Page 2 of 2 प्रथमप्रथम 12
Results 11 to 16 of 16

Thread: चन्द्रधर शर्मा 'गुलेरी' (3 कहानियाँ )

  1. #11
    कर्मठ सदस्य sajan love's Avatar
    Join Date
    Apr 2014
    Location
    हमारा ठिकाना गुलाबी डगर है
    प्रविष्टियाँ
    1,617
    Rep Power
    7
    रोती-रोती सूबेदारनी ओबरी मे चली गयी। लहनासिंह भी आँसू पोछता हुआ बाहर आया।

    -- वजीरासिंह, पानी पिला -- उसने कहा था।

    लहना का सिर अपनी गोद मे रखे वजीरासिंह बैठा है। जब मांगता है, तब पानी पिला देता है। आध घंटे तक लहना फिर चुप रहा, फिर बोला-- कौन? कीरतसिंह?

    वजीरा ने कुछ समझकर कहा-- हाँ।

    -- भइया, मुझे और ऊँचा कर ले। अपने पट्ट पर मेरा सिर रख ले।

    वजीरा ने वैसा ही किया ।

    -- हाँ, अब ठीक है। पानी पिला दे। बस। अब के हाड़ मे यह आम खूब फलेगा। चाचा-भतीजा दोनों यहीँ बैठकर आम खाना। जितना बड़ा तेरा भतीजा है उतना ही बड़ा यह आम, जिस महीने उसका जन्म हुआ था उसी महीने मैने इसे लगाया था।

    वजीरासिंह के आँसू टप-टप टपक रहे थे। कुछ दिन पीछे लोगों ने अख़बारो में पढ़ा---

    फ्रांस और बेलजियम-- 67वीं सूची-- मैदान मे घावों से मरा -- न. 77 सिख राइफल्स जमादार लहनासिंह ।
    14 एप्रिल को अपने बाबा का जन्मदिन है
    [Only Registered and Activated Users Can See Links. Click Here To Register...]

  2. #12
    कर्मठ सदस्य sajan love's Avatar
    Join Date
    Apr 2014
    Location
    हमारा ठिकाना गुलाबी डगर है
    प्रविष्टियाँ
    1,617
    Rep Power
    7
    पाठशाला

    चन्द्रधर शर्मा 'गुलेरी'
    14 एप्रिल को अपने बाबा का जन्मदिन है
    [Only Registered and Activated Users Can See Links. Click Here To Register...]

  3. #13
    कर्मठ सदस्य sajan love's Avatar
    Join Date
    Apr 2014
    Location
    हमारा ठिकाना गुलाबी डगर है
    प्रविष्टियाँ
    1,617
    Rep Power
    7
    पाठशाला का वार्षिकोत्सव था। मैं भी वहाँ बुलाया गया था। वहाँ के प्रधान अध्यापक का एकमात्र पुत्र, जिसकी अवस्था आठ वर्ष की थी, बड़े लाड़ से नुमाइश में मिस्टर हादी के कोल्हू की तरह दिखाया जा रहा था। उसका मुँह पीला था, आँखें सफ़ेद थीं, दृष्टि भूमि से उठती नहीं थी। प्रश्न पूछे जा रहे थे। उनका वह उत्तर दे रहा था। धर्म के दस लक्षण सुना गया, नौ रसों के उदाहरण दे गया। पानी के चार डिग्री के नीचे शीतलता में फैल जाने के कारण और उससे मछलियों की प्राण–रक्षा को समझा गया, चंद्रग्रहण का वैज्ञानिक समाधान दे गया, अभाव को पदार्थ मानने, न मानने का शास्त्रार्थ कर गया और इंग्लैंड के राजा आठवें हेनरी की स्त्रियों के नाम और पेशवाओं का कुर्सीनामा सुना गया।
    यह पूछा गया कि तू क्या करेगा? बालक ने सिखा–सिखाया उत्तर दिया कि मैं यावज्जन्म लोकसेवा करूँगा। सभा ‘वाह वाह’ करती सुन रही थी, पिता का हृदय उल्लास से भर रहा था।
    एक वृद्ध महाशय ने उसके सिर पर हाथ फेरकर आशीर्वाद दिया और कहा कि जो तू ईनाम मांगे, वही दें। बालक कुछ सोचने लगा। पिता और अध्यापक इस चिंता में लगे कि देखें, यह पढ़ाई का पुतला कौन–सी पुस्तक मांगता है।
    14 एप्रिल को अपने बाबा का जन्मदिन है
    [Only Registered and Activated Users Can See Links. Click Here To Register...]

