Page 1 of 3 123 LastLast
Results 1 to 10 of 29

Thread: 'हर-हर मोदी, घर-घर मोदी': आखिर कब तक?

  1. #1
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,313

    Cool 'हर-हर मोदी, घर-घर मोदी': आखिर कब तक?

    भारत गणराज्य में लोकसभा चुनाव-२०१९ में भाजपा (भारतीय जनता पार्टी) के भारी बहुमत से सत्ता में वापसी के बाद अपनी जबरदस्त हार से बौखलाया विपक्ष ही नहीं, आम बुद्धिजीवी के मन में भी आज यह यक्ष-प्रश्न चल रहा है कि 'हर-हर मोदी, घर-घर मोदी' का जादू आखिर कब तक चलता रहेगा? कितने वर्षों तक चलता रहेगा?

  2. #2
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,313
    कुछ विद्वान लोगों का कहना है कि अगले दस वर्षों तक प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी को प्रधानमंत्री बनने से कोई रोक नहीं सकता। मोदी की सफलता और विपक्ष की असफलता का विश्लेषण करते हुए 'नवोदय टाइम्स डॉट इन' में प्रकाशित लेख में विनीत नारायण लिखते हैं-

  3. #3
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,313
    लोकसभा चुनाव 2019 : विपक्ष क्यों हारा, मोदी क्यों जीते

    27 May. 2019 08:36

    विपक्ष के किसी नेता को इतनी बुरी हार का अंदाजा नहीं था। सभी को लगता था कि मोदी आर्थिक मोर्चे पर और रोजगार के मामले में जिस तरह जन आकांक्षाओं पर खरे नहीं उतरे, तो आम जनता में अंदर ही अंदर एक आक्रोश पनप रहा है, जो विपक्ष के फायदे में जाएगा। मोदी के आलोचक राजनीतिक विश्लेषक मानते थे कि मोदी की 170 से ज्यादा सीटें नहीं आएंगी। हालांकि वे यह भी कहते थे कि मोदी लहर, जो ऊपर से दिखाई दे रही है, अगर वह वास्तविक है, तो मोदी 300 से ज्यादा सीटें ले जाएंगे।

  4. #4
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,313
    उनके मन में प्रश्न है कि मोदी क्यों जीते? कुछ नेताओं ने ई.वी.एम. में गड़बड़ी का आरोप लगाया है। जबकि ज्यादातर लोग ऐसा मानते हैं कि इस आरोप में कोई दम नहीं है। दोनों पक्षों के अपने-अपने तर्क हैं। पर यह भी सही है कि दुनिया के ज्यादातर देश ई.वी.एम. से चुनाव नहीं करवाते। इसलिए विपक्षी दलों की मांग है कि पुरानी व्यवस्था के अनुरूप मत पत्रों से ही मतदान होना चाहिए।

  5. #5
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,313
    पर जो सबसे महत्वपूर्ण बात विपक्ष नहीं समझा, वह यह कि मोदी ने चुनाव को एक महाभारत की तरह लड़ा और हर वह हथियार प्रयोग किया, जिससे इतनी भारी विजय मिली। सबसे पहले तो इस बार का चुनाव सांसदों का चुनाव नहीं था। अमरीका की तरह राष्ट्रपति चुनने जैसा था। देशभर में लोगों ने अपने संसदीय प्रत्याशी को न देखकर मोदी को वोट दिया। ‘हर-हर मोदी, घर-घर मोदी’ का नारा चरितार्थ हुआ। हर मतदाता के दिलो-दिमाग पर केवल मोदी का चेहरा था। यह अमित शाह और मोदी की रणनीति का सबसे अहम पक्ष था। दूसरी तरफ मोदी को टक्कर देने वाला एक भी नेता, उनके कद का नहीं था जिससे पूरा देश नेतृत्व करने की अपेक्षा रखता।

  6. #6
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,313
    एकजुट नहीं हो पाया विपक्ष

    यूं तो उत्तर प्रदेश में गठबंधन कोई विशेष सफलता हासिल नहीं कर पाया। पर सभी राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि अगर सारे विपक्षी दल एक झंडे और एक नेता के पीछे लामबंद हो जाते, तो उन्हें आज इतनी अपमानजनक पराजय का मुंह न देखना पड़ता। पर ऐसा नहीं हुआ। इससे मतदाता में यह साफ संदेश गया कि जो विपक्ष अपना नेता तक नहीं चुन सकता, जो विपक्ष एक साथ एक मंच पर नहीं आ सकता, वह देश को क्या नेतृत्व देगा। इसलिए जो लोग मोदी की नीतियों से अप्रसन्न भी थे, उनका भी यह कहना था कि ‘विकल्प ही कहां है’। इसलिए उन्होंने भी मोदी को वोट दिया।

