loading...
Page 2 of 2 प्रथमप्रथम 12
Results 11 to 19 of 19

Thread: हिन्दी ग्रामर कैसे ठिक करूं?

  1. #11
    कांस्य सदस्य Rajat Vynar's Avatar
    Join Date
    Oct 2014
    प्रविष्टियाँ
    5,751
    Rep Power
    8
    loading...
    Quote Originally Posted by DewlanceHosting View Post
    दरअसल मैने एक नावेल लिखा है हिन्दी मे और उसमे ग्रामर के शब्द ठिक नही है जिसकी वजह से कई लोग पढने मे दिक्कत बताते हैं। क्या करूं जिससे मांत्राए लगाना सिख जाउं जैसे बडा या छोटा मांत्रा कैसे पहचानते हैं?
    हिन्दी की खाल पहने हे अँग्रेज़ी के लेखक! मिल्कीवे के सबसे बड़े राइटर रजत वाइनर का शत-शत नमन स्वीकार करें। हिन्दी की खाल में अँग्रेज़ी लेखक देखकर धन्य हो गया, क्योंकि आपने टूटी-फूटी हिन्दी में ही सही, एक अदद उपन्यास लिखने में सफलता प्राप्त कर ली है। बधाई हो।

    अब कृपया यह बताने का कष्ट करें- अँग्रेज़ी लेखन में 'द मैन बुकर प्राइज़' जैसा बड़ा स्कोप होते हुए भी आप हिन्दी लेखन के क्षेत्र में क्यों पधारे? वैसे व्याकरण या मात्रा की त्रुटि कोई मायने नहीं रखती। बस उपन्यास का कथा-वस्तु ठीक होना चाहिए।
    [Only Registered and Activated Users Can See Links. Click Here To Register...]

    WRITERS are UNACKNOWLEDGED LEGISLATORS of the SOCIETY!

  2. #12
    कांस्य सदस्य Rajat Vynar's Avatar
    Join Date
    Oct 2014
    प्रविष्टियाँ
    5,751
    Rep Power
    8
    सूत्र-लेखक से वार्तालाप करने में काफ़ी दिक्कत आ रही है, क्योंकि सूत्र पर उनकी वापसी नियमित नहीं हो रही है। अतः संभावित कारणों की व्याख्या करते हुए हम स्वयं हल निकालने की कोशिश करते हैं।
    [Only Registered and Activated Users Can See Links. Click Here To Register...]

    WRITERS are UNACKNOWLEDGED LEGISLATORS of the SOCIETY!

  3. #13
    कांस्य सदस्य Rajat Vynar's Avatar
    Join Date
    Oct 2014
    प्रविष्टियाँ
    5,751
    Rep Power
    8
    यदि आप अँग्रेज़ी लेखक होते हुए भी जनता के सामने सिर्फ इतना झलकाना चाहते हैं कि आपको हिन्दी से बड़ा प्रेम है तो इसके लिए आपको कष्ट करके हिन्दी में उपन्यास वगैरा लिखने की ज़रूरत कतई नहीं है। इसके लिए आप बाज़ार से ऐसा शर्ट, टीशर्ट खरीदकर लाएँ जिसमें हिन्दी न्यूज़ पेपरों का समाचार प्रिंट हो। ढूँढने पर आपको ऐसा कपड़ा भी मिल जाएगा जिसकी डिजाइन में हिन्दी समाचार छ्पा होता है। इस कपड़े का शर्ट सिलवाकर हिन्दी दिवस के दिन पहनकर एक लाइन हिन्दी में 'मेरे प्यारे भाइयों और बहनों' बोलकर हिन्दी कल्याण में बाकी भाषण अँग्रेज़ी में दें। चलेगा क्या, दौड़ेगा। कोई बुरा नहीं मानेगा, क्योंकि हिन्दी-प्रेम तो आपके कपड़ों से स्पष्ट रूप से झलक ही रहा है। जोरदार तालियाँ बजेगी।

    'मंच-धरोहर' ब्न्दुजैन के पास एक ऐसा चित्र भी है जिसमें 'हिन्दी-प्रेम-वस्त्र' पहने लोगों को दिखाया गया है। धरोहर जी, कृपया वह चित्र प्रकाशित करके पाठकों का ज्ञानवर्धन करें।
    [Only Registered and Activated Users Can See Links. Click Here To Register...]

