Results 1 to 6 of 6

Thread: पेन किलर से हृदय को खतरा

  1. #1
    वरिष्ठ नियामक Krishna's Avatar
    Join Date
    Jul 2012
    Location
    Hakenkreuz Soft-Tech
    प्रविष्टियाँ
    6,402
    Rep Power
    19

    पेन किलर से हृदय को खतरा

    हांजी हो सकता है पेन किलर से हृदय को खतरा

    सामान्य दर्द निवारक दवाओं की हाई डोज का लंबे समय तक सेवन दिल के दौरे के जोखिम को बढ़ा देता है। ताजा वैज्ञानिक अध्ययनों में पाया गया है कि दर्द निवारक दवाइयों का सेवन करने वाले लोगों में से 30 प्रतिशत लोगों को पहली बार दिल के दौरे पड़ने के एक साल के भीतर दूसरी बार दिल के दौरे पड़ने अथवा या अन्य दिल की अन्य बीमारियों के कारण मौत होने का खतरा होता है।

  2. #2
    वरिष्ठ नियामक Krishna's Avatar
    Join Date
    Jul 2012
    Location
    Hakenkreuz Soft-Tech
    प्रविष्टियाँ
    6,402
    Rep Power
    19
    क्या कहती है शोध

    ब्रिटिश मेडिकल जर्नल की रिपोर्ट के अनुसार इन दवाओं के सेवन से दिल की धड़कन के अनियमित होने का खतरा 40 प्रतिशत तक बढ़ जाता है। यही नहीं चिकित्सक की सलाह के बगैर इन दवाइयों के इस्तेमाल से किडनी की समस्याएं, पेट में अल्सर और रक्तस्राव होने जैसे गंभीर दुष्प्रभाव हो सकते हैं। कई दर्दनिवारक दवाइयों के लंबे समय तक इस्तेमाल करने से न सिर्फ लीवर और किडनी के खराब होने का खतरा रहता है। खांसी और जुकाम जैसी आम बीमारी में इस्तेमाल की जाने वाली दवा फिनाइलप्रोपेनोले ाइलन को भी अगर बिना डॉक्टर के परामर्श के खाया जाए तो इससे दिल का दौरा भी पड़ सकता है।

  3. #3
    वरिष्ठ नियामक Krishna's Avatar
    Join Date
    Jul 2012
    Location
    Hakenkreuz Soft-Tech
    प्रविष्टियाँ
    6,402
    Rep Power
    19




  4. #4
    वरिष्ठ नियामक Krishna's Avatar
    Join Date
    Jul 2012
    Location
    Hakenkreuz Soft-Tech
    प्रविष्टियाँ
    6,402
    Rep Power
    19
    ध्यान रखी जाने योग्य बातें :

  5. #5
    वरिष्ठ नियामक Krishna's Avatar
    Join Date
    Jul 2012
    Location
    Hakenkreuz Soft-Tech
    प्रविष्टियाँ
    6,402
    Rep Power
    19
    जब तक हो सके, दर्द सहन कर लें। पेनकिलर का इस्तेमाल मजबूरी में ही करें। पेनकिलर लेने की वजह से अगर पेट दर्द होता है, तो सबसे पहले उस पेनकिलर का इस्तेमाल बंद कर दें। एक एंटैसिड (डाइजीन, जिनटैक आदि) लें और डॉक्टर से सलाह लें। कोई भी पेनकिलर बेस्ट नहीं है, सिर्फ किसी का असर कम साइड इफेक्ट के साथ ज्यादा हो सकता है। दिल, बीपी, डायबीटीज और किडनी के मरीजों को बिना डॉक्टर की सलाह के कोई पेनकिलर नहीं लेना चाहिए। खाली पेट बिल्कुल न लें। कई तरह के पेनकिलर्स को खाली पेट लेने से किडनी, लिवर और पेट को नुकसान हो सकता है।

  6. #6
    वरिष्ठ नियामक Krishna's Avatar
    Join Date
    Jul 2012
    Location
    Hakenkreuz Soft-Tech
    प्रविष्टियाँ
    6,402
    Rep Power
    19
    इबूप्रोफेन और एस्पिरिन जैसी दर्द निवारक गोलियों का सेवन अनियमित ह्वदय गति का कारण बन सकता हैं। इन गोलियों के सेवन से दिल की धडकन के अनियमित होने का खतरा 40 प्रतिशत तक बढ जाता है।

    जरूरत से ज्यादा लेने पर पेनकिलर्स घातक हो सकती हैं। कहा जाता है कि एक साल तक पेनकिलर्स को रोज इस्तेमाल किया जाए, तो ये बेहद नुकसानदायक हो सकती हैं।

Thread Information

Users Browsing this Thread

There are currently 1 users browsing this thread. (0 members and 1 guests)

Similar Threads

  1. इसे पहचानें हृदय कैंसर के शुरूआती लक्षण
    By Krishna in forum हृदय स्‍वास्‍थ्‍य
    Replies: 5
    अन्तिम प्रविष्टि: 12-11-2015, 02:03 PM
  2. कवि का हृदय
    By INDIAN_ROSE22 in forum रविंदर नाथ टैगोर
    Replies: 1
    अन्तिम प्रविष्टि: 20-03-2015, 05:02 PM
  3. माता का हृदय
    By xman in forum मुंशी प्रेमचंद
    Replies: 5
    अन्तिम प्रविष्टि: 18-03-2015, 11:45 AM
  4. Replies: 11
    अन्तिम प्रविष्टि: 21-02-2015, 08:43 PM
  5. Replies: 14
    अन्तिम प्रविष्टि: 15-02-2015, 12:36 PM

Bookmarks

Posting Permissions

  • You may not post new threads
  • You may not post replies
  • You may not post attachments
  • You may not edit your posts
  •