Page 2 of 2 FirstFirst 12
Results 11 to 18 of 18

Thread: लग्न भाव में पाँच ग्रहों की युति - उपद्रवी भीड़ या प्रबुद्ध पञ्चायत?

  1. #11
    कर्मठ सदस्य uttarakhandi's Avatar
    Join Date
    Jul 2012
    Posts
    2,301
    रजत जी के इस रूप से मैं अभी तक अनजान था ।





    Quote Originally Posted by Rajat Vynar View Post


    हमने कब कहा- आपका नाम फंडेमून है? हमारी बातें 'जटिल' और 'भ्रामक' सिर्फ उनके लिए लगती है जो मिल्की-वे के निवासी नहीं हैं।

    अब आते हैं काम की बात पर। अब इतने सालों बाद एक कुण्डली लेकर इस मंच पर आई हो तो अवश्य कोई ज़रूरी बात होगी। ऐसे तो आओगी नहीं। जैसा कि अशोक जी ने बताया जातक 36+ या 66+ का हो सकता है। तो हम यह बता दें कि वर्ष 1950 में ग्रहों की यह स्थिति बन ही नहीं सकती थी, क्योंकि उस समय राहु मीन राशि में था। गणना के अनुसार ग्रहों की यह पंचायत वर्ष 1980 में बनी थी। और बारीकी से यदि देखा जाए तो यह कुंडली 21 से 23 मई 1980 के बीच की है और जन्म समय 11:40 AM से 1:10 PM के बीच का है, क्योंकि मई में ही सूर्य वृष राशि में रहता है और 21 मई से 23 मई के बीच चन्द्रमा सिंह राशि में था तथा सिंह लग्न उपरोक्त दिए गए समय के मध्य था। इस जानकारी से जन्म समय का तो अनुमान हो गया, किन्तु सटीक कुण्डली बना पाना नामुमकिन है। फिर भी इस कुण्डली से जो जानना चाहती हो वो साफ-साफ पूछे बगैर अशोक जी न बता पाएँगे। इसके लिए मिल्की-वे का ही कोई ज्योतिषी चाहिए।

    ध्यान से सुनो- इस जातक की बुद्धि भ्रष्ट है। अहंकारी है। शीघ्र क्रोध आता है। जातक की रुचि खेल-कूद में जन्म से है। अतः जातक लम्बी कूद और ऊँची कूद का बहुत बड़ा पुराना खिलाड़ी है, फिर भी मैराथन दौड़ के लिए बिल्कुल उपयुक्त नहीं है।

    धन्यवाद।
    ख़मोशी से अदा हो रस्म-ए-दूरी
    कोई हंगामा बरपा क्यूँ करें हम

  2. #12
    कर्मठ सदस्य uttarakhandi's Avatar
    Join Date
    Jul 2012
    Posts
    2,301
    अशोक जी , रजत जी कृपया चर्चा जारी रखें । अब तो उत्सुकता अपने चरम पर है ।
    ख़मोशी से अदा हो रस्म-ए-दूरी
    कोई हंगामा बरपा क्यूँ करें हम

  3. #13
    ज्योतिषाचार्य ashok-'s Avatar
    Join Date
    Jul 2009
    Posts
    1,689
    Rajat byanar जी मैंने कुण्डली बना कर ही बताया हैं ।६६की बात तो मैंने यूही लिखा था । यह कुंडली 21.5.80 time 11.56 am की हैं । धन्यवाद।

  4. #14
    कर्मठ सदस्य uttarakhandi's Avatar
    Join Date
    Jul 2012
    Posts
    2,301
    Quote Originally Posted by ashok- View Post
    Rajat byanar जी मैंने कुण्डली बना कर ही बताया हैं ।६६की बात तो मैंने यूही लिखा था । यह कुंडली 21.5.80 time 11.56 am की हैं । धन्यवाद।
    हे भगवान , कुंडली कितने राज़ समेटे होती है ।
    ख़मोशी से अदा हो रस्म-ए-दूरी
    कोई हंगामा बरपा क्यूँ करें हम

  5. #15
    कांस्य सदस्य Rajat Vynar's Avatar
    Join Date
    Oct 2014
    Posts
    5,751
    Quote Originally Posted by uttarakhandi View Post
    अशोक जी , रजत जी कृपया चर्चा जारी रखें । अब तो उत्सुकता अपने चरम पर है ।
    इस सूत्र पर चर्चा खत्म हुई। हमने अपना फलादेश कर दिया और सूत्र लेखक ने पढ़ भी लिया।
    http://tinyurl.com/ardalib

    WRITERS are UNACKNOWLEDGED LEGISLATORS of the SOCIETY!

