Page 1 of 4 123 ... LastLast
Results 1 to 10 of 40

Thread: आज का हिन्दु पंचांग

  1. #1
    आश्रमाचार्य amol05's Avatar
    Join Date
    Feb 2010
    Location
    Delhi NCR
    Posts
    13,874

    आज का हिन्दु पंचांग

    इस लिंक के माध्यम से सभी सदस्यों को रोज का पंचांग बताने का प्रयास करूंगा
    आश्रम के सोजन्य सेNote: All the postings of mine in this whole forum is not my own collection. All are downloaded from internet posted by some one else. Am not violating any copy rights law or not any illegal action am not supposed to do.

  2. #2
    आश्रमाचार्य amol05's Avatar
    Join Date
    Feb 2010
    Location
    Delhi NCR
    Posts
    13,874
    ???? ~ *आज का हिन्दू पंचांग* ~ ????
    ⛅ *दिनांक 12 जून 2020*
    ⛅ *दिन - शुक्रवार*
    ⛅ *विक्रम संवत - 2077 (गुजरात - 2076)*
    ⛅ *शक संवत - 1942*
    ⛅ *अयन - उत्तरायण*
    ⛅ *ऋतु - ग्रीष्म*
    ⛅ *मास - आषाढ़ (गुजरात एवं महाराष्ट्र अनुसार ज्येष्ठ)*
    ⛅ *पक्ष - कृष्ण*
    ⛅ *तिथि - सप्तमी रात्रि 10:52 तक तत्पश्चात अष्टमी*
    ⛅ *नक्षत्र - शतभिषा शाम 06:49 तक तत्पश्चात पूर्व भाद्रपद*
    ⛅ *योग - विष्कम्भ सुबह 10:29 तक तत्पश्चात प्रीति*
    ⛅ *राहुकाल - सुबह 10:46 से दोपहर 12:27 तक*
    ⛅ *सूर्योदय - 05:57*
    ⛅ *सूर्यास्त - 19:19*
    ⛅ *दिशाशूल - पश्चिम दिशा में*
    ⛅ *व्रत पर्व विवरण -*
    ???? *विशेष - सप्तमी को ताड़ का फल खाने से रोग बढ़ता है था शरीर का नाश होता है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)*
    ???? *~ हिन्दू पंचांग ~* ????

    ???? *घुटने के दर्द का इलाज* ????
    ➡ *१) १०० ग्राम तिल को मिक्सी में पीस लो और उसमें १० ग्राम सोंठ डालो | ५ – ७ ग्राम रोज फाँको |*
    ➡ *२) अरंडी के तेल में लहसुन ( ३ -४ कलियाँ ) टुकड़ा करके डाल के गर्म करो | लहसुन तल जाय तो उतारकर छान के रखो | घुटनों के दर्द में इस तेल से मालिश करो |*

    ???? *~ हिन्दू पंचांग ~* ????

    ???? *वास्तु शास्त्र* ????
    ???? *दर्पण*
    *टूटा हुआ दर्पण रखना वास्तु के अनुसार एक बड़ा दोष है। इस दोष के कारण घर में नकारात्मक ऊर्जा सक्रिय रहती है और परिवार के सदस्यों को मानसिक तनाव का सामना करना पड़ता है।*
    ???? *~ हिन्दू पंचांग ~* ????

    ???? *यशप्राप्ति का अदभुत मंत्र* ????
    ???????? *कौनसा भी कार्य की शुरवात करने से पहिले – ‘नारायण ... नारायण ..., नारायण ..., नारायण ...’ इसी मंत्र का सभी नर - नारी में छूपी सर्वव्यापक परमात्मा के नामस्मरण या उच्चारण करनेवालों को यश अवश्य मिलता है |*

    ???? *~ हिन्दू पंचांग ~* ????

