुस्सेसे कांपने लगा था. वह खुदको छुडाने के लिए छटपटाने लगा. उसके सामने उसकी नॅन्सी निर्वस्त्र पडी हूई थी. उसकी गर्दन एक तरफ लटक रही थी. उसकी आंखे खुली थी और सफेद हो गई थी. उसका शरीर निश्चल हो चूका था. उसके प्राण कबके जा चूके थे.

    अचानक उसे अहसास हूवा की उसके सरपर किसी भारी वस्तूका प्रहार हूवा और वह धीरे धीरे होश खोने लगा.

    जब जॉन होशमें आया, उसे अहसास हूवा की अब वह बंधा हूवा नही था. उसके हाथ पैर बंधनसे मुक्त थे. लेकिन जहां कुछ देर पहले नॅन्सीकी बॉडी पडी हूई थी वहां अब कुछभी नही था. वह तुरंत उठकर खडा होगया, उसने चारो ओर अपनी नजर घुमाई.

    वह मुझे गिरा हूवा कोई भयानक सपनातो नही था...

    हे भगवान वह सपनाही हो...

    वह मनही मन प्रार्थना करने लगा.

    लेकिन वह सपना कैसे होगा...

    '' नॅन्सी '' उसने एक आवाज दिया.

    उसे मालूम था की उसे कोई प्रतिसाद आनेवाला नही है.

    लेकिन एक झूटी आस...

    उसके सरमें पिछेकी तरफसे बहुत दर्द हो रहा था. इसलिए उसने सरको पिछे हाथ लगाकर देखा. उसका हाथ लाल लाल खुनसे सन गया.

    उन लोगोंने प्रहार कर उसे बेसुध किया था उसका वह जख्म और निशानी थी. अब उसे पक्का विश्वास हुवा था की वह कोई सपना नही था.

    वह तेजीसे रुमके बाहर दौड पडा. बाहर इधर उधर ढूंढते हूए वह गलियारेसे दौड रहा था. वह लिफ्टके पास गया और लिफ्टका बटन दबाया. लिफ्टमें घुसनेसे पहले फिरसे उसने एक बार चारोंतरफ अपनी ढूंढती नजर दौडाई.

    कहा गए वे लोग?...

    और नॅन्सीकी बॉडी किधर है? ...

    की उन्होने लगा दिया उसे ठिकाने...

    वह हॉटलके बाहर आकर अंधेरेमें पागलोंकी तरह इधर उधर दौड रहा था. सब तरफ अंधेरा था. आधी रात होकर गई थी. रास्तेपरभी आने जानेवाले बहुतही कम दिखाई दे रहे थे. एक कोनेपर खडा एक टॅक्सीवाला उसे दिखाई दीया.

    उसे शायद पता हो...

    वह उस टॅक्सीके पास गया, टॅक्सीवालेसे पुछा. उसने दाईतरफ इशारा कर कुछ तो कहा. जॉन टॅक्सीमें बैठ गया और उसने टॅक्सीवालेको टॅक्सी उधर लेनेको कहा.

    निराश, हताश हूवा जॉन धीमे गतीसे चलता हूवा अपने रुमके पास वापस आगया. रुममें जाकर उसने अंदरसे दरवाजा बंद कर लिया.

    उसने बेडकी तरफ देखा. बेडशीटपर झुर्रिया पडी हूई थी. वह बेडपर बैठ गया.

    क्या किया जाये ?...

    पुलिसके पास जावो तो वे मुझेही गिरफ्तार करेंगे...

    और खुनका इल्जाम मुझपरही लगाएंगे...

    और वैसे देखा जाए तो मैही तो हू उसके खुनके लिए जिम्मेदार...

    सिर्फ खुनही नही तो उसपर हूए बलात्कारके लिए भी ...

    उसने अपने पैर मोडकर घूटने पेटके पास लिए और घूटनोमें अपना मुंह छिपाया. और वह फुटफुटकर रोने लगा.

    रोते हूए उसका ध्यान वही कपाटके निचे गिरें कागजके टूकडेने खिंच लिया. वह खडा होगया. अपने आंसू अपने आस्तीनसे पोंछ लिए.

    कागजका टूकडा? ... यहां कैसे ?...

    उसने वह कागजका टूकडा उठाया.

    कागजपर चार अंग्रजी अक्षर लिखे हूए थे - सी, आर, जे, एस. और उन अक्षरोंके सामने कुछ नंबर्स लिखे हूए थे. शायद वे कोई पत्तोके गेमके पॉईंट्स होंगे...

    उसने वह कागज उलट पुलटकर देखा. कागजके पिछे एक नंबर था. शायद मोबाईल नंबर होगा.

    वह दृढतापुर्वक खडा हो गया -

    '' ऍसहोल्स ... मै तुम्हे छोडूंगा नही '' वह गरज उठा.
    Satya

  5. #25
    सदस्य satyabrat's Avatar
    Join Date
    Apr 2011
    Location
    Nagpur
    प्रविष्टियाँ
    139
    Rep Power
    9

    Re: जासूस सैम

    .... डिटेक्टीव्ह सॅम डिटेक्टीव बेकरके सामने बैठकर सब सुन रहा था. वह कबकी कहानी पुरी कर चूका था. लेकिन वह दर्दभरी कहानी सुनकर कमरेमें सारे लोग इतने द्रवित और अभिभूत हो गए थे की बहुत देर तक कोई कुछ नही बोला. कमरेमें एक अनैसर्गीक सन्नाटा छाया था.

    एक प्रेम कहानीका ऐसा भयानक दर्दनाक अंत होगा? ....

