Page 2 of 2 प्रथमप्रथम 12
Results 11 to 14 of 14

Thread: हिन्दी के विकास में 'लुंगी' का महत्व

  1. #11
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    प्रविष्टियाँ
    5,024
    Rep Power
    8
    रोज़ाना दो ग़र्म समोसा और एक ग़र्म इमरती के साथ एक ग़र्म कॉफ़ी की आकर्षक योजना सुनकर हिन्दी वाले 'हिन्दी विकार क्लब' के नाम से खुले 'हिन्दी विकास क्लब' पर टूट पड़े और धड़ाधड़ क्लब का सदस्य बनने लगे। सदस्यों की संख्या में अच्छी-खासी बढ़ोत्तरी होने के बाद एक दिन 'हिन्दी विकार क्लब' के नाम से खुले 'हिन्दी विकास क्लब' का उद्घाटन किया गया और जिस दिन 'हिन्दी विकार क्लब' का उद्घाटन हो रहा था उस दिन इत्तेफाक से हमारा गुजरना उधर से ही हुआ। अचानक हमारी दृष्टि चमचमाती हुई नई बिल्डिंग के सामने लगे बड़े से बोर्ड पर केन्द्रित हो गई जिस पर लिखा था- 'हिन्दी विकार क्लब'। बोर्ड पढ़कर हमें बड़ी खुशी हुई। हिन्दी साहित्य के विकारों के बारे में जानकारी देने के लिए शहर में नया क्लब जो खुल गया था। उसी समय लाउडस्पीकर पर घोषणा हुई कि क्लब का सदस्य बनकर नियमित रूप से आने वाले सदस्यों को रोज़ाना दो ग़र्म समोसा और एक ग़र्म इमरती के साथ एक ग़र्म कॉफ़ी दी जाएगी। सुनकर हमारी चटोरी जीभ लपलपाने लगी। यह तो बड़ा अच्छा क्लब है। सदस्यों को रोज़ाना मुफ़्त में नाश्ता-पानी दिया जा रहा है!

  2. #12
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    प्रविष्टियाँ
    5,024
    Rep Power
    8
    फिर क्या था? हिन्दी साहित्य के तड़के के साथ रोज़ाना मुफ्त में मिलने वाले दो ग़र्म समोसा और एक ग़र्म इमरती के साथ एक ग़र्म कॉफ़ी से भला कौन मूर्ख हाथ धोना चाहेगा? हम लपकते हुए 'हिन्दी विकार क्लब' के बाहर बने पंजीकरण-काउंटर पर पहुँचे और क्लब की सदस्यता का कार्ड बनवाकर अन्दर दाखिल हुए। 'हिन्दी विकार क्लब' के वातानुकूलित स्वागत-कक्ष की दीवारों पर जगह-जगह पर लिखा हुआ था-

    --'हिदी बिकार क्लब मे आपका हर्दिक स्वगत है।'

    --'हिदी आपकी मात्रभषा ही नही राजभषा भी है। ईसलीये क्रप्या हिदी मे बोलीये।'

    --'हिदी बिकार क्लब मे इंगलीश मे बुलना सख्त माना है।'

    --'सदस्यगन क्रप्या हिदी के बिकास में अपना सकिृय योघधान दे।'

  3. #13
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    प्रविष्टियाँ
    5,024
    Rep Power
    8
    गलत-सलत हिन्दी पढ़कर हमारे कान खड़े हो गए। इस क्लब में हिन्दी के विकारों के बारे में बताया जा रहा है या हिन्दी में विकार पैदा किया जा रहा है? यह कैसा क्लब है जहाँ पर हिन्दी के विकास के नाम पर हिन्दी की टाँग तोड़कर हिन्दी की अर्थी उठाने की तैयारी चल रही है? इस बात का पता लगाना होगा- इतने बड़े षड़यन्त्र को कौन अंजाम दे रहा है?

  4. #14
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    प्रविष्टियाँ
    5,024
    Rep Power
    8
    हिन्दी के खिलाफ़ इतना बड़ा षड़यन्त्र रचने वालों का खुलासा, पर्दाफ़ाश और भण्डाफोड़ करना ही पड़ेगा, नहीं तो ये लोग हिन्दी का कचूमर निकालकर हिन्दी साहित्य में 'टुटही हिन्दी युग' पैदा कर देंगे जिसके बारे में इतिहासकार लिखेंगे कि 'टुटही हिन्दी युग' का यह काल हिन्दी साहित्य का 'काला युग' था जिसमें हिन्दी की टाँग तोड़कर उसका कचूमर निकाल दिया गया था। हिन्दी का कचूमर बनता देखकर सरकार के कान खड़े हो गए और हिन्दी को बचाने के लिए 'टुटही हिन्दी प्रतिबन्ध अधिनियम-2094' नामक एक कठोर कानून बनाया गया, जिसमें हिंगलिश पर पूर्ण प्रतिबन्ध लगाए जाने के साथ अन्तर्जाल में लिखी हिन्दी में दो प्रतिशत से अधिक गलती पाए जाने पर बहुत ही कठोर दण्ड देने का प्रावधान किया गया था।' उसी समय स्वागत-कक्ष में मौजूद युवती ने 'आपका स्वगत है' कहकर हमारे हाथ में जूस का गिलास थमा दिया जिसके कारण हम कल्पनालोक से बाहर आ गए। युवती ने कहा- 'जल्दी से अन्दर जइए। हिन्दी बिकास का कार्यक्रम सुरू हो चूका है!'

Page 2 of 2 प्रथमप्रथम 12

Thread Information

Users Browsing this Thread

There are currently 1 users browsing this thread. (0 members and 1 guests)

Bookmarks

Posting Permissions

  • You may not post new threads
  • You may not post replies
  • You may not post attachments
  • You may not edit your posts
  •