    ???? *अशुद्ध आत्मा से बचने* ????
    ???? *गाय २४ घंटा सात्विक ओरा फेंकती | गोझरन व गोबर लेकर कभी स्नान कर लिया करो |गाय झरन जहाँ झारते वहां अशुद्ध आत्मा प्रवेश नहीं होते |*


    *???????????? आर्यावर्त भरतखंड ????????????*
    ???? *~ हिन्दू पंचाग ~* ????
    ????????????????????????????????????????
    आश्रम के सोजन्य सेNote: All the postings of mine in this whole forum is not my own collection. All are downloaded from internet posted by some one else. Am not violating any copy rights law or not any illegal action am not supposed to do.

  3. #3
    कांस्य सदस्य sultania's Avatar
    Join Date
    Sep 2011
    Location
    MAKERS OF DIFFRENT TYPE THRED
    Posts
    5,429
    वाह भाई
    नमस्कार
    आपको लिंक भेजने से चमत्कार हो गया वाह
    हकलाते हैं तो संस्कृत सीखें,जो व्यक्ति धाराप्रवाह बोल नहीं पाते, अटकते हैं या फिर हकलाते हैं उन्हें संस्कृत सीखना चाहिए।संस्कृत से हकलाना भी खत्म हो जाता है।

  4. #4
    आश्रमाचार्य amol05's Avatar
    Join Date
    Feb 2010
    Location
    Delhi NCR
    Posts
    13,874
    Quote Originally Posted by sultania View Post
    वाह भाई
    नमस्कार
    आपको लिंक भेजने से चमत्कार हो गया वाह
    आपका लिंक भेजने के लिये धन्यवाद मित्र
    आश्रम के सोजन्य सेNote: All the postings of mine in this whole forum is not my own collection. All are downloaded from internet posted by some one else. Am not violating any copy rights law or not any illegal action am not supposed to do.

  5. #5
    आश्रमाचार्य amol05's Avatar
    Join Date
    Feb 2010
    Location
    Delhi NCR
    Posts
    13,874
    ???? ~ * हिन्दू पंचांग* ~ ????
    ⛅ *दिनांक 13 जून 2020*
    ⛅ *दिन - शनिवार*
    ⛅ *विक्रम संवत - 2077 (गुजरात - 2076)*
    ⛅ *शक संवत - 1942*
    ⛅ *अयन - उत्तरायण*
    ⛅ *ऋतु - ग्रीष्म*
    ⛅ *मास - आषाढ़ (गुजरात एवं महाराष्ट्र अनुसार ज्येष्ठ)*
    ⛅ *पक्ष - कृष्ण*
    ⛅ *तिथि - अष्टमी रात्रि 12:58 तक तत्पश्चात नवमी*
    ⛅ *नक्षत्र - पूर्व भाद्रपद रात्रि 09:28 तक तत्पश्चात उत्तर भाद्रपद*
    ⛅ *योग - प्रीति सुबह 11:03 तक तत्पश्चात आयुष्मान्*
    ⛅ *राहुकाल - सुबह 09:06 से सुबह 10:46 तक*
    ⛅ *सूर्योदय - 05:57*
    ⛅ *सूर्यास्त - 19:19*
    ⛅ *दिशाशूल - पूर्व दिशा में*
    ⛅ *व्रत पर्व विवरण -
    ???? *विशेष - अष्टमी को नारियल का फल खाने से बुद्धि का नाश होता है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)*
    ???? *अष्टमी तिथि के दिन स्त्री-सहवास तथा तिल का तेल खाना और लगाना निषिद्ध है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-38)*
    ???? *ब्रह्म पुराण' के 118 वें अध्याय में शनिदेव कहते हैं- 'मेरे दिन अर्थात् शनिवार को जो मनुष्य नियमित रूप से पीपल के वृक्ष का स्पर्श करेंगे, उनके सब कार्य सिद्ध होंगे तथा मुझसे उनको कोई पीड़ा नहीं होगी। जो शनिवार को प्रातःकाल उठकर पीपल के वृक्ष का स्पर्श करेंगे, उन्हें ग्रहजन्य पीड़ा नहीं होगी।' (ब्रह्म पुराण')*
    ???? *शनिवार के दिन पीपल के वृक्ष का दोनों हाथों से स्पर्श करते हुए 'ॐ नमः शिवाय।' का 108 बार जप करने से दुःख, कठिनाई एवं ग्रहदोषों का प्रभाव शांत हो जाता है। (ब्रह्म पुराण')*
    ???? *हर शनिवार को पीपल की जड़ में जल चढ़ाने और दीपक जलाने से अनेक प्रकार के कष्टों का निवारण होता है ।(पद्म पुराण)*
    ???? *~ हिन्दू पंचांग ~* ????