    किसीने नही सोचा था.

    नॅन्सी और जॉनकी प्रेमकहानी कॅबिनमें उपस्थीत सभी लोगोंके दिलको छु गई थी.

    थोडी देर बाद डिटेक्टीव सॅमने अपनी भावनाओंको काबुमें करते हूए पुछा,

    '' क्या जॉनने पुलिस स्टेशनमें रिपोर्ट दर्ज की थी ?"'

    '' नही ''

    '' फिर ... यह सब तुम्हे कैसे पता ?''

    '' क्योंकी नॅन्सीका भाई ... जॉर्ज कोलीन्सने रिपोर्ट दर्ज की थी. ''

    '' लेकिन उसनेभी रिपोर्ट कैसे दर्ज की ? ... मेरा मतलब है उसे वह सबकुछ पता कैसे चला? ... क्या जॉन उसे मिला था ? '' सॅमने एकके बाद एक सवालोकी छडी लगा दी.

    ''नही ... जॉन उसे उस घटनाके बाद कभी नही मिला.. .'' बेकरने कहा.

    '' फिर उसे खुनी कौन है यह कैसे पता चला ?'' सॅमको अब उसे सता रहे सारे सवालोंके जवाब मिलनेकी जल्दी हो रही थी.

    '' कुछ महिने पहले जॉनने नॅन्सीके भाईको इस घटनाके बारेमें खत लिखकर सब जानकारी लिखी थी... उसमें उसने उन चार लोगोंके नाम पते भी लिखे थे. ...''

    '' फिर रिपोर्टका नतिजा क्या निकला ?'' सॅमने अगला सवाल पुछा.

    ''... इस केसपर हमनेही तहकिकात की थी... लेकिन ना नॅन्सीकी डेड बॉडी मिली थी ... ना जॉन मिला जो की इस घटना का अकेला और बहुत अहम चश्मदीद गवाह था... इसलिए केस बिना कुछ नतिजेके वैसीही लटकी रही ... और अभीभी वैसीही लटकी पडी है... ''

    '' अच्छा ... जॉनका कुछ अता पता ?'' सॅमने पुछा.

    '' उसके बारेमें किसीकोभी कुछ पता नही चला... उस घटनाके बाद वह कभी उसके अपने घरभी नही आया ... वह जिंदा है या मरा ... इसकाभी कुछ पता नही चला... सिर्फ उसके जॉनको आए खतसे ऐसा लगता है की वह जिंदा होना चाहिए... लेकिन अगर वह जिंदा है तो छिप क्यो रहा है? ... यही एक बात समझमें नही आती.....''

    '' उसका कारण सिधा है ... '' इतनी देरसे ध्यान देकर सुन रहे सॅमके साथीने कहा.

    '' हां ....उसका एकही कारण हो सकता है की ... हालहीमें जो दो कत्ल हूए उसमें जॉनकाही हाथ हो सकता है.. और इसलिएही मैने तुम्हे यहां बुलाकर यह सब जानकारी तुम्हे देना मुनासीब समझा ...'' बेकरने कहा.

    '' बराबर है तुम्हारा... इस खुनमें जॉनका हाथ हो सकता है ऐसा मान लेनेकी काफी गुंजाईश है... लेकिन मुझे एक बात समझमें नही आती है की ... जब वह कमरा या मकान अंदरसे और सब तरफसे बंद होता है तब वह खुनी अंदर पहूंचता कैसे है ? ... वह सारे कत्ल कैसे कर रहा है यह एक ना सुलझनेवाली पहेली बन चूकी है ''

    '' अच्छा जब नॅन्सीके भाईको इस घटनाके बारेमें पता चला तो उसकी प्रतिक्रीया क्या थी ? ... और अब केसके नतिजेमें देरी हो रही है इसके बारेंमे उसकी प्रतिक्रिया कैसी है ?''

    '' वह आदमी पागलोंजैसा हो चूका है ... इस पुलिस स्टेशनमें उसकी हमेशा चक्कर रहती है... और केसका आगे क्या हूवा यह वह हमेशा पुछता रहता है ... वह यह सब फोन करकेभी पुछ सकता है ... लेकिन नही वह खुद यहां आकर पुछता है ... मुझे तो उसपर बहुत तरस आता है ... लेकिन अपने हाथमें जितना है उतनाही हम कर सकते है... '' बेकरने कहा.

    '' इसका मतलब हालहीमें जो दो खुन हूए उसका कातिल नॅन्सीका भाई जॉर्जभी हो सकता है .. '' सॅम ने कहा.

    '' आपने उसे देखना चाहिए... उसकी तरफ देखकर तो ऐसा नही लगता... '' बेकरने कहा.

    '' लेकिन यह एक संभावना है जिसे हम झुटला नही सकते ...'' सॅमने प्रतिवाद किया.

    डिटेक्टीव बेकरने थोडी देर सोचा और फिर हांमे अपना सर हिलाया.
    Satya

  6. #26
    सदस्य satyabrat's Avatar
    Join Date
    Apr 2011
    Location
    Nagpur
    प्रविष्टियाँ
    139
    Rep Power
    9

    Re: जासूस सैम

    लगभग आधी रातको रोनॉल्ड और क्रिस्तोफर हॉलमें व्हिस्की पी रहे थे. एकके बाद एक उनके दो साथीयोंका कत्ल हूवा था. पहली बार जब स्टिव्हनका खुन हूवा तभी उन्हे शक हूवा था की हो न हो यह मामला नॅन्सीके खुनसे संबधीत है. लेकिन बादमें पॉलके कत्लके बाद उनका शक यकीनमें बदल गया था की यह नॅन्सीके खुनकी वजहसेही हो रहा है. कुछ भी हो जाए हम घबराएंगे नही ऐसा ठान लेनेके बादभी उनको रह रहकर अगला नंबर उन दोनोंमेंसेही कीसी एक का स्पष्ट रुपसे दिख रहा था. इसलिए उनके चेहरेंसे चिंता और डर हटनेके लिए तैयार नही था. वे व्हिस्कीके एक के बाद एक न जाने कितने ग्लास खाली कर रहे थे और अपना डर मिटानेकी कोशीश कर रहे थे.

