Page 10 of 10 FirstFirst ... 8910
Results 91 to 94 of 94

Thread: मनहूस जिंदगी - एक मासूम लडका

  1. #91
    कर्मठ सदस्य pkpasi's Avatar
    Join Date
    Jun 2009
    Posts
    1,824
    गाडी घर से चल पडी
    कुछ 15 20 मिनटो बाद हम लोग ऑफिस पहुच गए

    ऑफिस के गेट पर ही वकील अंकल खडे थे
    उन्होने वाचमैन को बोल के मेरी गाडी को अन्दर जाने दिया
    और खुद भी अपनी गाडी मे बैठ के पार्किंग मे पहुच गए

    हम लोग कार से बाहर निकले
    वकील अंकल भी हमारे पास आ गए

    वकील अंकल:- कैसे हो बेटा
    और तुम्हारा स्वागत है तुम्हारे ऑफिस मे

    मै:- थैंक यू अंकल
    वकील:- चलो अंदर चलते है

    फिर हम सब अन्दर आने लगे
    ऑफिस मे 5 फ्लोर थे
    व्यू काफी अच्छा था

    मै:- अंकल हमारा कौन सा बिजिनेस है

    वकील:- बेटा हमारी एक तो रेडीमेट कि फैक्ट्री है
    जो की तुम्हारे मामा यानि कि पवित्रा जी के भाई की थी
    और दूसरा हमारी एक जैवेलरी शॉप है जो कि काफी बडी है
    और हमारी एक ट्रांसपोर्ट है
    और हम लोग बिल्डिंग वगैरा भी बनाते है

    हम लोग बाते करते हुए ऑफिस मे आ गए
    ऑफिस मे घुस्ते ही हम पे फूलो कि बारिश हो गई
    वकील:- स्टाफ मेम्बर ये है हमारे न्यू MD

    सभी ने अच्छे से मेरा स्वागत किया
    फिर वकील अंकल ने मुझे एक आदमी से मिलवाया

    वकील:- दीप ये है हमारे मैनेजर मिस्टर कपूर
    हमने हाथ मिलाया
    (दुसरे आदमी को बुलाकर) ये हमारे अकाउंटेंट मिस्टर भारद्वाज
    हमने हाथ मिलाया

    मुझे मैनेजर और अकाउंटेंट से मिलकर कुछ खास अच्छा नही लगा
    उनकी आखो मे मेरे लिए एक नफरत थी
    जैसे मेरे आने से उनका कोई काम बिगड गया हो
    खैर मैने अभी के लिए इस बात को इग्नोर किया
    और वकील अंकल से बोला

    मै:- ओके तो अंकल अब मुझे मेरा ऑफिस दिखाइए

    फिर हम सब मेरे केबिन की और चल पड़े
    जो लास्ट फ्लोर पर था
    एक अच्छा खासा केबिन बना हुआ था
    केबिन पे काफी पैसा लगा हुआ था
    यानि कि आलिशान केबिन था
    हर चीज एक्सपेंसिव थी

    ये ऑफिस मुझसे ज्यादा तो मेरी बहनो और मैम को पसंद आया
    केबिन मे एक रेस्ट रूम बना हुआ था

    वकील अंकल हमे उस रूम मे ले गए
    अन्दर एक सोफा सेट एक बेड और एक फ्रिज
    कुछ किचन का सामान था
    यानि कि इस मे रह भी सकते थे
    इस रूम मे अटेच्ड टॉयलेट और बाथरूम भी था

    फिर हम सब ने कुछ देर ऐसे ही बाते की
    वकील अंकल ने हमे ऑफिस और काम की कुछ और जानकारी दी

    मै:- अंकल मुझे अपने मैनेजर और अकाउंटेंट मे कुछ गडबड सी लगी
    वकील:- और वो क्यो

    मै:- क्यूकि उनके चेहरे पर भले ही स्माइल थी
    पर आखो मे एक नफरत थी
    जो मै देखते ही भाप गया

    वकील:- गडबड तो मुझे भी लगती है
    क्यूकि जिस हिसाब से हमारा हिसाब चल रहा है
    उस हिसाब से ना तो प्रॉफिट मेंशन किया है
    और ना काम का कोई हिसाब का रिकॉर्ड है
    तुम कहो तो मै जानकारी निकालू

