Page 5482 of 5487 FirstFirst ... 4482498253825432547254805481548254835484 ... LastLast
Results 54,811 to 54,820 of 54869

Thread: चौपाल चर्चा

  1. #54811
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,100
    Quote Originally Posted by superidiotonline View Post
    मतलब आप समझ नहीं पाए ये क्या चीज़ है?
    इसे सिर्फ़ अनीता जी ही बता सकती हैं।

  2. #54812
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,100
    पर उपदेश कुशल बहुतेरे।
    जे आचरहिं ते नर न घनेरे।।

    —गोस्वामी तुलसीदास


    दूसरों को उपदेश देना तो बहुत आसान होता है किन्तु स्वयं उन उपदेशों पर अमल करना अत्यन्त कठिन होता है। वर्तमान समय में उपदेशक अधिक है, अमलकर्ता नहीं। यदि व्यक्ति स्वयं आदर्शों का पालन करने लग जाए तो उसे उपदेश देने की ज़रूरत नहीं होगी।

    दूसरे शब्दों में दूसरों को उपदेश देना आसान होता है। जैसे हम स्वयं कुछ और काम करते हैं और दूसरों को उपदेश कुछ और देते हैं। उस उपदेश पर यदि स्वयं चलना हो तो हम नहीं चलते। इसी को कहते हैं- 'पर उपदेश कुशल बहुतेरे'। तुलसीदासकृत यह आधी चौपाई अब एक मुहावरा बन चुका है।

  3. #54813
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,100
    Quote Originally Posted by superidiotonline View Post
    पर उपदेश कुशल बहुतेरे।
    जे आचरहिं ते नर न घनेरे।।

    —गोस्वामी तुलसीदास


    दूसरों को उपदेश देना तो बहुत आसान होता है किन्तु स्वयं उन उपदेशों पर अमल करना अत्यन्त कठिन होता है। वर्तमान समय में उपदेशक अधिक है, अमलकर्ता नहीं। यदि व्यक्ति स्वयं आदर्शों का पालन करने लग जाए तो उसे उपदेश देने की ज़रूरत नहीं होगी।

    दूसरे शब्दों में दूसरों को उपदेश देना आसान होता है। जैसे हम स्वयं कुछ और काम करते हैं और दूसरों को उपदेश कुछ और देते हैं। उस उपदेश पर यदि स्वयं चलना हो तो हम नहीं चलते। इसी को कहते हैं- 'पर उपदेश कुशल बहुतेरे'। तुलसीदासकृत यह आधी चौपाई अब एक मुहावरा बन चुका है।
    कोविड-१९ के बारे में चाय की दूकानों पर महाज्ञान बाँटने वाले ज्ञानियों के साथ कुछ ऐसा ही हो रहा है।

  4. #54814
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,100
    Quote Originally Posted by superidiotonline View Post
    कोविड-१९ के बारे में चाय की दूकानों पर महाज्ञान बाँटने वाले ज्ञानियों के साथ कुछ ऐसा ही हो रहा है।
    महाज्ञानी खुद कोरोना के लपेटे में आ रहे हैं..

  5. #54815
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,100
    Quote Originally Posted by superidiotonline View Post
    महाज्ञानी खुद कोरोना के लपेटे में आ रहे हैं..
    शहर में ढ़ाई लाख आशिकों वाली गर्लफ्रेंड ने कोई ज्ञान नहीं बाँटा..

    4 महीना घर पर बैठी रही और कोरोना के लपेटे में नहीं आई..

    हैरानी की बात ये रही कि साल में 6 बार मेहमान की तरह नियमित रूप से आने वाला सर्दी-जुकाम-बुखार-खाँसी भी रफूचक्कर हो गया!

  6. #54816
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,100
    हमने भी कोई ज्ञान नहीं बाँटा..

    4 महीना जितना बन सका पैदल टहलते रहे..

    बस जान-पहिचान और दोस्तों-यारों को दूर से ललकारते रहे- 'ख़बरदार.. पास आने की कोशिश न करिएगा। नहीं तो २० साल की दोस्ती दुश्मनी में बदलते देर न लगेगी!'

    अन्ततः हम भी कोरोना के लपेटे से बचे रहे।

  7. #54817
    कर्मठ सदस्य MahaThug's Avatar
    Join Date
    Aug 2016
    Posts
    1,349
    सभी मित्रो को साष्टांग दंदवत् प्रणाम। आशा है सभी स्वस्थ और सुरक्षित होंगे। बहुत समय बाद यहां आना हुआ और आप सभी को देख कर प्रसन्नता हुई!
    महाठग आप ठगाईए, ओर न ठगिए कोय । आप ठगें सुख ऊपजे, ओर ठगें दुःख होय ॥

  8. #54818
    सदस्य anita's Avatar
    Join Date
    Jun 2009
    Posts
    34,044
    Quote Originally Posted by MahaThug View Post
    सभी मित्रो को साष्टांग दंदवत् प्रणाम। आशा है सभी स्वस्थ और सुरक्षित होंगे। बहुत समय बाद यहां आना हुआ और आप सभी को देख कर प्रसन्नता हुई!

    प्रणाम महाठग जी

    कैसे है आप ?

    स्वागत है आपका
    सभी उपस्थित मित्रो से निवेदन है फोरम पे कुछ न कुछ योगदान करे,अपनी रूचि के अनुसार किसी भी सूत्र में अपना योगदान दे सकते है,या फिर आप भी कोई नया सूत्र बना सकते है

  9. #54819
    कर्मठ सदस्य MahaThug's Avatar
    Join Date
    Aug 2016
    Posts
    1,349
    Quote Originally Posted by anita View Post
    प्रणाम महाठग जी

    कैसे है आप ?

    स्वागत है आपका
    मैं बिलकुल मजे में हुं। आप कैसी है? आपको फिर से चौपाल पर देख कर खुशी हुई!
    महाठग आप ठगाईए, ओर न ठगिए कोय । आप ठगें सुख ऊपजे, ओर ठगें दुःख होय ॥

  10. #54820
    सदस्य anita's Avatar
    Join Date
    Jun 2009
    Posts
    34,044
    Quote Originally Posted by MahaThug View Post
    मैं बिलकुल मजे में हुं। आप कैसी है? आपको फिर से चौपाल पर देख कर खुशी हुई!

    मैं तो आती रहती हूँ चौपाल पे

    आप ही बहुत अंतराल बाद आये है

    नियमित तौर पे आया करे
    सभी उपस्थित मित्रो से निवेदन है फोरम पे कुछ न कुछ योगदान करे,अपनी रूचि के अनुसार किसी भी सूत्र में अपना योगदान दे सकते है,या फिर आप भी कोई नया सूत्र बना सकते है

Page 5482 of 5487 FirstFirst ... 4482498253825432547254805481548254835484 ... LastLast

Posting Permissions

  • You may not post new threads
  • You may not post replies
  • You may not post attachments
  • You may not edit your posts
  •