    '' मैने नही कहा था तुम्हे ?'' किस्तोफरने आवेशमे आकर कहा.

    रोनॉल्डने प्रश्नार्थक मुद्रामे उसकी तरफ देखा.

    '' उस साले हरामीको जिंदा मत छोड करके ... उसको हमने तभी ठिकाने लगाना चाहिए था... उस लडकीके साथ...'' क्रिस्तोफर व्हिस्कीका कडवा घूंट लेते हूए बुरासा मुंह बनाते हूए बोला.

    उन्हे शक नही ... पक्का यकिन था की जॉनकाही इन दो वारदातोंमे हाथ होगा.

    '' हमें लगा नही की साला इतना डेंजरस निकलेगा ...'' रोनॉल्डने कहा.

    '' बदला ... बदला आदमीको डेंजरस बना देता है. '' क्रिस्तोफरने कहा.

    '' लेकिन एक बात मेरे खयालमें नही आ रही है की वह सारे कत्ल कैसे कर रहा है ... पुलिस जब वहां पहुचती है तब घर अंदरसे बंद किया हूवा रहता है और बॉडी अंदर पडी हूई... और यही नही तो पॉलके गलेका तोडा हूवा मांसका टूकडा मेरे किचनमें कैसे आया?.. और खास बात तब मैने मेरा घर... खिडकीयां, दरवाजे सबकुछ अच्छी तरहसे बंद किया था. '' रोनॉल्ड आश्चर्य जताते हूए बोला.

    रोनॉल्ड कही शून्यमे देखकर सोचते हूए बोला,

    '' यह सब देखते हूए एक बात मुमकीन लगती है ...''

    '' कौनसी ?'' क्रिस्तोफरने व्हिस्कीका खाली हूवा ग्लास भरते हूए पुछा.

    '' तूम्हारा भूतोंपर विश्वास है ?'' रोनॉल्डने बोले या ना बोले इस मनकी व्दीधा स्थीतीमें पुछा.

    '' मुरखकी तरह कुछभी मत बको.... उसके पास कुछतो ट्रीक है जिसको इस्तमाल करके वह इस तरहसे कत्ल कर रहा है ... '' क्रिस्तोफरने कहा.

    '' मुझेभी वही लगता है ... लेकिन कभी कभी अलग अलग तरहके शक मनमें आते है '' रोनॉल्डने कहा.

    '' चिंता मत करो... वह हमारे तक पहूंचनेके पहलेही हम उसके पास पहूंचते है और उसको ठिकाने लगाते है... '' क्रिस्तोफर उसे सांत्वना देनेकी कोशीश करते हूए बोला.

    '' हमें पुलिस प्रोटेक्शन लेना चाहिए'' रोनॉल्डने सोचकर कहा.

    '' पुलिस प्रोटेक्शन? ... पागल होगए हो क्या ?... हम उन्हे क्या बोलने वाले है ... की भले आदमीयों हमने उस लडकीको मारा है.... हमारेसे गलती होगई.... सॉरी ... ऐसी गलती हमारेसे फिर नही होगी.... कृपया हमारा रक्षण किजिए ..'' क्रिस्तोफर दारुके नशेमें माफी मांगनेके हावभाव करते हूए बोला.

    '' वह बादकी बात होगई... पहले अपना प्रोटेक्शन सबसे अहम है... वह क्या है की ...सर सलामत तो पगडी पचास'' रोनॉल्डने कहा.

    '' लेकिन पुलिसके पास जाकर उनसे प्रोटेक्शन मांगना ... कुछ... ''

    पोलिस प्रोटेक्शनका खयाल आतेही रोनॉल्ड अपने डरसे काफी उभर गया था.

    '' उसकी चिंता तूम मत करो... वह सब मुझपर छोड दो'' रोनॉल्डने उसका वाक्य बिचमेंही तोडते हुए बडे आत्मविश्वाससे कहा.
    Satya

  7. #27
    सदस्य satyabrat's Avatar
    Join Date
    Apr 2011
    Location
    Nagpur
    प्रविष्टियाँ
    139
    Rep Power
    9

    Re: जासूस सैम

    डिटेक्टीव्ह सॅम अपने कॅबिनमें सर निचा झूकाकर सोचमे डूबा हूवा बैठा था. इतनेमें, जेफ, उसका ज्यूनिअर टीम मेंबर वहा आगया.

    '' सर ... वह कातिल कत्लके जगह कैसे पहूंचता होगा और फिर कैसे बाहर जाता होगा ... इसके बारेंमे मेरे दिमागमें एक आयडीया आया है '' जेफने उत्साहभरे स्वरमें कहा.

    सॅमने अपना सिर उपर उठाया और जेफ की तरफ देखा.

    जेफ दरवाजेके बाहर गया और उसने दरवाजा खिंचकर बंद किया.

    '' सर देखिए अब '' वह बाहरसे जोरसे चिल्लाया.

