Page 3 of 3 प्रथमप्रथम 123
Results 21 to 29 of 29

Thread: अंग्रेजी साहित्य की वो मशहूर लेखिका, जिसने अपने लिए चुनी दर्दनाक मौत

  1. #21
    कर्मठ सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    प्रविष्टियाँ
    4,475
    Rep Power
    7
    इस बीमारी से ग्रस्त होने पर मरीज को दवाओं को साथ-साथ अपने नजदीकी दोस्तों और रिश्तेदारों की बहुत जरूरत होती है। अगर आपका दोस्त भी द्विध्रुवी विकार से ग्रसित है तो आप उसके उपचार में उसकी मदद कर सकते हैं। आपके द्वारा दिये जाने वाले प्रोत्साहन, मदद और देखभाल उसे वापस सामान्य स्थिति में आने में बहुत ज्यादा मदद करेगा। इस लेख में विस्तार से जानिए कि बाइपोलर डिसऑर्डर से ग्रस्त दोस्त की मदद कैसे करें।

  2. #22
    कर्मठ सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    प्रविष्टियाँ
    4,475
    Rep Power
    7
    बाइपोलर डिसऑर्डर क्या है?

    बाइपोलर डिसऑर्डर यानी द्विध्रुवी विकार को मानसिक रोग के नाम से भी जाना जाता है। इससे ग्रस्त व्यक्ति बहुत ही गंभीर मिजाज का हो जाता है। इसका असर कई सप्ताह या महीनों या कई सालों तक रहता है। एक अनुमान के मुताबिक प्रत्येक 100 में से 1 व्यक्ति इस मानसिक विकार से ग्रस्त होता है।

    बाइपोलर शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है जिसमें आदमी के मूड के दो रूपों को दिखाया गया है। पहला मूड का अचानक से अत्यधिक उच्च स्तर और दूसरा, अत्यधिक निम्न स्तर। व्यक्ति इन्हीं दोनों में उलझा रहता हैं। इस बीमारी के उच्च स्तर के होने पर दुखी रहना, ऊर्जा में कमी, इच्छा में कमी, आत्मविश्वास में कमी, आत्महत्या की इच्छा करना और चिड़चिड़ा होना आदि लक्षण दिखाई देते हैं। निम्न स्तर में होने पर बहुत अधिक खुशी, नींद की जरूरत घटना, बहुत अधिक बोलना, जोखिम लेना, अति आत्मविश्वास होना, बहुत अधिक जोश में रहना, आदि लक्षण दिखते हैं। यह महिलाओं और पुरुषों दोनों को किसी भी उम्र में हो सकता है।
    Last edited by superidiotonline; 26-04-2019 at 07:39 PM.

  3. #23
    कर्मठ सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    प्रविष्टियाँ
    4,475
    Rep Power
    7
    कैसे करें दोस्त की मदद?

    इस बीमारी से ग्रस्त दोस्त की मदद करना बहुत मुश्किल होता है, क्योंकि अक्सर वह आपपर भी झुंझलाता है और गुस्सा करता है। लेकिन खुशी की बात यह है कि अगर इस बीमारी के उपचार के दौरान दवाओं के साथ-साथ आपका खुशनुमा साथ भी आपके दोस्त को मिल जाये तो उसे सामान्य होने में ज्यादा वक्त नहीं लगेगा और जल्द ही वह सामान्य स्थिति में आ जायेगा।

  4. #24
    कर्मठ सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    प्रविष्टियाँ
    4,475
    Rep Power
    7
    बाइपोलर डिसऑर्डर के बारे में जानिए

    इस बीमारी से ग्रस्त दोस्त की मदद करने से पहले इस बीमारी के लक्षणों और प्रकृति के बारे में जानकारी इकट्ठा कीजिए, जिससे कि आपको उसका व्यवहार अजीब न लगे और आसानी से आप उस माहौल को आसानी से संभाल लें।

    अपने दोस्त को सांत्वना दीजिए

    इस मानसिक विकार से निपटने के लिए अपने दोस्त को हर कदम पर सांत्वना देते रहिये, अगर उसके द्वारा किया गया काम सही न हो तब भी उसकी तारीफ कीजिए। उसे हर समय प्रोत्साहित कीजिए। उसकी हर कदम और हर पल सहायता कीजिए, चाहे वह घर हो या कार्यालय।

  5. #25
    कर्मठ सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    प्रविष्टियाँ
    4,475
    Rep Power
    7
    उसकी भावनाओं को समझिये

    द्विध्रुवी विकार से ग्रस्त होने पर आदमी की मानसिक स्थिति भी बदल जाती है, ऐसे में उसकी भावनाओं को समझना थोड़ा मुश्किल हो जाता है। ऐसे वक्त पर अपने दोस्त की भावनाओं, उसकी अजीब हरकतों को समझकर आप अपने दोस्त की मदद कर सकते हैं।

  6. #26
    कर्मठ सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    प्रविष्टियाँ
    4,475
    Rep Power
    7
    धैर्य बहुत जरूरी है!