    WRITERS are UNACKNOWLEDGED LEGISLATORS of the SOCIETY!

  4. #14
    नवागत
    Join Date
    Dec 2016
    Location
    Delhi/UP
    प्रविष्टियाँ
    27
    Rep Power
    0
    Quote Originally Posted by Rajat Vynar View Post
    यदि आप अँग्रेज़ी लेखक होते हुए भी जनता के सामने सिर्फ इतना झलकाना चाहते हैं कि आपको हिन्दी से बड़ा प्रेम है तो इसके लिए आपको कष्ट करके हिन्दी में उपन्यास वगैरा लिखने की ज़रूरत कतई नहीं है। इसके लिए आप बाज़ार से ऐसा शर्ट, टीशर्ट खरीदकर लाएँ जिसमें हिन्दी न्यूज़ पेपरों का समाचार प्रिंट हो। ढूँढने पर आपको ऐसा कपड़ा भी मिल जाएगा जिसकी डिजाइन में हिन्दी समाचार छ्पा होता है। इस कपड़े का शर्ट सिलवाकर हिन्दी दिवस के दिन पहनकर एक लाइन हिन्दी में 'मेरे प्यारे भाइयों और बहनों' बोलकर हिन्दी कल्याण में बाकी भाषण अँग्रेज़ी में दें। चलेगा क्या, दौड़ेगा। कोई बुरा नहीं मानेगा, क्योंकि हिन्दी-प्रेम तो आपके कपड़ों से स्पष्ट रूप से झलक ही रहा है। जोरदार तालियाँ बजेगी।

    'मंच-धरोहर' ब्न्दुजैन के पास एक ऐसा चित्र भी है जिसमें 'हिन्दी-प्रेम-वस्त्र' पहने लोगों को दिखाया गया है। धरोहर जी, कृपया वह चित्र प्रकाशित करके पाठकों का ज्ञानवर्धन करें।
    आप समझे नही, उपनयास लिखना या कोई पुस्तक लिखना तो मेरा सौख है। कई पुस्तक लिख चूका हूं। [Only Registered and Activated Users Can See Links. Click Here To Register...]

    हिन्दी बोलने मे कोई दिक्कत नही है बस लिखने मे परेसानी है ;/
    भारतीय!

  5. #15
    नवागत
    Join Date
    Dec 2016
    Location
    Delhi/UP
    प्रविष्टियाँ
    27
    Rep Power
    0
    कोई बात नही, लगता है ठिक नही होगा ऐसे ही काम चलाना पडेगा।

  6. #16
    कांस्य सदस्य Rajat Vynar's Avatar
    Join Date
    Oct 2014
    प्रविष्टियाँ
    5,751
    Rep Power
    8
    Quote Originally Posted by DewlanceHosting View Post
    कोई बात नही, लगता है ठिक नही होगा ऐसे ही काम चलाना पडेगा।
    बड़ी जल्दी निराश और चिंतित होकर चल दिए। चिन्ता चिता समान। वहाँ जाकर आप बेवजह राजकपूर, बीआर, यश चोपड़ा को परेशान करेंगे। इसलिए आपको जाने नहीं दिया जाएगा और आपको हिन्दी सिखाने की भरसक कोशिश की जाएगी। वो कविता तो सुनी होगी- नारी हो न निराश करो मन को..

    आपको हिन्दी सिखाने का सरल फ़ॉर्मूला खोजा जा रहा है। उम्मीद है जल्दी ही हल निकल आएगा।
    [Only Registered and Activated Users Can See Links. Click Here To Register...]

    WRITERS are UNACKNOWLEDGED LEGISLATORS of the SOCIETY!

  7. #17
    नवागत
    Join Date
    Dec 2016
    Location
    Delhi/UP
    प्रविष्टियाँ
    27
    Rep Power
    0
    Quote Originally Posted by Rajat Vynar View Post
    बड़ी जल्दी निराश और चिंतित होकर चल दिए। चिन्ता चिता समान। वहाँ जाकर आप बेवजह राजकपूर, बीआर, यश चोपड़ा को परेशान करेंगे। इसलिए आपको जाने नहीं दिया जाएगा और आपको हिन्दी सिखाने की भरसक कोशिश की जाएगी। वो कविता तो सुनी होगी- नारी हो न निराश करो मन को..