  4. #14
    कर्मठ सदस्य sajan love's Avatar
    Join Date
    Apr 2014
    Location
    हमारा ठिकाना गुलाबी डगर है
    प्रविष्टियाँ
    1,617
    Rep Power
    7
    बालक के मुख पर विलक्षण रंगों का परिवर्तन हो रहा था, हृदय में कृत्रिम और स्वाभाविक भावों की लड़ाई की झलक आँखों में दीख रही थी। कुछ खाँसकर, गला साफ कर नकली परदे के हट जाने से स्वयं विस्मित होकर बालक ने धीरे से कहा, ‘‘लड्डू।’’

    पिता और अध्यापक निराश हो गए। इतने समय तक मेरा वास घुट रहा था। अब मैंने सुख की सांस भरी। उन सबने बालक की प्रवृत्तियों का गला घोंटने में कुछ उठा नहीं रखा था, पर बालक बच गया। उसके बचने की आशा है, क्योंकि वह ‘लड्डू’ की पुकार जीवित वृक्ष के हरे पत्तों का मधुर मर्मर था, मरे काठ की आलमारी की सिर दुखानेवाली खड़खड़ाहट नहीं।
    14 एप्रिल को अपने बाबा का जन्मदिन है
    [Only Registered and Activated Users Can See Links. Click Here To Register...]

  5. #15
    कर्मठ सदस्य sajan love's Avatar
    Join Date
    Apr 2014
    Location
    हमारा ठिकाना गुलाबी डगर है
    प्रविष्टियाँ
    1,617
    Rep Power
    7
    जन्मांतर कथा

    चन्द्रधर शर्मा 'गुलेरी'
    14 एप्रिल को अपने बाबा का जन्मदिन है
    [Only Registered and Activated Users Can See Links. Click Here To Register...]

  6. #16
    कर्मठ सदस्य sajan love's Avatar
    Join Date
    Apr 2014
    Location
    हमारा ठिकाना गुलाबी डगर है
    प्रविष्टियाँ
    1,617
    Rep Power
    7
    एक कहिल नामक कबाड़ी था, जो काठ की कावड़ कंधे पर लिए-लिए फिरता था। उसकी सिंहला नामक स्त्री थी। उसने पति से कहा कि देवाधिदेव-युगादिदेव की पूजा करो, जिनसे जन्मांतर में दारिद्रय-दुख न पावें। पति ने कहा-- तू धर्म-गहली (पगली) हुई है, पर सेवक मैं क्या कर सकता हूँ? तब स्त्री ने नदी-जल और फूल से पूजा की। उसी दिन वह विषूचिका (हैजा) से मर गई और जन्मांतर में राजकन्या और राजपत्नी हुई। अपने नए पति के साथ उसी दिन मंदिर में आई तो उसी पूर्व पति दरिद्र कबाड़िए को वहाँ देखकर मूर्च्छित हो गई। उसी समय जातिस्मर (जिसे अपने पूर्व जन्म का हाल याद हो)होकर उसने एक दोहे में कहा-- जंगल की पत्ती और नदी का जल सुलभ था तो भी तू नहीं लाया। हाय! तेरे तन पर कपड़ा भी नहीं है और मैं रानी हो गई।
    कबाड़ी ने स्वीकार करके जन्मांतर कथा की पुष्टि की।
    14 एप्रिल को अपने बाबा का जन्मदिन है
    [Only Registered and Activated Users Can See Links. Click Here To Register...]

Page 2 of 2 प्रथमप्रथम 12

Thread Information

Users Browsing this Thread

There are currently 1 users browsing this thread. (0 members and 1 guests)

Similar Threads

  1. भूत प्रेत की कहानियां
    By Amigo. in forum रहस्य और रोमांच
    Replies: 188
    अन्तिम प्रविष्टि: 11-08-2018, 09:56 PM
  2. झुकी कमान / चंद्रधर शर्मा 'गुलेरी'
    By INDIAN_ROSE22 in forum हिंदी कविताएँ तथा उर्दू साहित्य
    Replies: 2
    अन्तिम प्रविष्टि: 28-03-2015, 06:11 PM
  3. Replies: 6
    अन्तिम प्रविष्टि: 11-01-2013, 05:22 PM
  4. कुछ खास कहानियाँ
    By jai 123 in forum साहित्य एवम् ज्ञान की बातें
    Replies: 77
    अन्तिम प्रविष्टि: 07-02-2012, 01:58 PM
  5. लघु कहानियां
    By "Hamsafar+" in forum साहित्य एवम् ज्ञान की बातें
    Replies: 6
    अन्तिम प्रविष्टि: 08-06-2011, 10:19 AM

Bookmarks

Posting Permissions

  • You may not post new threads
  • You may not post replies
  • You may not post attachments
  • You may not edit your posts
  •