    डिटेक्टीवने देखा की दरवाजेकी अंदरकी कुंडी धीरे धीरे खिसककर बंद होगई. सॅम भौंचक्कासा देखता ही रह गया.

    '' सर आपने देखा क्या ?'' उधरसे जेफका आवाज आया.

    फिर धीरे धीरे दरवाजेकी कुंडी दुसरी तरफ खिसकने लगी और थोडीही देरमें कुंडी खुल गई.

    सॅमको बहुत आश्चर्य हो रहा था.

    जेफ दरवाजा खोलकर अंदर आया, उसके हाथमें पिछेकी ओर कुछतो छिपाया हूवा था.

    '' तुमने यह कैसे किया ? '' सॅमने आश्चर्ययुक्त उत्सुकतासे पुछा.

    जेफने एक बडासा मॅग्नेट अपने पिछे छूपाया था वह निकालकर सॅमके सामने टेबलपर रख दिया.

    '' यह सब करामात इस चूंबककी है क्योंकी वह दरवाजेकी कुंडी लोहेकी बनी हूई है...'' जेफने कहा.

    '' जेफ फॉर यूवर काइंड इन्फॉर्मेशन... घटनास्थलपर मिली सब दरवाजेकी कुंडीया ऍल्यूमिनियम की थी. '' सॅमने उसे बिचमें टोकते हूए कहा.

    '' ओह... ऍल्यूमिनीयमकी थी.'' फिर और कोई आयडीया दिमागमें आयेजैसे उसने कहा, '' कोई बात नही... उसका हलभी है मेरे पास ... ''

    सॅमने अविश्वाससे उसकी तरफ देखा.

    जेफने अपने गलेमें पहना एक स्टोन्सका नेकलेस निकालकर उसका धागा तोड दिया, सब स्टोन्स एक हाथमें लेकर उसमेंसे पिरोया हूवा नायलॉनका धागा दुसरे हाथसे खिंच लिया. उसने हाथमें जमा हूए सारे स्टोन्स जेबमें रख दिए. अब उसके दुसरे हाथमें वह नॉयलॉनका धागा था.

    डिटेक्टीव सॅम असंमजसकी स्थीतीमें उसकी तरफ वह क्या कर रहा है यह देखने लगा.

    '' अब देखीए यह दूसरा आयडीया .. आप सिर्फ मेरे साथ कमरेके बाहर आईए'' जेफने कहा.

    सॅम उसके पिछे पिछे जाने लगा.

    जेफ दरवाजेके पास गया. दरवाजेके कुंडीमें उसने वह नॉयलॉनका धागा अटकाया. धागेके दोनो सिरे एक हाथमें पकडकर उसने सॅमसे कहा, '' अब आप दरवाजेसे बाहर जाइए ''

    सॅम दरवाजेके बाहर गया. जेफभी अब धागेके दोनो सिरे एक हाथमें पकडकर दरवाजेसे बाहर आगया. और उसने दरवाजा खिंच लिया.

    दरवाजा बंद था लेकिन वह धागा जो जेफके हाथमें था दरवाजेके दरारसे अबभी अंदर की कुंडीको अटकाया हूवा था. जेफने धीरे धीरे उस धागेके दोनो सिरे खिंच लिए और फिर धागेका एक सिरा हाथसे छोडकर दुसरे सिरेके सहारे धागा खिंच लिया. पुरा धागा अब जेफके हाथमें था.

    '' अब दरवाजा खोलकर देखीए '' जेफने सॅमसे कहा.

    सॅमने दरवाजा धकेलकर देखा और आश्चर्यकी बात दरवाजा अंदरसे बंद था.

    सॅम भौंचक्कासा जेफकी तरफ देखने लगा.

    '' अब मुझे पुरा विश्वास होने लगा है ....'' सॅमने कहा.

    '' किस बातका?'' जेफने पुछा.

    '' की इस नौकरीके पहले तूम कौनसे धंधे करते होंगे...'' सॅमने मजाकमें कहा.

    दोनो एकदुसरेकी तरफ देख मुस्कुराए.

    '' लेकिन एक बता'' सॅमने कहा.

    जेफने प्रश्नार्थक मुद्रामें सॅमकी तरफ देखा.

    '' की अगर दरवाजेको अंदरसे अगर ताला लगा हो तो ?'' सॅमने पुछा.

    '' नही ... उस हालमें ... फिर एकही संभावना है'' जेफने कहा.

    '' कौनसी?''

    '' की वह दरवाजा खोलनेके लिए किसी अमानवी शक्तीकाही होना जरुरी है '' जेफने कहा.
    Satya

  8. #28
    सदस्य satyabrat's Avatar
    Join Date
    Apr 2011
    Location
    Nagpur
    प्रविष्टियाँ
    139
    Rep Power
    9

    Re: जासूस सैम

    पोलिस स्टेशनके कॉन्फरंन्स रुममें मिटींग चल रही थी. सामने दिवारपर टंगे हूए सफेद स्क्रिनपर प्रोजेक्टरसे एक लेआऊट डायग्राम प्रोजेक्ट किया था. उस डायग्राममें दो मकानके लेआऊट एक के पास एक ऐसे निकाले हूए दिख रहे थे. लाल लेजर पॉईंटर का इस्तेमाल कर डिटक्टीव सॅम सामने बैठे लोगोंको अपने प्लानकी जानकारी दे रहा था....


    '' मि. क्रिस्तोफर ऍन्डरसन और मि. रोनॉल्ड पार्कर ...'' सॅमने शुरवात की. सामने बाकी पुलिसके लोगोंके साथ क्रिस्तोफर और रोनॉल्ड बैठे हूए थे. वे लोग सॅम जो कुछ जानकारी दे रहा था वह ध्यान देकर सुन रहे थे.