    ???? *वास्तु शास्त्र* ????
    ???? *भोजन के बाद जूठी थाली लेकर अधिक देर तक न बैठें। न ही जूठे बर्तन देर तक सिंक में रखें।*
    ???? *~ हिन्दू पंचांग ~* ????

    ???? *आर्थिक परेशानी रहती हो तो* ????
    ???????? *अथर्ववेद की गणेश उपनिषद के अनुसार दूर्वा ( जो गणेशजी की पूजा के काम में आता है ) उसे घी में डुबोयें .... और आहूति दें .... ये मंत्र बोल के आहूति डालें ... " ॐ गं गणपतये स्वाहा "*
    ???????? *- श्री सुरेशानादजी वड़ोदरा 8/11/2011*
    ???? *~ हिन्दू पंचांग ~* ????

    ???? *षडशीति संक्रान्ती* ????
    ???? *14 जून 2020 रविवार को षडशीति संक्रान्ती है ।*
    ???? *पुण्यकाल : दोपहर 12:39 से सूर्यास्त तक… जप,तप,ध्यान और सेवा का पूण्य 86000 गुना है !!!*
    ???? *इस दिन करोड़ काम छोड़कर अधिक से अधिक समय जप – ध्यान, प्रार्थना में लगायें।*
    ???? *षडशीति संक्रांति में किये गए जप ध्यान का फल ८६००० गुना होता है – (पद्म पुराण )*

    *???????????? आर्यावर्त भरतखंड ????????????*
    ???? *~ हिन्दू पंचाग ~* ????
    ????????????????????????????????????????
    आश्रम के सोजन्य सेNote: All the postings of mine in this whole forum is not my own collection. All are downloaded from internet posted by some one else. Am not violating any copy rights law or not any illegal action am not supposed to do.

  6. #6
    आश्रमाचार्य amol05's Avatar
    Join Date
    Feb 2010
    Location
    Delhi NCR
    Posts
    13,874
    ???? ~ *आज का हिन्दू पंचांग* ~ ????
    ⛅ *दिनांक 14 जून 2020*
    ⛅ *दिन - रविवार*
    ⛅ *विक्रम संवत - 2077 (गुजरात - 2076)*
    ⛅ *शक संवत - 1942*
    ⛅ *अयन - उत्तरायण*
    ⛅ *ऋतु - ग्रीष्म*
    ⛅ *मास - आषाढ़ (गुजरात एवं महाराष्ट्र अनुसार ज्येष्ठ)*
    ⛅ *पक्ष - कृष्ण*
    ⛅ *तिथि - नवमी 15 जून रात्रि 03:19 तक तत्पश्चात दशमी*
    ⛅ *नक्षत्र - उत्तर भाद्रपद रात्रि 12:22 तक तत्पश्चात रेवती*
    ⛅ *योग - आयुष्मान् सुबह 11:53 तक तत्पश्चात सौभाग्य*
    ⛅ *राहुकाल - शाम 05:29 से शाम 07:10 तक*
    ⛅ *सूर्योदय - 05:57*
    ⛅ *सूर्यास्त - 19:19*
    ⛅ *दिशाशूल - पश्चिम दिशा में*
    ⛅ *व्रत पर्व विवरण - षडशीति संक्रांति (पुण्यकाल दोपहर 12:39 से सूर्यास्त तक)*
    ???? *विशेष - नवमी को लौकी खाना गोमांस के समान त्याज्य है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)*
    ???? *रविवार के दिन स्त्री-सहवास तथा तिल का तेल खाना और लगाना निषिद्ध है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-38)*
    ???? *रविवार के दिन मसूर की दाल, अदरक और लाल रंग का साग नहीं खाना चाहिए।(ब्रह्मवैवर त पुराण, श्रीकृष्ण खंडः 75.90)*
    ???? *रविवार के दिन काँसे के पात्र में भोजन नहीं करना चाहिए।(ब्रह्मवैवर त पुराण, श्रीकृष्ण खंडः 75)*
    ???? *स्कंद पुराण के अनुसार रविवार के दिन बिल्ववृक्ष का पूजन करना चाहिए। इससे ब्रह्महत्या आदि महापाप भी नष्ट हो जाते हैं।*
    ???? *~ हिन्दू पंचांग ~* ????