  6. #16
    नवागत
    Join Date
    Oct 2016
    Posts
    14
    Quote Originally Posted by ashok- View Post
    FundayMoon जी आपके दिए हुए कुंडली अनुसार जातक की ३६ + की उम्र होगी या ६६ + की उम्र होगी | इनके जन्म स्थान के पास कुआँ होगा | इनके सर के सामने के हिस्से में बाल कम होगे यानि कपाल का हिस्सा चौड़ा होगा | वैवाहिक जीवन अच्छा नही होगा| इनके मकान में दो या तीन परिवार एक साथ होगे या joint फैमली होगे | घर के सामने वाला रास्ता पूर्व से पश्चिम की ओर होगा |
    पहले ऊपर लिखे बातो के बारे में बताये फिर आगे बताता हूँ | धन्यवाद |
    अशोक जी, मैं रजत जी की जन्म समय की गणना के साथ जाना चाहूँगी क्योंकि जातक की उम्र ६६+ नहीं है।
    कुआँ और कपाल और घर के विषय में कोई जानकारी नहीं है।

  7. #17
    नवागत
    Join Date
    Oct 2016
    Posts
    14
    "हमारी बातें 'जटिल' और 'भ्रामक' सिर्फ उनके लिए लगती है जो मिल्की-वे के निवासी नहीं हैं।" - रजत जी, कृपया "मिल्की-वे के निवासी" का तात्पर्य स्पष्ट करें।
    मैं आपकी जन्म-समय की गणना को ठीक मानकर आगे बढ़ना चाहती हूँ।


    आपने कहा की "जातक की बुद्धि भ्रष्ट है। अहंकारी है। शीघ्र क्रोध आता है।" - क्या जागत "प्रतिष्ठा" का पात्र नहीं है? क्या इसमें कोई गुण भी है अथवा यह जागत केवल "नकारात्मक" अभिलक्षणों का ही वाहक है।


    मेरी रूचि भाव स्थान में इन ५ ग्रहों की युति के प्रभाव में है और १०वें भाव में सूर्य-बुद्ध के युति के प्रभाव में ज्यादा है। केन्द्र में बृहस्पति की उपस्थिति कितना प्रभावशाली है?

    Quote Originally Posted by Rajat Vynar View Post


    हमने कब कहा- आपका नाम फंडेमून है? हमारी बातें 'जटिल' और 'भ्रामक' सिर्फ उनके लिए लगती है जो मिल्की-वे के निवासी नहीं हैं।

    अब आते हैं काम की बात पर। अब इतने सालों बाद एक कुण्डली लेकर इस मंच पर आई हो तो अवश्य कोई ज़रूरी बात होगी। ऐसे तो आओगी नहीं। जैसा कि अशोक जी ने बताया जातक 36+ या 66+ का हो सकता है। तो हम यह बता दें कि वर्ष 1950 में ग्रहों की यह स्थिति बन ही नहीं सकती थी, क्योंकि उस समय राहु मीन राशि में था। गणना के अनुसार ग्रहों की यह पंचायत वर्ष 1980 में बनी थी। और बारीकी से यदि देखा जाए तो यह कुंडली 21 से 23 मई 1980 के बीच की है और जन्म समय 11:40 AM से 1:10 PM के बीच का है, क्योंकि मई में ही सूर्य वृष राशि में रहता है और 21 मई से 23 मई के बीच चन्द्रमा सिंह राशि में था तथा सिंह लग्न उपरोक्त दिए गए समय के मध्य था। इस जानकारी से जन्म समय का तो अनुमान हो गया, किन्तु सटीक कुण्डली बना पाना नामुमकिन है। फिर भी इस कुण्डली से जो जानना चाहती हो वो साफ-साफ पूछे बगैर अशोक जी न बता पाएँगे। इसके लिए मिल्की-वे का ही कोई ज्योतिषी चाहिए।

    ध्यान से सुनो- इस जातक की बुद्धि भ्रष्ट है। अहंकारी है। शीघ्र क्रोध आता है। जातक की रुचि खेल-कूद में जन्म से है। अतः जातक लम्बी कूद और ऊँची कूद का बहुत बड़ा पुराना खिलाड़ी है, फिर भी मैराथन दौड़ के लिए बिल्कुल उपयुक्त नहीं है।

    धन्यवाद।

  8. #18
    नवागत
    Join Date
    Oct 2016
    Posts
    14
    क्या आप इनकी career और financial status के विषय में कुछ टिप्पणी कर सकते हैं? क्या यह व्यक्ति आदर-सम्मान के योग्य है?
    जैसा की आपने कहा की यह जातक भ्रष्ट बुद्धि वाला शीघ्र क्रोधी तथा अहँकारी है - क्या इस जागत में सद्गुणों का अभाव है?

    आपके टिप्पणी की प्रतिक्षा है।


    धन्यवाद!

Page 2 of 2 FirstFirst 12

Posting Permissions

  • You may not post new threads
  • You may not post replies
  • You may not post attachments
  • You may not edit your posts
  •