    '' .. आपके घरमें इस जगह हम कॅमेरे बिठाने वाले है. बेडरुममें तिन और घरमें दुसरे जगह तिन ऐसे कुल मिलाकर छे कॅमेरे दोनो घरमें बिठाए जाएंगे. वह कॅमेरे सर्किट टिव्हीको जोड दिए जाएंगे जहां हमारी टीम घरके सारी हरकतोंपर लगातार नजर रखी हूई होगी.

    '' आपको लगता है इससे कुछ होगा ?'' क्रिस्तोफर रोनॉल्डके कानमें व्यंगतापुर्वक फुसफुसाया.

    रोनॉल्डने क्रिस्तोफरकी तरफ देखा और कुछ प्रतिक्रिया व्यक्त नही की और फिर सॅमसे पुछा, '' अगर खुनी कॅमेरेंसे दूर रहा तो ?''

    '' जन्टलमन हम घरमें मुव्हीग कॅमेरे लगाने वाले है .. जिसकी वजहसे आपका पुरा घर हमारी टीमके निगरानीके निचे रहने वाला है. ... और हां ... मै आपको विश्वास दिलाता हूं की यह सबसे कारगर और इफेक्टीव्ह उपाय हम खुनीको पकडनेके लिए इस्तेमाल कर रहे है ... कातिलने अगर अंदर घुसनेकी कोशीश की तो वह किसीभी हालतमें हमसे बच नही पाएगा... हमारे टेक्टीकल टिमने रात दिन काफी मशक्कत कर यह ट्रॅप तैयार किया है ... ''

    '' अच्छा वह सब ठिक है ... और अगर इतना करनेके बाद अगर कातिल आपके हाथोंमे आता है तो आप उसके साथ क्या करने वाले हो? '' क्रिस्तोफरने पुछा.

    '' जाहिर है हम उसे कोर्टके सामने पेश करेंगे ...और कानुनके हिसाबसे जोभी शिक्षा उसे ठिक लगे वह कोर्ट तय करेगा '' सॅमने कहा.

    '' और अगर वह छूटकर भाग गया तो ?'' क्रिस्तोफरने आगे पुछा.

    "" जैसे नॅन्सीके कातिल उसका खुन कर भाग गए वैसे ' एक पुलिसने व्यंगपुर्वक कहा.

    क्रिस्तोफर और रोनॉल्डने उसकी तरफ गुस्सेसे देखा.

    '' तुम्हे क्या हम खुनी लगते है ? '' रोनॉल्डने उस पुलिसको गुस्सेसे प्रतिप्रश्न किया.

    '' याद रखो अबतक हमें कोर्ट गुनाहगार साबित नही कर पाया है '' क्रिस्तोफर गुस्सेसे चिढकर बोला.

    '' मि. रोनॉल्ड पार्कर, मि. क्रिस्तोफर ऍन्डरसन ... इझी ... इझी ... मुझे लगता है हम असली मुद्देसे भटकते जा रहे है ... फिलहाल असली मुद्दा है की आप लोगोंको संरंक्षण कैसे दिया जाए ... आप लोग नॅन्सीके खुनके लिए जिम्मेदार हो या नही यह बादका मुद्दा हूवा ..'' सॅम ने उन्हे शांत करनेके उद्देशसे कहा.

    '' आप लोगभी पहले हमारे संरक्षण के बारेमें सोचो.... बाकी बाते बादमें देखी जायेगी '' क्रिस्तोफर अधिकार वाणीसे , खांसकर उस पुलिस अधिकारीके तरफ देखकर बोला, जिसने उसे छेडा था. उस पुलिस अधिकारीको इन दो लोगोंके संरक्षणके लिए तैनात टीममे शामील किया था यह बात कुछ खल नही रही थी. सॅमनेभी उस पुलिस अधिकारीको शांत रहनेका इशारा किया. वह अधिकारी गुस्सेसे उठकर वहांसे चला गया. उसके जानेसे मौहोल थोडा ठंडा हो गया और सॅम फिरसे अपनी योजनाके बारेंमे सब लोगोंको विस्तृत जानकारी देने लगा.

    क्रिस्तोफर और रोनॉल्ड पुलिस उनका संरक्षण कर पाएंगे की नही इसके बारेमें अभीभी संदिग्ध थे. लेकिन उन्हे उनके संरक्षणकी जिम्मेदारी उनपर सौपनेके अलावा दुसरा कुछ चाराभी तो नही था.
    Satya

  9. #29
    सदस्य satyabrat's Avatar
    Join Date
    Apr 2011
    Location
    Nagpur
    प्रविष्टियाँ
    139
    Rep Power
    9

    Re: जासूस सैम

    पोलिस स्टेशनमें डिटेक्टीव्ह सॅमके खाली कुर्सीके सामने एक आदमी बैठा हूवा था. सॅम जल्दी जल्दी वहां आकर अपनी कुर्सीपर बैठ गया.

    '' हां ... तो आपके पास इस केसके संदर्भमें कुछ महत्वपुर्ण जानकारी है ?...'' सॅमने पुछा.

    '' हां साब ''

    सॅमने एकबार उस आदमीको उपरसे निचेतक देखा और फिर वह क्या बोलता है यह सुनने लगा.

    '' साब हमारे पडोसमें वह लडकी नॅन्सी, जिसका खुन होगया ऐसा बोलते है, उसका भाई रहता है....'' उस आदमीने शुरवात की और वह आगे पुरी कहानी कथन करने लगा ....