    ???? *नकसीर* ????
    ???? *यह होने पर सिर पर ठंडा पानी डालें | ताज़ी व कोमल दूब ( दूर्वा ) का रस अथवा हरे धनिये का रस बूँद – बूँद नाक में टपकाने से रक्त निकलना बंद हो जाता है | दिन में दो – तीन बार १० ग्राम आँवले के रस में मिश्री मिलाकर पिलायें अथवा गन्ने का ताजा रस पिलाने से नकसीर में पूरा आराम मिलता है |*

    ???? ~ *हिन्दू पंचांग* ~ ????

    ???? *बेहोश होने पर( Coma से बाहर लाने )*
    ???? *कोई बेहोश हो गया हो तो उसके सिर पर तिल के तेल की मालिश करो, पैरों पर तिल का तेल रगड़ो । उस के कानों में "ऐं ऐं" अथवा "ॐ ॐ" बोलें ।*

    ???? *~ हिन्दू पंचांग ~* ????

    ???? *मनोरथ सिद्धि* ????
    ???????? *“गुरु ….गुरु” के जप से भक्तों का मनोरथ पूरा होता है |*
    ???????? *भगवान शिवजी कहते है: गुरु मंत्रों मुखे यस्य, तस्य सिद्धि न अन्यथा गुरु लाभात सर्व लाभों गुरु हीनस्थ बालिश: |*
    ???????? *जिसके जीवन में गुरु नही है उसका कोई सच्चा हित करने वाला भी नहीं है | जिसके जीवन में गुरु है वो चाहे बाहर से शबरी भीलन जैसा गरीब हो फिर भी सोने की लंका वाले रावन से शबरी आगे आ गयी, रहिदास चमार हो फिर भी गुरु मन्त्र है मीरा के तारणहार हो गए |*
    ???????? *गुरु शब्द बहुत powerful है और गुरुदर्शन, गुरु blessing बहुत बहुत कल्याण करता है | तो बोले 'गु'कार सिद्धि प्रोक्तो रेफ़ पापस्य हारक | गुरु में ‘र’ जो है पापनाशक है | 'ऊ'कारो विष्णु अव्यक्त: त्रेआत्मा: गुरु परः | ये तीनो शब्द गुरु शब्द के है | गुरु शब्द का ‘ग’कार सिद्धि देनेवाला, ‘र’कार पाप हरनेवाला ‘ऊ’कार अव्यक्त विष्णु भगवान से मिलानेवाला | गुरु वो है जो श्रेष्ठ है और तीनों से पार भी है | ये आगमसार ग्रंथ है उसका श्लोक मैंने तुमको सुनाया |*


    *???????????? आर्यावर्त भरतखंड ????????????*
    ???? ~ *हिन्दू पंचांग* ~ ????
    ????????????????????????????????????????????????
    आश्रम के सोजन्य सेNote: All the postings of mine in this whole forum is not my own collection. All are downloaded from internet posted by some one else. Am not violating any copy rights law or not any illegal action am not supposed to do.