    मै:- नही अंकल मै अपने हिसाब से इन्हे देखता हू
    वकील:- ओके बेटा

    फिर अंकल चले गए

    परी:- भाई ऑफिस तो काफी अच्छा है
    प्रीत:- हॅा भैया काफी सुन्दर भी है और बडा भी
    अनु:- अब इसे अपनी मेहनत से और आगे बढाओ
    अपनी पवित्रा माँ का भरोसा मत तोडना

    कविता मैम:- मेरा बेटा बहुत आगे जायेगा
    हम सब का नाम रोशन करेगा
    दिन दुगनी रात चोगुनी तरक्की करेगा
    भगवान सदा इस पर अपना साया बनाये रखे

    फिर कुछ देर ऐसे ही बाते होती रही
    उसके बाद हम सब घर की और निकल गए
    क्यूकि लंच का टाइम हो गया था

    मै लंच करके वापस आने लगा
    ऑफिस को निकलने से पहले मैने सोनू जस्सी और तनु को ऑफिस बुला लिया

    जल्द ही मै ऑफिस पहुच गया
    मै जाकर अपने केबिन मे बैठ गया
    कुछ देर बाद चपडासी ने केबिन मे डोर नोक किया

    मै:- कम इन
    चपडासी :- सर आप से मिलने तीन लोग आये है
    मै:- काका उन्हे अन्दर भेज दीजिए

    काका बाहर चले गए
    कुछ देर बाद जस्सी सोनू और तनु ऑफिस मेरे कैबिन मे आ गए

    मैने उन्हे बैठने का इशारा किया
    तीनो ने बैठ कर मुझे कांगरेट्स किया

    मैने काका को बुलाकर चार काफी का आर्डर किया

    मै:- मैने तुम तीनो को यहाँ किसी जरुरी काम के लिए बुलाया है
    पहले तो कल के काम के लिए शाबास
    और दूसरा तुम्हे इस ऑफिस के मैनेजर और अकाउंटेंट की जानकारी निकलवानी है
    मुझे कुछ गडबड लग रही है
    ये काम जस्सी और सोनू करेगे
    और तनु कुछ दिन के लिए मेरी सेक्रेटरी का काम करेगी
    क्या तनु तुम्हे कोई प्रॉब्लम है

    तनु:- मुझे कोई प्रॉब्लम नही है
    मै:- ओके तो जस्सी और सोनू तुम लोग कब तक इनफार्मेशन निकल लोगे
    जस्सी और सोनू:- कल सुबह तक सब हो जायेगा
    मै:- ओके तो लग जाओ काम पर

    फिर कुछ देर बाद कॅाफी आ गई
    हम चारो ने कॅाफी पी
    और जस्सी और सोनू बाहर चले गए

    केबिन के बाहर

    सोनू:- यार जस्सी ये डीडी मुझे थोडा कमीना लग रहा है
    कही मेरी तनु के साथ कुछ ऐसा वैसा करके पटा न ले

    जस्सी:- एक बात डीडी कुछ भी ऐसा वैसा कुछ नही करेगा
    दूसरा डीडी भले ही कुछ न करे
    पर तनु का कोई भरोसा नही
    अगर उसका दिल डीडी पर आ गया तो तेरा पता कट गया समझ
    और तीसरी बात ये तेरी गलती है कि तू तनु को प्रपोस नही कर पा रहा
    इसमे ना डीडी की गलती है ना तनु की
    सारी गलती तेरी है

    सोनू:-शायद तू सही कह रहा है
    मै कल ही तनु को प्रपोस करुगा
    जस्सी:- और एक बात कभी भी डीडी के बारे मे गलत मत सोचना
    क्यूकि वो एक सच्चा इंसान है
    वो कभी किसी चीज मे पहल नही करता
    जितना मुझे उसके बारे मे पता चला है उस हिसाब से वो तनु कि तरफ ऑख उठाकर भी नही देखेगा
    उसे टच करना तो दूर की बात है
    चल अब काम पर लग जा

    दोनो ने एक एक पिक ले ली अकाउंटेंट और मैनेजर की चोरी से और लग अपने काम पर
    देखते है ये कौन सा झंडा गाडते है