    ... एक चालमें एक घर था. उस घरको चारो तरफ कांचकी खिडकीयां ही खिडकीया थी. इतनीकी उस घरमें क्या चल रहा है वह पडोसीकोभी पता चले. एक खिडकीसे हॉलमें नॅन्सीका भाई जॉर्ज बैठा हूवा दिख रहा था. अब वह पहलेसे कुछ जादाही अजीब और पागल जैसा लग रहा था. दाढी बढी हूई, बाल बिखरे हूए. मस्तकपर एक बडासा कीसी चिजका टीका लगा हूवा. वह फायरप्लेसके सामने हाथमें एक कपडेका गुड्डा लेकर बैठा हूवा था. शायद वह गुड्डा उसनेही बनाया हूवा होगा. बगलमें रखे प्लेटसे उसने हाथसे कुछ उठाया और वह कुछ तंत्र-मंत्र जैसे शब्द बुदबुदाने लगा,

    '' ऍबस थी बा रास केतिन स्तता...''

    उसने प्लेटसे जो उठाया था वह सामने फायरप्लेसके आगमें फेंक दिया. आग भडक उठी. फिरसे वह वैसेही कुछ विचित्र तंत्र-मंत्र बोलने लगा.

    '' कॅटसी... नतंदी.. वाशंर्पत... रेर्वरात स्तता...''

    फिरसे उसने उस प्लेटसे धान जैसा कुछ अपने हाथमें उठाकर उस आगके स्वाधीन किया. इस बार आग और जोरसे भडक उठी.

    उसने अपने हाथसे वह गुड्डा वही बगलमें रख दिया. आगके सामने झुककर, फर्शपर अपना मस्तक घिसा.


    एक आदमी पडोससे जॉर्जके घरमें क्या चलरहा है यह उत्सुकतावश देख रहा था.


    मस्तक घिसनेके बाद जॉन उठकर खडा हूवा और अजिब तरहसे जोरसे चिखा. जो पडोससे झांककर देख रहा था वहभी एक पलके लिए डर और सहम गया. जॉनने झुककर बगलमें रखा हूवा वह गुड्डा उठाया और फिरसे एकबार जोरसे अजिब तरहसे चिल्लाया. सब तरफ एक अजीब, अद्भूत सन्नाटा छा गया.

    '' अब तू मरनेके लिए तैयार हो जा स्टीव्हन..'' जॉर्जने उस गुड्डेसे कहा.

    '' नही ... नही ... मुझे मरना नही है इतने जल्दी... जॉर्ज मै तुम्हारे पैर पडता हू... मुझे माफ कर दे... आय ऍम सॉरी... मैने जो किया वह गलत किया... मुझे अब उसका अहसास हो गया है... मै तुम्हारे लिए तुम जो कहोगे वह करुंगा.... लेकिन मुझे माफ कर दो.... '' जॉर्ज मानो वह गुड्डा बोल रहा है वैसे उस गुड्डेके संवाद बोल रहा था.

    '' तुम मेरे लिए कुछभी कर सकते हो? ... तुम मेरे बहनको वापस ला सकते हो?'' जॉर्जने अब उसके खुदके संवाद बोले.

    '' नही ... मै वह कैसे कर सकता हूं ?... वह अगर मेरे हाथमें होता तो मै जरुर करता... वह एक चिज छोडकर कुछ भी मांगो... मै तुम्हारे लिए करुंगा... '' जॉर्ज गुड्डेके संवाद बोलने लगा. .

    ''अछा... तो फिर अब... मरनेके लिए तैयार हो जावो... '' जॉर्जने उस गुड्डेसे कहा.


    वह पडोसका आदमी अबभी जॉर्जके खिडकीसे छुपकर अंदर झांक रहा था.


    आधी रात होकर उपर काफी समय गुजर चूका था. बाहर रास्तेपर कोईभी दिख नही रहा था. जॉर्ज धीरेसे अपने घरसे बाहर आया. चारो ओर एक नजर घुमाई. उसके हाथमें एक थैली थी जिसमें उसने वह गुड्डा ठूंस दिया. और दरवाजेको ताला लगाकर वह बाहर निकल गया. कंपाऊंडके बाहर आते हूए उसने फिरसे अपनी पैनी नजर चारोओर दौडाई. सामने रास्तेपर जिधर देखो उधर अंधेराही अंधेरा छाया हूवा दिख रहा था. अब रास्ते से वह तेजीसे अपने कदम बढाते हूए चलने लगा. उस पडोसके आदमीने अपने खिडकीसे छूपकर जॉनको बाहर जाते हूए देख लिया. जैसेही जॉर्ज रास्तेपर आगे चलने लगा वह आदमी अपने घरसे बाहर आ गया. वह आदमी उसे कुछ आहट ना हो या वह उसे दिखाई ना दे इसका खयाल रख रहा था. जॉर्ज तेजीसे अपने कदम आगे बढाते हूए चल रहा था. जॉर्ज काफी आगे निकल जानेके बाद वह आदमी उसका पिछा करते हूए उसके पिछे पिछे जाने लगा.