  7. #7
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,313
    मोदी की सफलता का एक अन्य कारण यह भी था कि मोदी ने विकास के मुद्दों को छोड़कर राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे को चुनाव अभियान का मुख्य लक्ष्य बनाया। जब देश की सीमाओं की सुरक्षा की बात आती है, तब हर भारतीय भावुक हो जाता है। ‘वंदे मातरम’ और ‘भारत माता की जय’ का उद्घोष हर घर में होने लगता है। इसलिए मतदाता महंगाई, रोजगार, सामाजिक लाभ की न सोचकर, केवल देश की सुरक्षा पर सोचने लगा और उसे लगा कि इन हालातों में मोदी ही उनकी रक्षा कर सकते हैं।

  8. #8
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,313
    हिन्दू-मुस्लिम का कार्ड भी बेखटक खेला गया जिससे हिन्दुओं का मोदी के पक्ष में क्रमश: झुकाव बढ़ता चला गया और पाकिस्तान को अपनी दुश्मनी का लक्ष्य बनाकर, मतदाताओं के बीच देशभक्ति का जज्बा पैदा किया गया। ऐसा कोई एजैंडा विपक्ष नहीं दे पाया, जिस पर समाज का इतना बड़ा झुकाव उनकी तरफ हो पाता। विपक्ष ने भ्रष्टाचार के जिन मुद्दों को उठाया, उस पर वह मतदाताओं को आंदोलित नहीं कर पाया, क्योंकि एक तो वे उनसे सीधे जुड़े नहीं थे, दूसरा मुद्दा उठाने वाला विपक्ष ही हमेशा से भ्रष्टाचार के आरोपों से घिरा रहा है।

  9. #9
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,313
    जहां एक तरफ नीरव मोदी, विजय माल्या, अनिल व मुकेश अंबानी और अडानी जैसे उद्योगपतियों पर मोदी राज में देश लूटने का आरोप लगाया गया, वहीं विपक्ष यह भूल गया कि मोदी ने बड़ी होशियारी से गांवों में अपनी पैठ बनाकर, कुछ ऐसे सीधे लाभ ग्रामवासियों को दिलवा दिए, जिससे उनकी लोकप्रियता गरीबों के बीच बहुत तेजी से बढ़ गई। मसलन गांवों में बिजली और सड़क पहुंचाना, निर्धन लोगों के घर बनवाना और लगभग घर-घर में शौचालय बनवाना। जिन्हें ये मदद मिली, उनका मोदी से खुश होना लाजिमी है। पर जिन्हें यह लाभ नहीं मिल पाए, वे इसलिए मोदी का गुणगान करने लगे जिससे कि जल्द ही उनकी बारी भी आ जाए। ऐसा एक भी आश्वासन विपक्ष इन गरीब मतदाताओं को नहीं दे पाया।
    मोदी या भाजपा की जीत का एक सबसे बड़ा कारण इनकी संगठन क्षमता है। आज भाजपा जैसा संगठन, राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ जैसा समॢपत कार्यकत्र्ता किसी भी राजनीतिक दल के पास नहीं है, जो मतदाताओं को बूथ स्तर तक प्रभावित कर सके। जहां तक संसाधनों की बात है, आज भाजपा के पास अकूत दौलत है। जिससे उसने इन चुनावों को एक महाभारत की तरह लड़ा और जीता।

  10. #10
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,313
    अब लक्ष्यों की प्राप्ति पर रहेगी नजर

    यह पहला मौका है, जहां संघ प्रेरित भाजपा, अपने आप पूर्ण बहुमत में है। निश्चय ही हर हिन्दूू को मोदी से अपेक्षा है कि वे अविलम्ब राम मंदिर का निर्माण करवाएंगे, धारा 370 और 35 ए समाप्त करेंगे, कश्मीरी पंडितों को कश्मीर में बसाएंगे, बंगलादेशी घुसपैठियों को बाहर निकालेंगे और देश के करोड़ों नौजवानों को रोजगार देंगे, जिसका वे जोरदार दावा करते आए हैं। भारी बहुमत से मोदी को जिताने वाली जनता इनमें से कुछ लक्ष्यों की प्राप्ति अगले 6 महीनों में पूरी होती देखना चाहती है। अब यह बात निर्भर करेगी परिस्थितियों पर और मोदी जी की इच्छा शक्ति पर कि वे कितनी जल्दी इन लक्ष्यों की पूर्ति कर पाते हैं।

    ---------------------
    साभार : नवोदय टाइम्स डॉट इन

Page 1 of 3 123 LastLast

Posting Permissions

  • You may not post new threads
  • You may not post replies
  • You may not post attachments
  • You may not edit your posts
  •