    कुछ देर बाद केबिन मे

    मै:- चलो तनु जैवेलरी शॉप और फैक्ट्री हो कर आए

    फिर हम दोनो ऑफिस से निकल गए
    मैने पहले गाडी जेवेलरी शॉप की और ले ली
    वहां का स्टाफ कैसा है और कैसे काम करता है
    कस्टमर से कैसे बीहेव करता है

  2. #92
    कर्मठ सदस्य pkpasi's Avatar
    Join Date
    Jun 2009
    Posts
    1,824

    In The Car On The Road

    मै:- तनु तुमसे एक बात करनी है
    तनु:- एक नही दो बात पुछो
    मै:- ओके तो प्लीज बुरा मत मानना
    तुम्हे सोनू कैसा लगता है

    तनु ने पहले मेरी तरफ देखा फिर बोली
    तनु:- बिलकुल लल्लू
    बेवकूफ
    पर दिल का साफ है
    कभी किसी का बुरा नही चाहता
    न ही किसी के लिए कोई बात दिल मे रखता है
    हॉ बस थोडा सनकी है
    बेवकूफ तो एक नंबर का हमे कई बार इनसे प्रॉब्लम मे फसाया है
    पर एक बात मै तुम्हे बताती हू
    उसे कभी अजमा के देख लेना एक बार कहने पे अपनी जान दे जायेगा

    मै:- ओके तो एक बात का और जवाब दे दो
    तुम किसी से प्यार करती हो
    तनु:- (उदास होकर) नही
    मै:- झूठ
    तनु:- तुम्हे किसने कहॉ
    मै:- क्या तुम सच मे किसी से प्यार नही करती
    तनु:- नही
    मै:- सोनू से भी नही
    तनु:- नही

    ये बोल जब उसको सवाल समझ मे आया तो वो मेरी और देखने लगी

    मै:- कब तक यू ही झूठ बोलती रहोगी

    इस दौरान वो सिर्फ मेरी ऑखो को देख रही थी
    मै:- अब झूठ मत बोलना
    क्या तुम्हरी बातो से और तुम्हारा सोनू को आस भरी नजरो से देखना
    मै नोट कर चुका हू
    बोलो अब भी झूठ बोलना है
    तनु:- ल...ल....लेकिन
    तुमने कब ओब्जरव किया मुझे

    मै:-मै सब तरफ हर किसी पे अपनी नजर रखता हू
    अब बोलो
    तनु:-हॉ मै सोनू से प्यार करती हू
    अपनी जान से ज्यादा
    पर क्या फायदा मेरा प्यार तो सिर्फ एक तरफा है
    सिर्फ मै सोनू से प्यार करती हू वो तो नही करता
    ना ही उसने कभी मेरी भावनाओ को समझा

    मै:- तुमने अभी अभी कहॉ ना कि वो लल्लू है बेवकूफ है
    और मै तुम्हे अगर एक खबर दू तो तुम अपने आप को सम्भालना

    तनु:- कैसी खबर
    मै:- है एक खबर
    बस अपने आप को सम्भालना
    कही ऐसा ना हो हॉर्ट अटैक आ जाये
    और सोनू और जस्सी मेरी जान ले ले

    तनु:- आखिर ऐसी कौन सी खबर है
    मै:- तो सुनो
    सोनू भी तुमसे प्यार करता है
    पर बताने से डरता है

    मेरी इस बात ने तनु पर बंदूक की गोली का असर किया
    वो मेरी बात सुनकर पीछे हो गई और एकदम से ऐसे सीट से अपनी पीठ जोर मे मारी
    जैसे किसी ने उसे सच मे गोली मार दी
    और लगातार हिचकिया लेनी शुरु कर दी

    मैने तुरंत ब्रेक लगाये
    पास मे एक किरयाना स्टोर था
    वहॉ से जल्दी से एक पानी की बोतल ले आया
    और तनु को दिया

    मै:- क्या हुआ तनु लगा न झटका
    मैने क्या कहॉ था
    अपने आप को सम्भालना

    तनु मेरी और देखने लगी
    वो अभी भी हिचकिया ले रही थी

    तनु:- क्या तुम( हिच ) सच( हिच ) कह रहे हो
    मैने तनु को और पानी पिलाया जिस से उनकी हिचकिया रुक गई