    वह आदमी जॉर्जका पिछा करते हूए कब्रस्तानतक पहूंच गया. कब्रस्तानके आसपास घने पेढ थे. शायद उसी पेढोंमे छुपकर उल्लू मुर्दोंकी राह देखते होंगे. कही दूर कुत्तोंकें रोनेजैसी अजीबसी आवाजें आ रही थी. उस आदमीको इस सारे मौहोलका डर लग रहा था. लेकिन उसे जॉर्ज यहा किसलिए आया है यह जानना था. जॉर्ज कब्रस्तानमें घुस गया और वह आदमी बाहरही कंपाऊंड वॉलके पिछे छूपकर जॉर्ज क्या कर रहा है यह देखने लगा. चांदके रोशनीमें उस आडमीको जॉर्जका साया दिख रहा था. जॉर्जने एक जगह तय की और वह वहा खोदने लगा. एक गड्डा खोदनेके बाद उसने उसके थैलीसे वह गुड्डा निकाला. उस गुड्डेको जॉर्जने ऐसा दफन किया की मानो वह गुड्डा ना होकर कोई शव हो. वह उपरसे मट्टी डालने लगा और मट्टी डालते वक्तभी उसका कुछ मंत्र तंत्र जैसा बुदबुदाना अबभी जारी था. उस गुड्डेके उपर मट्टी डालनके बाद जब वह गड्डा मट्टीसे भर गया तो जॉर्ज उस मट्टीपर खडा होकर उसे अपने पैरोसे दबाने लगा... .


    ... वह आदमी कथन कर रहा था और डिटेक्टीव सॅम ध्यान देकर सुन रहा था. उस आदमीने आगे कहा -

    '' दुसरे दिन जब मुझे पता चला की स्टीव्हनका कत्ल हो चूका है तब मुछे विश्वासही नही हुवा ''

    काफी देर तक कोई कुछ नही बोला. अब इन सारी बातोंने एक नयाही मोड लिया था.

    सॅम सोचने लगा.

    '' तुम्हे क्या लगता है जॉर्ज खुनी होगा?'' सॅमने अपने इन्व्हेस्टीगेटरक भूमीकामें प्रवेश करते हूए पुछा.

    '' नही .. मुझे लगता है की वह उसका काला जादू इन सारे कत्ल करनेके लिए इस्तेमाल करता होगा.... क्योंकी जिस दिन पॉलका कत्ल हूवा उसके पहले दिन रातको जॉर्जने वैसाही एक गुड्डा बनाकर उसे कब्रस्तानमें दफन किया था. '' उस आदमीने कहा.

    '' तुम इन सारी चिजोंमे विश्वास रखते हो.?'' सॅमने थोडा व्यंगात्मक ढंगसेही पुछा.

    '' नही .. मै विश्वास नही रखता ... लेकिन जो अपनी खुली आंखोंसे सामने दिख रहा हो उन चिजोंपर विश्वास रखनाही पडता है '' उस आदमीने कहा.

    डिटेक्टीव्ह सॅमका पार्टनर जो इतनी देरसे दूरसे सब उनकी बाते सुन रहा था, चलते हूए उनके पास आकर बोला -

    '' मुझे पहलेही शक था की कातिल कोई आदमी ना होकर कोई रुहानी ताकद है ''

    सारे कमरेंमे एक अनैसर्गीक सन्नाटा फैल गया.

    '' अब उसने और एक नया गुड्डा बनाया हूवा है '' उस आदमीने कहा.
    Satya

  10. #30
    सदस्य satyabrat's Avatar
    Join Date
    Apr 2011
    Location
    Nagpur
    प्रविष्टियाँ
    139
    Rep Power
    9

    Re: जासूस सैम

    जॉर्जके मकानके खिडकीसे अंदरका सबकुछ दिख रहा था. आजभी वह फायरप्लेसके सामने बैठा हूवा था. उसने अपने हाथसे वह गुड्डा बगलमें जमीनपर रख दिया और झुककर आगके सामने फर्शपर अपना मस्तक रगडने लगा. यह सब करते हूए उसका कुछ बुदबुदाना जारीही था. थोडी देरसे वह खडा होगया और अजीब ढंगसे जोरसे किसी पागल की तरह चिखा. इतना अचानक और जोरसे चिखा की बाहर खिडकीसे झांक रहे डिटेक्टीव सॅम, सॅमका पार्टनर और उनको साथमें जो लेकर आया था वह आदमी, सबलोग चौंककर सहमसे गए. उस चिखके बाद वातावरणमें एक अजीब भयानक सन्नाटा छा गया.

    '' मिस्टर रोनॉल्ड पार्कर अब तुम्हारी बारी है .. '' जॉर्ज वह निचे रखा हूवा गुड्डा अपने हाथमें लेते हूए बोला.

    लेकिन इतनेमें दरवाजेकी बेल बजी. जॉर्जने पलटकर दरवाजेकी तरफ देखा. गुड्डेको फिरसे निचे जमिनपर रख दिया और उठकर दरवाजा खोलनेके लिए सामने आ गया.

    दरवाजा खोला. सामने डिटेक्टीव सॅम और उसका पार्टनर था. वह तिसरा आदमी शायद वहांसे पहलेही खिसक गया था.

    '' मिस्टर जॉर्ज कोलीन्स हम आपको स्टीव्हन स्मीथ और पॉल रोबर्टसके कत्लका एक सस्पेक्टके तौरपर गिरफ्तार करने आये है... आपको चूप रहनेका पुरी तरह हक है ... और कुछ बोलनेके पहले आप अपने वकिलके साथ संपर्क कर सकते है ... और खयाल रहे की आप जोभी बोलोगे वह कोर्टमें आपके खिलाफ इस्तेमाल किया जाएगा... '' डिटेक्टीव सॅमने दरवाजा खोलेबराबर ऐलान कर दिया.

    जॉर्ज कोलीन्सका चेहरा एकदम भावशून्य था. वह बडे इम्तीनानके साथ उनके सामने आ गया.

    उसे अरेस्ट करनेके पहले सॅमने कुछ सवालात पुछनेकी ठान ली.

