loading...
Page 1 of 21 12311 ... LastLast
Results 1 to 10 of 203

Thread: मेरी तन्हाई में मेरी हमसफ़र मेरी शायरी

  1. #1
    सदस्य anita's Avatar
    Join Date
    Jun 2009
    प्रविष्टियाँ
    28,982
    Rep Power
    300

    मेरी तन्हाई में मेरी हमसफ़र मेरी शायरी

    loading...
    किसी ने मुझसे इस मंच पे मेरी गजल की इल्तजा की थी|


    आज ना जाने क्यों ये दिल बहुत तन्हा है, बहुत उदास है, इस तन्हाई में मेरा साथ देने फिर चली आई मेरी सबसे अच्छी हमसफ़र मेरी शायरी










    निवेदन:

    इस सूत्र को सिर्फ मेरा ही बने रहने दे

    धन्यवाद




    Shero Shayari
    Urdu Shayari
    Tanhai
    Sher
    Last edited by anita; 04-01-2016 at 03:45 PM.
    सभी उपस्थित मित्रो से निवेदन है फोरम पे कुछ न कुछ योगदान करे,अपनी रूचि के अनुसार किसी भी सूत्र में अपना योगदान दे सकते है,या फिर आप भी कोई नया सूत्र बना सकते है

  2. #2
    सदस्य anita's Avatar
    Join Date
    Jun 2009
    प्रविष्टियाँ
    28,982
    Rep Power
    300
    'नूर' आज दिल बहुत उदास है

    लगता है आज फिर तू मेरे पास है
    Last edited by anita; 07-02-2016 at 01:01 AM.
    सभी उपस्थित मित्रो से निवेदन है फोरम पे कुछ न कुछ योगदान करे,अपनी रूचि के अनुसार किसी भी सूत्र में अपना योगदान दे सकते है,या फिर आप भी कोई नया सूत्र बना सकते है

  3. #3
    सदस्य anita's Avatar
    Join Date
    Jun 2009
    प्रविष्टियाँ
    28,982
    Rep Power
    300
    अहसास-ए-दिल मेरे है मेरी ग़ज़ल
    लिखा हर हर्फ़ पे तेरा नाम है मेरी ग़ज़ल

    जिन्दगी का हर नगमा है मेरी ग़ज़ल
    शाम-ओ-सहर का हर पल है मेरी ग़ज़ल

    मेरी मोहब्बत का पैगाम है मेरी ग़ज़ल
    मेरी रुसवाईयो का सैलाब है मेरी ग़ज़ल

    मेरी तन्हाईयों का आलम है मेरी ग़ज़ल
    'नूर' मेरी हमसफ़र है मेरी ग़ज़ल
    Last edited by anita; 07-02-2016 at 01:02 AM.
    सभी उपस्थित मित्रो से निवेदन है फोरम पे कुछ न कुछ योगदान करे,अपनी रूचि के अनुसार किसी भी सूत्र में अपना योगदान दे सकते है,या फिर आप भी कोई नया सूत्र बना सकते है

  4. #4
    सदस्य anita's Avatar
    Join Date
    Jun 2009
    प्रविष्टियाँ
    28,982
    Rep Power
    300
    जिन्दगी तेरे बिन बहुत सूनी सूनी है

    इस दयार में न जाने क्यों बहुत वीरानी है
    Last edited by anita; 16-02-2017 at 12:07 AM.
    सभी उपस्थित मित्रो से निवेदन है फोरम पे कुछ न कुछ योगदान करे,अपनी रूचि के अनुसार किसी भी सूत्र में अपना योगदान दे सकते है,या फिर आप भी कोई नया सूत्र बना सकते है

  5. #5
    सदस्य anita's Avatar
    Join Date
    Jun 2009
    प्रविष्टियाँ
    28,982
    Rep Power
    300
    इन अश्को में राज कितने गहरे है

    रुखसार पे जाने क्यों ठहरे है
    Last edited by anita; 07-02-2016 at 01:02 AM.
    सभी उपस्थित मित्रो से निवेदन है फोरम पे कुछ न कुछ योगदान करे,अपनी रूचि के अनुसार किसी भी सूत्र में अपना योगदान दे सकते है,या फिर आप भी कोई नया सूत्र बना सकते है

  6. #6
    सदस्य anita's Avatar
    Join Date
    Jun 2009
    प्रविष्टियाँ
    28,982
    Rep Power
    300
    यू तो जीतती रही 'नूर' सबकुछ
    पर तेरे आगे हार गयी सबकुछ