  7. #7
    सदस्य anita's Avatar
    Join Date
    Jun 2009
    Posts
    34,043
    १४ और १५ तारीख़ के पंचांग तो आपने डाले नहीं

    हो सके तो गोचर भी बता दिया करे


    धन्यवाद
    सभी उपस्थित मित्रो से निवेदन है फोरम पे कुछ न कुछ योगदान करे,अपनी रूचि के अनुसार किसी भी सूत्र में अपना योगदान दे सकते है,या फिर आप भी कोई नया सूत्र बना सकते है

  8. #8
    आश्रमाचार्य amol05's Avatar
    Join Date
    Feb 2010
    Location
    Delhi NCR
    Posts
    13,874
    ???? ~ *आज का हिन्दू पंचांग* ~ ????
    ⛅ *दिनांक 16 जून 2020*
    ⛅ *दिन - मंगलवार*
    ⛅ *विक्रम संवत - 2077 (गुजरात - 2076)*
    ⛅ *शक संवत - 1942*
    ⛅ *अयन - उत्तरायण*
    ⛅ *ऋतु - ग्रीष्म*
    ⛅ *मास - आषाढ़ (गुजरात एवं महाराष्ट्र अनुसार ज्येष्ठ)*
    ⛅ *पक्ष - कृष्ण*
    ⛅ *तिथि - एकादशी पूर्ण रात्रि तक*
    ⛅ *नक्षत्र - अश्विनी पूर्ण रात्रि तक*
    ⛅ *योग - शोभन दोपहर 01:43 तक तत्पश्चात अतिगण्ड*
    ⛅ *राहुकाल - शाम 03:49 से शाम 05:30 तक*
    ⛅ *सूर्योदय - 05:58*
    ⛅ *सूर्यास्त - 19:20*
    ⛅ *दिशाशूल - उत्तर दिशा में*
    ⛅ *व्रत पर्व विवरण - एकादशी वृद्धि तिथि*
    ???? *विशेष - हर एकादशी को श्री विष्णु सहस्रनाम का पाठ करने से घर में सुख शांति बनी रहती है lराम रामेति रामेति । रमे रामे मनोरमे ।। सहस्त्र नाम त तुल्यं । राम नाम वरानने ।।*
    ???? *आज एकादशी के दिन इस मंत्र के पाठ से विष्णु सहस्रनाम के जप के समान पुण्य प्राप्त होता है l*
    ???? *एकादशी के दिन बाल नहीं कटवाने चाहिए।*
    ???? *एकादशी को चावल व साबूदाना खाना वर्जित है | एकादशी को शिम्बी (सेम) ना खाएं अन्यथा पुत्र का नाश होता है।*
    ???? *जो दोनों पक्षों की एकादशियों को आँवले के रस का प्रयोग कर स्नान करते हैं, उनके पाप नष्ट हो जाते हैं।*
    ???? *~ हिन्दू पंचांग ~* ????

    ???? *योगिनी एकादशी* ????
    ➡ *16 जून 2020 मंगलवार को प्रातः 05:41 से 17 जून बुधवार को सुबह 07:50 तक एकादशी है ।*
    ???? *विशेष - 17 जून बुधवार को एकादशी का व्रत (उपवास) रखें ।*
    ???????? *योगिनी एकादशी (महापापों को शांत कर महान पुण्य देनेवाला तथा 88000 ब्राह्मणों को भोजन कराने का फल देनेवाला व्रत)*

    ???? *~ हिन्दू पंचांग ~* ????

    ???? *वास्तु शास्त्र* ????
    ⏰ *घड़ी*
    *खराब घड़ी घर में नहीं रखना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि घड़ियों की स्थिति से हमारे घर-परिवार की उन्नति निर्धारित होती है। यदि घड़ी सही नहीं होगी परिवार के सदस्य कार्य पूर्ण करने में बाधाओं का सामना करेंगे और काम निश्चित समय में पूर्ण नहीं हो पाएगा।*
    ???? *~ हिन्दू पंचांग ~* ????