    मै:- हॉ बिलकुल सच
    तनु:- लेकिन तुम्हे कैसे पता
    मै:- मैने कहॉ ना मै सब पर नजर रखता हू
    वैसे बंदा अच्छा है
    और हॉ मुझे यकीन तब हुआ जब मैने तुम्हे सेक्रेटरी बनाने को कहॉ
    तब उसकी आखो मे तुम्हारे लिए फिकर थी
    और साथ मे मेरे लिए जलन और गुस्सा भी था
    शायद उसे अब तक यही लग रहा होगा कि मै तुम्हारे साथ कोई गलत हरकत करुगा
    या मै कही तुम पर लाइन न मारू
    और तुमने मुझे हॉ कर दी तो
    ऐसे कई सारे सवाल उसके मन मे होगे
    तनु:- तुम्हे ऐसा क्यो लगा कि उसके मन मे ये सारे सवाल होगे

    मै:- ओके तो जब वो तुम्हे प्रपोस करेगा
    उसके बाद तुम उससे ये पूछ सकती हो कि वो ये सब सोच रहा था या नही
    तुम्हारा जवाब तुम्हे मिल जायेगा
    ये मै दावे के साथ कह सकता हू क्यूकि कोई अगर किसी से प्यार करता है
    और उसका प्यार किसी के साथ इतना टाइम रहे तो अपने आप ऐसे विचार उसके मन मे उठने लगते है
    और ये लो आ गई शॉप

    मैने गाडी पार्क की
    फिर मै और तनु कार से निकल के शॉप मे जाने लगे

    मै:-तनु यहाँ कैसे काम होता है ये जानने के लिए मै छोटा सा ड्रामा करुगा
    तुम साथ देना
    तनु:- ओके

    शॉप के मेन काउंटर पर सूट बूट मे एक आदमी खड़ा था
    आदमी:- हॉउ मै ई हेल्प यू सर
    मै:- भाई जी मुझे और मेरी दोस्त को यहाँ काम पर लगना है
    उसके लिए तो आपको रजनी मैम से बात करनी होगी
    मै:- कहॉ है वो

    तभी वह एक लड़की कि आवाज आई
    लड़की:- क्या हुआ पार्थ
    पार्थ:- मैम ये दोनो यहाँ पर काम पे लगना चाहते है
    रजनी:- ओके तो मै देखती हू
    तुम और कस्टमर को देखो

    रजनी हमारे पास आ गई और पार्थ वहॉ से चला गया

    रजनी:- ओके तो बताओ तुम लोग यहाँ काम पे क्यो लगना चाहते हो
    मै:- हम दोनो को काम की जरूरत है
    रजनी:- अगर मेरी सलाह मानो तो कही और जॉब ढूंढ लो
    तनु:- वो क्यो
    क्या कारन बता सकती है आप

    रजनी:- तो सुनो
    यहाँ का मैनेजर थोडा ठरकी है
    उसकी वजह से न जाने कितनी लडकिया आई और जॉब छोड कर चली गई
    इतना बडा हो गया है कि उसे बोलने तक की अक्ल नही है
    और लडको के साथ भी बुरा व्यवहर करता है
    ये जो पार्थ नाम का लडका यहाँ से गया है
    इसने कल उससे कुछ रूपये उधर मागे
    तो उसने इतनी घटिया बात कही की बेचारा शर्मशार हो गया और कल से नया काम ढूढने लग गया
    जब भी इसे काम मिल जायगा ये जॉब छोड देगा
    मैनेजर तो कभी कभी कस्टमर को भी उल्टा सीधा बोलता है

    मै:-तो आप क्यो जॉब कर रही है यहाँ
    रजनी:- मै मजबूरी मे ये काम कर रही हू
    मै भी असल मे नयी जॉब ढूढ रही हू
    तनु:- तो आप ने हमे ये सब क्यो बताया
    रजनी:- क्यूकि मै नही चाहती तुम लोगो के साथ वैसा सलूक हो
    मै:- आपने कहॉ तक पढाई की है
    रजनी:- MBA
    हम लोग गरीब परिवार से
    जैसे तैसे MBA की
    कई जगह जॉब अप्लाई किया पर कही भी सीट नही मिली
    तो यहाँ आ गई
    मै:- ओके आपको नई जॉब मिल गई
    You Are Appointed to personal Secretary Of The MD of Pavitra Group of Companies