    इस मोहब्बत में कह गयी सबकुछ
    तुमको अपना बना दिया सबकुछ
    Last edited by anita; 07-02-2016 at 01:03 AM.
    सभी उपस्थित मित्रो से निवेदन है फोरम पे कुछ न कुछ योगदान करे,अपनी रूचि के अनुसार किसी भी सूत्र में अपना योगदान दे सकते है,या फिर आप भी कोई नया सूत्र बना सकते है

  7. #7
    सदस्य anita's Avatar
    Join Date
    Jun 2009
    प्रविष्टियाँ
    28,982
    Rep Power
    300
    वो दिल में उतरते है यू धीरे धीरे

    खंजर उतरता है सीने में यू धीरे धीरे
    Last edited by anita; 07-02-2016 at 01:03 AM.
    सभी उपस्थित मित्रो से निवेदन है फोरम पे कुछ न कुछ योगदान करे,अपनी रूचि के अनुसार किसी भी सूत्र में अपना योगदान दे सकते है,या फिर आप भी कोई नया सूत्र बना सकते है

  8. #8
    सदस्य anita's Avatar
    Join Date
    Jun 2009
    प्रविष्टियाँ
    28,982
    Rep Power
    300
    तन्हा मैं यू रह न सकी
    उसके आगे अश्को को छुपा न सकी

    सदा-ए-दिल-ए-दर्दमंद मैं गा न सकी
    ख़त लिखे जो उसके नाम उसे पढ़ा न सकी
    सभी उपस्थित मित्रो से निवेदन है फोरम पे कुछ न कुछ योगदान करे,अपनी रूचि के अनुसार किसी भी सूत्र में अपना योगदान दे सकते है,या फिर आप भी कोई नया सूत्र बना सकते है

  9. #9
    सदस्य anita's Avatar
    Join Date
    Jun 2009
    प्रविष्टियाँ
    28,982
    Rep Power
    300
    मोहब्बत की दीवानगी को समझो जरा
    हमारी इस बंदगी को समझो जरा

    जो लबो से कह न सके वो समझो जरा
    इन अश्को से लिखी इबारत को समझो जरा

    इबादत कुछ ऐसे की है वो समझो जरा
    तन्हाई मेरे इर्द गिर्द कैसी है समझो जरा

    'नूर' माल-ए-मोहब्बत क्या है समझो जरा
    आवाज-ए-पा आती है दूर से समझो जरा




    माल-ए-मोहब्बत: मोहब्बत का अंजाम
    आवाज-ए-पा:कदमो की आवाज
    सभी उपस्थित मित्रो से निवेदन है फोरम पे कुछ न कुछ योगदान करे,अपनी रूचि के अनुसार किसी भी सूत्र में अपना योगदान दे सकते है,या फिर आप भी कोई नया सूत्र बना सकते है

  10. #10
    सदस्य anita's Avatar
    Join Date
    Jun 2009
    प्रविष्टियाँ
    28,982
    Rep Power
    300
    मुद्दतो वो मेरे घर नहीं आया

    महफिल में था नज़र नहीं आया
    Last edited by anita; 07-02-2016 at 01:03 AM.
    सभी उपस्थित मित्रो से निवेदन है फोरम पे कुछ न कुछ योगदान करे,अपनी रूचि के अनुसार किसी भी सूत्र में अपना योगदान दे सकते है,या फिर आप भी कोई नया सूत्र बना सकते है

Page 1 of 21 12311 ... LastLast

Thread Information

Users Browsing this Thread

There are currently 1 users browsing this thread. (0 members and 1 guests)

Similar Threads

  1. मेरी डायरी
    By virat143 in forum रहस्य और रोमांच
    Replies: 22
    अन्तिम प्रविष्टि: 11-09-2013, 04:48 PM
  2. मेरी मदद करें ...
    By The ROYAL "JAAT'' in forum क्या कैसे करें !
    Replies: 774
    अन्तिम प्रविष्टि: 19-12-2012, 02:54 PM
  3. मेरी मदद करे
    By Devil khan in forum आओ समय बिताएँ
    Replies: 13
    अन्तिम प्रविष्टि: 15-09-2012, 05:57 PM
  4. मेरी मदत करें ?
    By miss.dabangg in forum कंप्यूटर (संगणक)
    Replies: 112
    अन्तिम प्रविष्टि: 08-12-2011, 03:56 PM
  5. मेरी मदत कर भाई जी
    By pangagang2 in forum मोबाइल
    Replies: 7
    अन्तिम प्रविष्टि: 05-12-2011, 03:43 PM

Bookmarks

Posting Permissions

  • You may not post new threads
  • You may not post replies
  • You may not post attachments
  • You may not edit your posts
  •