    '' यहा आपके साथ कौन-कौन रहता है?'' सॅमने पहला सवाल पुछा.

    '' मै अकेलाही रहता हू '' उसने जवाब दिया.

    '' लेकिन हमारे जानकारीके अनुसार आपके साथ आपके पिताजीभी रहते थे. ''

    '' हां रहते थे ...लेकिन.... अब वे इस दुनियामें नही रहे ''

    '' ओह ... सॉरी... यह कब हूवा? ... मतलब वे कब गुजर गए ?''

    '' नॅन्सीके मौत की खबर सुननेके बाद कुछ दिनमेंही वे चल बसे ''

    '' अच्छा आप स्टिव्हन और पॉलको पहचानते थे क्या ?''

    '' हां उन हैवानोंको मै अच्छी तरहसे पहचानता हूं ''

    स्टिव्हन और पॉलका नाम लेनेके बाद सॅमने एक बात गौर की की उनके उपरका गुस्सा और द्वेश उसके चेहरेपर साफ झलक रहा था. या फिर उसने वह छिपानेकी कोशीशभी नही की थी.

    अब सॅमने सिधे असली मुद्देपर उससे बात करनेकी ठान ली.

    '' आपने स्टिव्हन और पॉलका खुन किया क्या ?''

    '' हां '' उसने ठंडे स्वरमें कहा.

    सॅमको लगा था की वह आनाकानी करेगा. लेकिन उसने कुछभी आनाकानी ना करते हूए सिधे बात कबूल कर ली. .

    '' कैसे किया आपने उनका कत्ल ?'' सॅमने अगला सवाल पुछा.

    '' मेरे पासके काले जादूसे मैने उन्हे मार दिया '' उसने कहा.

    जॉर्ज पागल की तरह दिखता तो थाही लेकिन उसके इस जवाबसे सॅमको अब विश्वास हो चला था.

    '' आपके इस काले जादूसे आप किसीकोभी मारकर बता सकते हो?'' सॅमने व्यंगात्मक ढंगसे पूछा.

    '' किसीकोभी मै क्यों मारुंगा?... जिसकी मुझसे दुष्मनी है उसकोही मै मारुंगा ''

    '' अब आगे आप इस काले जादूसे किसको मारने वाले हो ?''

    '' अब रोनॉल्डका नंबर है ''

    '' अब अभी इसी वक्त आप उसे मारकर बता सकते हो ?'' सॅमने उसका काला जादू और वह दोनोंकाभी झूट साबीत करनेके उद्देशसे पुछा.

    '' अब नही ... उसका वक्त जब आएगा तब उसे जरुर मारुंगा '' उसने कहा.

    उसका यह जवाब सुनकर सॅमको अब फिलहाल उसे और सवाल पुछनेमें कोई दिलचस्पी नही रही थी. वे दोनो जॉर्जको हथकडी पहनानेके लिए सामने आ गए. इस बारभी उसने कोई प्रतिकार ना करते हूए पुरा सहयोग किया.

    सॅमको लग रहा था की या तो यह आदमी पागल होगा या अति चालाक...

    लेकिन वह जो कहता है वह अगर सच हो तो ?...

    पल भरके लिए क्यों ना हो सॅमके दिमागमें यह विचार कौंध गया ..

    नही ... ऐसे कैसे हो सकता है ?...

    सॅमने अपने दिमागमें आया विचार झटक दिया.


    डिटेक्टीव सॅमके पार्टनरने जॉर्जको जेलके एक कोठरीमें बंद किया और बाहरसे ताला लगाया. सॅम बाहरही खडा था. जैसेही सॅम और उसका पार्टनर वहांसे जानेके लिए मुडे, जॉर्ज आवेशमें आकर चिल्लाया -

    '' तुम लोग मुरख हो... भलेही तुमने मुझे जेलके इस कोठरीमें बंद किया फिरभी मेरा जादू यहांसेभी काम करेगा...''

    सॅम और उसका पार्टनर रुक गए और मुडकर जॉर्जकी तरफ देखने लगे.

    सॅमको जॉर्जकी अब दया आ रही थी.

    बेचारा ...

    बहनका इस तरहसे दुर्दैवी अंत होनेसे उसका इस तरह झुंझलाना जायज है ...

    सॅम सोचते हूए फिरसे अपने साथीके साथ आगे चलने लगा. थोडी दूरी तय करनेके बाद फिरसे मुडकर उसने जॉर्जकी तरफ देखा. वह अब निचे झुककर फर्शपर माथा रगड रहा था और साथमें कुछ मंत्र बुदबुदा रहा था.

    '' इसके उपर ध्यान रखो और इसे किसीभी व्हिजीटरको मिलनेकी अनुमती मत दो. '' सॅमने निर्देश दिया.

    '' यस सर'' सॅमका पार्टनर आज्ञाकारी ढंगसे बोला.


    क्रमश:...
    Satya

Page 3 of 6 प्रथमप्रथम 12345 ... LastLast

Thread Information

Users Browsing this Thread

There are currently 1 users browsing this thread. (0 members and 1 guests)

Similar Threads

  1. जासूस क्रूक-बांड के मजाकिया कॉमिक्स
    By BHARAT KUMAR in forum कार्टून कोर्नर
    Replies: 23
    अन्तिम प्रविष्टि: 10-10-2015, 01:46 PM
  2. Replies: 17
    अन्तिम प्रविष्टि: 24-12-2012, 12:03 AM

Tags for this Thread

Bookmarks

Posting Permissions

  • You may not post new threads
  • You may not post replies
  • You may not post attachments
  • You may not edit your posts
  •