    और तनु अब तक तुम्हे तुम्हारा काम पता चल गया होगा
    तनु हॉ मे सिर हिला कर आगे चली गई और सीधा मैनेजर के ऑफिस मे घुस गई

    मैने जस्सी को फोन करके बुला लिया
    मैने पार्थ को भी बुला लिया

    मै:-पार्थ तुम आज से और अभी से इस शॉप के नये मैनेजर
    पार्थ और रजनी मेरे मुँह की और की और देख रहे थे
    मै:- ऐसे मत देखो यार I am the owner of that shop

    उन दोनो के पीछे से बाकी लोग तालिया बजाने लगे
    और उन्हे कोन्गरेट करने लगे
    तभी तनु भीड मे से एक आदमी को घिसटते हुए ला रही थी

    और लाकर उस आदमी को मेरे कदमो मे फेक दिया

    मैनेजर:- कौन हो तुम तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई मुझ पर हाथ उठाने की
    मै अभी पुलिस को फोन करता हू

    मैंने उसका कॉलर पकड लिया और बोला

    मै:- I am your boss owner of Pavitra Jewellers
    मेरी बात सुन मैनेजर साइलेंट हो गया
    मै:- क्यो पार्थ क्या यही है वो
    और मुझे बताओ इसने क्या कहॉ था तुमसे
    झिझको मत

    पार्थ:- कल जब मैने इससे कुछ पैसे उधार मागे क्यूकि मेरी बहन की कॉलेज फीस जमा करनी थी
    तब इसने कहॉ कि मै अपनी बहन को इसके पास भेज दू
    ये कहते हुए उसकी आखो से आसू आ गए

    पार्थ कि बात सुनकर मैने मैनेजर के मुह पर एक पंच मारा
    जिस से वो गिर पड़ा
    मै:- पार्थ जाओ अपना गुस्सा निकालो इसपर

    फिर पार्थ लात गुस्सो से उसे मारने लगा
    कुछ देर बाद मैने उसे साइड किया
    तब तक जस्सी भी आ गया

    मै:- इंस्पेक्टर ले जाओ इसे और इनफार्मेशन निकालो
    अच्छे से धुलाई करना इसकी
    जस्सी उसे लेके चला गया

    मैने अपने जेब से कुछ पैसे निकाल के पार्थ को दे दिए
    मै:- जाके अपनी बहन की फीस जमा करवा देना
    और अच्छे से शॉप को सम्भालना तुम्हारी जिमेदारी

    पार्थ:- Sure sir
    फिर मैने रजनी को भी कुछ पैसे दिए
    मै:- रजनी तुम भी कल से काम पर आ जाना
    और इन पैसो से तुम कुछ मिठाइया ले जाना
    तुम्हारे घर वालो के लिए
    और हम लोग वापस चल पडे फैक्ट्ररी की ओर


  3. #93
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,625
    Quote Originally Posted by pkpasi View Post
    बाबा जी आप किस भाषा का प्रयोग कर रहे हैं
    रशियन।

    रशिया से यहाँ पर अश्लीलता की दूकानदारी करने आया था। हमने रशियन में डाँट-डपटकर भगा दिया।

  4. #94
    कर्मठ सदस्य pkpasi's Avatar
    Join Date
    Jun 2009
    Posts
    1,824
    इधर मै और तनु फैक्ट्री की और निकल गए
    वहा परिधि अपने घर पहुच गई थी
    सिटींग मे ही कनिका दी मिल गई
    कनिका – कहा गई थी छोटी
    परिधि –दी वो मै
    वो मै
    कनिका – क्या वो मै!!! वो मै!!!! लगा रखा है
    सच सच बोल कि उस “मनहूस” की बर्थडे पार्टी मे गई थी
    परिधि – बाय!!! मुझे आपसे कोई बात नही करनी
    और एक बात मेरे भैया “मनहूस “ नही है
    समझी आप
    आप मुझसे बडी है
    इसलिए मै आपसे झगडा नही करना चाहती
    और मुझे ये भी पता है
    कल आपने भैया को आपकी जान बचाने के लिए थप्पड मारा
    शेम ओन यू
    मै पागल थी जो आपके पीछे लग कर उनको बुरा भला कहती रही
    बेहतर यही होगा कि आप मेरे भैया के लिए कुछ भी उल्टा सीधा मत बोलना