    आपको हिन्दी सिखाने का सरल फ़ॉर्मूला खोजा जा रहा है। उम्मीद है जल्दी ही हल निकल आएगा।
    कोई उपाए मिल जाए तो बडा उपकार होगा आपका। हिन्दी मे लिखना ही कमजोरी बचा है। अंग्रेजी ठिक करने की कोसीस नही करता हूं क्यों कि वो हमारे देश की भाषा नही है पर हिन्दी तो ठिक रहे तो बहुत अच्छा क्यों की कई जगह पर ईसका ईस्तेमाल करना पडता है।

    खास कर राजस्थान मे तो हिन्दी बहुत चलता है। हर दफतर आदी मे हिन्दी मे लिखना होता है जैसे कोई पत्र लिखना है तो अंग्रेजी वाला नही चलता है जो की बहुत अच्छी बात है ;)
    भारतीय!

  8. #18
    कांस्य सदस्य Rajat Vynar's Avatar
    Join Date
    Oct 2014
    प्रविष्टियाँ
    5,751
    Rep Power
    8
    Quote Originally Posted by DewlanceHosting View Post
    कोई उपाए मिल जाए तो बडा उपकार होगा आपका। हिन्दी मे लिखना ही कमजोरी बचा है। अंग्रेजी ठिक करने की कोसीस नही करता हूं क्यों कि वो हमारे देश की भाषा नही है पर हिन्दी तो ठिक रहे तो बहुत अच्छा क्यों की कई जगह पर ईसका ईस्तेमाल करना पडता है।

    खास कर राजस्थान मे तो हिन्दी बहुत चलता है। हर दफतर आदी मे हिन्दी मे लिखना होता है जैसे कोई पत्र लिखना है तो अंग्रेजी वाला नही चलता है जो की बहुत अच्छी बात है ;)
    हिमालय की चोटी जितना ऊँचा और चीन की दीवार जितना विशाल अँग्रेज़ी ज्ञान रखते हुए भी आपका हिन्दी प्रेम देखकर नतमस्तक हो गया, मित्र। आप बिल्कुल चिन्ता न करें, मित्र.. अति शीघ्र आप हिन्दी ज्ञान जल से सरोबार होकर आनन्द के महासागर में गोते लगाने वाले हैं। शीघ्र ही ऐसा फार्मूला खोज लिया जाएगा कि आप हिन्दी ज्ञान गहराइयों तक महसूस करेंगे। बस आप हिन्दी ज्ञान ग्रहण करने के लिए ज्ञान चक्षु के ऊपर लिपटे अज्ञानता के अंधकार का आवरण हटाकर तैयार रहें जिससे हिन्दी ज्ञान सरलतापूर्वक आपके अन्दर समा सके।
    [Only Registered and Activated Users Can See Links. Click Here To Register...]

    WRITERS are UNACKNOWLEDGED LEGISLATORS of the SOCIETY!

  9. #19
    Banned
    Join Date
    Sep 2016
    प्रविष्टियाँ
    142
    Rep Power
    0
    Quote Originally Posted by Rajat Vynar View Post
    हिमालय की चोटी जितना ऊँचा और चीन की दीवार जितना विशाल अँग्रेज़ी ज्ञान रखते हुए भी आपका हिन्दी प्रेम देखकर नतमस्तक हो गया, मित्र। आप बिल्कुल चिन्ता न करें, मित्र.. अति शीघ्र आप हिन्दी ज्ञान जल से सरोबार होकर आनन्द के महासागर में गोते लगाने वाले हैं। शीघ्र ही ऐसा फार्मूला खोज लिया जाएगा कि आप हिन्दी ज्ञान गहराइयों तक महसूस करेंगे। बस आप हिन्दी ज्ञान ग्रहण करने के लिए ज्ञान चक्षु के ऊपर लिपटे अज्ञानता के अंधकार का आवरण हटाकर तैयार रहें जिससे हिन्दी ज्ञान सरलतापूर्वक आपके अन्दर समा सके।
    1945 की पुरानी हिन्दी फिल्मों की तरह लम्बे लम्बे डायलॉग मारने से कौनो फायदा नहीं रजत बाबू। फार्मूला लाइए फार्मूला।

Page 2 of 2 प्रथमप्रथम 12

Thread Information

Users Browsing this Thread

There are currently 1 users browsing this thread. (0 members and 1 guests)

Bookmarks

Posting Permissions

  • You may not post new threads
  • You may not post replies
  • You may not post attachments
  • You may not edit your posts
  •