    ???? *आपत्तिनिवारण के लिए ‘शिवसूत्र’ मंत्र* ????
    ???????? *जिस समय आपत्तियाँ आ धमकें, उस समय भगवन शिव के डमरू से प्राप्त १४ सूत्रों को अर्थात् ‘शिवसूत्र’ मंत्र को एक श्वास में बोलने का अभ्यास करके इसका एक माला (१०८ बार) जप प्रतिदिन करें| कैसा भी कठिन कार्य हो, इससे शीघ्र सिद्धि प्राप्ति होती है| ‘शिवसूत्र’ मंत्र इस प्रकार है-*
    ???? *‘अइउण, ॠलृक्, एओड़्, ऐऔच्, हयवरट्, लण्, ञमड़णनम्, झभञ्, घढधश्, जबगडदश्, खफछठथ, चटतव्, कपय्, शषसर्, हल्|’*
    ➡ *इसी मंत्र के अन्य प्रयोग निम्नानुसार है-*
    ???????? *१. बिच्छू के काटने पर इन सूत्रों से झाड़ने पर विष उतर जाता है|*
    ???????? *२. जिस व्यक्ति में प्रेत का प्रवेश आया हो, उस पर उपरोक्त सूत्रों से अभिमंत्रित जल के छीटें मारने से प्रवेश छूट जाता है तथा इन्हीं सूत्रों को भोजपत्र पर लिख कर गले मे बाँधने से अथवा बाजू पर बाँधने से प्रेतबाधा दूर हो जाती है|*
    ???????? *३. ज्वर, तिजारी (ठंड लगकर तीसरे दिन आनेवाला ज्वर), चौथिया (हर चौथे दिन आनेवाला ज्वर) आदि में इन सूत्रों द्वारा झाड़ने-फूँकने से ज्वर उतर जाता है| अथवा इन्हें पीपल के एक बड़े पत्ते पर लिखकर गले या हाथ पर बाँधने से भी ज्वर उतर जाते हैं|*
    ???????? *४. मिर्गी(अपस्मार) होने पर भी इन सूत्रों से झाड़ना चाहिए तथा अभिमंत्रित जल प्रतिदिन पिलाना चाहिए|*

    *???????????????? आर्यावर्त भरतखंड ????????????*

    ???? *~ हिन्दू पंचाग ~* ????
    ????????????????????????????????????????
    आश्रम के सोजन्य सेNote: All the postings of mine in this whole forum is not my own collection. All are downloaded from internet posted by some one else. Am not violating any copy rights law or not any illegal action am not supposed to do.

  9. #9
    आश्रमाचार्य amol05's Avatar
    Join Date
    Feb 2010
    Location
    Delhi NCR
    Posts
    13,874
    वो भी मिल जायेगा महोदया,, कल का रह गया क्षमा प्रार्थी हूँ।
    आश्रम के सोजन्य सेNote: All the postings of mine in this whole forum is not my own collection. All are downloaded from internet posted by some one else. Am not violating any copy rights law or not any illegal action am not supposed to do.

  10. #10
    सदस्य anita's Avatar
    Join Date
    Jun 2009
    Posts
    34,043
    Quote Originally Posted by amol05 View Post
    वो भी मिल जायेगा महोदया,, कल का रह गया क्षमा प्रार्थी हूँ।
    अरे क्षमा की कोई बात नहीं है

    सिर्फ इसलिए कहा की सूत्र चलता रहे और आप नियमित तौर पे मंच पे आते रहे है

    गर आपको कुछ ज्योतिष ज्ञान है तो वो भी हम लोगो के साथ बांटे
    सभी उपस्थित मित्रो से निवेदन है फोरम पे कुछ न कुछ योगदान करे,अपनी रूचि के अनुसार किसी भी सूत्र में अपना योगदान दे सकते है,या फिर आप भी कोई नया सूत्र बना सकते है

Page 1 of 4 123 ... LastLast

Posting Permissions

  • You may not post new threads
  • You may not post replies
  • You may not post attachments
  • You may not edit your posts
  •