    बाइपोलर डिसऑर्डर के उपचार में बहुत अधिक समय लग सकता है, ऐसे में आपका धैर्य ही आपका साथी होता है। क्योंकि अक्सर आप अपने दोस्त के अटपटे व्यवहार से अपना धैर्य खो देते हैं और गुस्सा हो जाते हैं। ऐसे में खुद पर काबू रखकर उसके लिए पूरा वक्त निकालिए।

    द्विध्रुवी विकार से ग्रस्त व्यक्ति को दवा से ज्यादा प्यार और मदद की जरूरत होती है। अगर इसमें आप अपने दोस्त की हर कदम पर मदद करते हैं तो उसे ठीक होने में ज्यादा समय नहीं लगेगा।

    ----------------------
    साभार : ओन्लीमाइहेल्थ

  7. #27
    कर्मठ सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    प्रविष्टियाँ
    4,475
    Rep Power
    7
    तो आपने देखा कि द्विध्रुवी विकार से ग्रस्त व्यक्तियों को पहचानना बहुत ही सरल है और यह भी ज़रूरी नहीं है कि द्विध्रुवी विकार से ग्रस्त व्यक्ति दुःखी ही रहे। यदि आपको अपने पास-पड़ोस में कोई ऐसा व्यक्ति दिखाई दे जो खुद को राजा-महाराजा समझता हो या बहुत ज्यादा खुश रहता हो या वह पहले से ज्यादा नरमदिल और दयालु बन गया हो या कई बार जरूरत से ज्यादा दान-पुण्य करने लगा हो तो वह व्यक्ति द्विध्रुवी विकार से ग्रस्त हो सकता है! ऐसे व्यक्तियों को ज़रूरत पड़ती है आपकी सहानुभूति की। ध्यान दें- यदि द्विध्रुवी विकार से ग्रस्त व्यक्ति से आपकी रिश्तेदारी, दोस्ती या जान-पहचान है तो इनसे सहानुभूति दिखाने के साथ-साथ इनसे बेहद सावधान और सतर्क भी रहें, क्योंकि ये अपनी बीमारी के कारण अपना धन-दौलत, रूपया-पैसा और ज़मीन-जायदाद दान तो देते ही हैं, साथ में दूसरों का धन-दौलत, रूपया-पैसा और ज़मीन-जायदाद भी दान करवाने की फ़िराक में लगे रहते हैं। ये अपनी चिकनी-चुपड़ी बातों से आपको भ्रमित करके अनावश्यक दान-पुण्य करने के लिए प्रेरित कर सकते हैं और इस प्रकार आप अपनी गाढ़ी कमाई से हाथ धो सकते हैं!

  8. #28
    कर्मठ सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    प्रविष्टियाँ
    4,475
    Rep Power
    7
    हमारा ज्ञानवर्धक लेख पढ़कर हमारे पास शहर में दो लाख आशिकों वाली गर्लफ्रेंड का फ़ोन आ गया। बहुत ही घबड़ाए हुए स्वर में उसने बताया कि वह बहुत बीमार है, क्योंकि वह पहले से ज्यादा नरमदिल और दयालु बन गई है जिसके कारण उसका मन हर समय दान-पुण्य करने में लगा रहता है। अपनी बीमारी के कारण उसे अपनी धन-दौलत और ज़मीन-जायदाद दान-पुण्य में चले जाने की चिन्ता सता रही थी। हमने तत्काल सहानुभूलि दिखाते हुए अपनी सारी धन-दौलत और ज़मीन-जायदाद हमारे नाम ट्राँसफ़र करने की सलाह दी। न रहेगा बाँस, न बजेगी बाँसुरी। अरे, धन-दौलत और ज़मीन-जायदाद पास में होगी तभी तो दान देगी! और हम तो किसी को दान देने से रहे। धन-दौलत और ज़मीन-जायदाद बीमारी ठीक होने तक एकदम सुरक्षित रहेगी। उसने हँसी-खुशी हमारी राय मानकर तत्काल अपनी सारी धन-दौलत और ज़मीन-जायदाद हमारे नाम ट्राँसफ़र कर दी, मगर हमें उस वक्त जबरदस्त हार्ट अटैक आ गया जब हमें पता चला कि उसने अपनी वह प्रापर्टी भी हमारे नाम ट्राँसफर कर दी थी जिस पर पाँच करोड़ रुपए का बैंक लोन था! अब बैंक वाले लोन वसूलने के लिए हमारे पीछे दौड़ रहे हैं और हम लोन वाली प्रापर्टी वापस करने के लिए शहर में दो लाख आशिकों वाली गर्लफ्रेंड के पीछे!

  9. #29
    कर्मठ सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    प्रविष्टियाँ
    4,475
    Rep Power
    7

    Cool

    अब यह न पूछिएगा- लोन वाली प्रापर्टी बैंक के नियमों के विरुद्ध हमारे नाम ट्राँसफर कैसे हुई? अरे भई, शहर में दो लाख आशिक़ों वाली गर्लफ्रेंड है, कोई 'ऐरी गैरी नत्थू-खैरी' नहीं है। अपने दो लाख आशिकों के बल पर कुछ भी कर सकती है!

Page 3 of 3 प्रथमप्रथम 123

Thread Information

Users Browsing this Thread

There are currently 2 users browsing this thread. (0 members and 2 guests)

Bookmarks

Posting Permissions

  • You may not post new threads
  • You may not post replies
  • You may not post attachments
  • You may not edit your posts
  •