    कनिका – कहा गए तेरे संस्कार जो चाची ने तुझे दिए है
    अपनी बडी बहन से ऐसी बात करती है
    एक ही दिन मे उस कमीने का तुझ पर इतना असर हो गया

    कनिका की बात सुनकर परिधि उसके पास गई और उसके चेहेरे के आगे उंगली करके

    परिधि – मैने बोला ना मेरे भाई के लिए उल्टा सीधा मत बोलना
    और आप मुझसे संस्कारो की बात करती हो
    जिसने आज तक अपने किसी रिश्तेदार से अच्छे बात नही की
    अरे रिश्तेदार तो छोडो
    अपने सगे भाई के मरने की दुआ मागती है
    मुझे पता है आपको कभी मेरी बातो की समझ नही आएगी
    क्या आप बदिमाग
    नकचढ़ी और घमंडी हो
    ना तो आपके सीने मे दिल है और ना ही प्यार नाम की कोई चीज
    मै आपको एक बार और कह रही हू
    मेरे भाई को कुछ मत कहना समझी
    इतना बोलकर परिधि अपने कमरे मे चली गई
    कनिका भी अपने कमरे मे चली गई
    ##### कनिका का कमरा #######
    कनिका बेड पर बैठी थी और अपने आप से बोले जा रही थी
    कनिका –उस “मनहूस” ने आज मेरी इकलौती बहन परिधि मुझसे छीन ली
    आखिर ऐसा कौन सा जादू कर दिया उस कमीने ने
    जो आज वो मुझसे ऐसे बाते कर रही थी
    दीप तूने ये अच्छा नही किया
    आज तुम मेरे लिए मर गए
    पहले तो मै सिर्फ तुझसे नफरत करती थी और अब तो तुम मेरे लिए मर गए हो अब
    पहले मुझे परिधि से बात करनी होगी
    शाम को बात करती हु
    वो ऐसे ही बोलती रही

    और इधर हम फैक्ट्री पहुच गए
    अंदर हमने पूरा जयाजा लिया
    फैक्ट्री मे कोई गडबड नही थी सारा काम अच्छे से चल रहा था

    वहा से हम वापिस ऑफिस आ गए
    वहा कुछ देर काम करके हम घर 2 की और निकल गए

    जल्दी ही हम घर2 पहुच गए
    मैने कॉल करके सोनू और जस्सी को भी बुला लिया
    वो दोनो भी आ गए

    मै - तो दोस्तो रेडी हो जाओ
    हमे आज किशोरी लाल की खटिया खडी करनी है
    तनु – हम तो रेडी है
    कब निकला है

    मै – बस 15 मिनट मे
    ओके तैयार हो जाओ

    फिर हम सब 15 मिनट बाद निकल गए अपने अगले मिशन पर
    ######################################
    इधर किशोरी लाल के सारे अड्डो पर पुलिस की रेड पड चुकी थी
    वो अब तक पूरी तरह बोखला चुका था
    उसे ये भी पूरा यकीन था कि ये कम डीडी का है
    उसका इतना नुकसान सिर्फ डीडी की वजह से हुआ था
    अब वो किसी भी तरह डीडी से बदला लेना चाहता था
    पर उसे ये पता नही था कि डीडी कौन है
    और अब बेचारा पता करके भी क्या करता
    डीडी खुद जो आ रहा था
    *************************************
    इधर हम भी अपने सही पते पर पहुच गए थे
    हम लोगो को कोई भी पहचान नही सकता था
    अब जल्दी ही किशोरी लाल की बैंड बजने वाली थी

    मैने तनु जस्सी और सोनू को लाला किशोरी लाल के गैंग के आदमियो का हुलिया दिखा दिया था

    फिर सोनू और जस्सी दूसरी और चले गए
    और अपनी अपनी पोजिशन ले ली
    नीचे गली मे कुल 8 आदमी थे
    और एक छत पर खडा था
    हम लोगो ने पोजीशन ली
    और अब टाइम था एक्शन का
    Last edited by pkpasi; 21-09-2021 at 11:27 AM.

Page 10 of 10 FirstFirst ... 8910

Posting Permissions

  • You may not post new threads
  • You may not post replies
  • You may not post attachments
  • You may not edit your posts
  •