Page 2 of 2 FirstFirst 12
Results 11 to 17 of 17

Thread: शिरडी साई बाबा और ख्वाजा ग़रीब नवाज़-अजमेर के चमत्कारों का राज़

  1. #11
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,465
    इतिहास के मुताबिक हिन्दुस्तान में सूफीवाद का उद्गम भक्ति आंदोलन की तर्ज पर ही हुआ और ईरान के संजर नगर से चलकर हिन्दुस्तान की सरजमीं पर धर्म के प्रचार-प्रसार के लिए पहुंचे सूफी-संत हजरत ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती ने जब 11वीं सदी के अंतिम हिन्दू सम्राट पृथ्वीराज चौहान के शहर अजमेर को अपना उपासना स्थल और कर्मभूमि बनाई तो उन्होंने महसूस किया कि यहां एकतरफा धर्म नहीं चल सकता। यहां इस्लामी सिद्धांतों को यहां की धार्मिक मान्यताओं से जोड़कर चलना होगा। इस दूरदर्शी नजर के चलते महान सूफी ख्वाजा ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती ने सांप्रदायिक एकता, भाईचारगी और आपसी प्रेम का पाठ पढ़ाने का मिशन लेकर सूफी परंपरा आरंभ की।

  2. #12
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,465
    दुनियाभर में धर्म के नाम पर संघर्ष और देशभर में सांप्रदायिक जहर फैलाने वाले तत्वों के बावजूद ख्वाजा की दरगाह में हिन्दू, जैन, सिख सभी तरह के विचार रखने वाले धर्म के अनुयायी बड़ी संख्या में अपनी अकीदत का नजराना आज भी पेश करते हैं। सूफीवाद में एक ईश्वर की उपासना तो है लेकिन सूफी को किसी एक धर्म से जोड़कर देखना नहीं है। यही सबसे बड़ा कारण रहा है कि 800 साल से ख्वाजा के दर पर सभी धर्मों के लोग बराबर अपनी आस्था रखते आ रहे हैं।
    --------------
    साभार: वेब दुनिया

  3. #13
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,465
    आइए अब जानते हैं- शिरडी साई बाबा के बारे में-

    शिरडी साई बाबा: साईं बाबा कौन थे योगी, संत या फकीर? जानिए इतिहास

    शिर्डी श्री साईं बाबा को भारत में एक महान संत के रूप में जाना जाता है। कहा जाता है कि ये अद्भुत शक्तियों से सम्पन्न थे। शिर्डी साईं बाबा के भक्त आज भी लाखों की संख्या में हैं। साईं बाबा के भक्त इनके अद्भुत चमत्कारों की चर्चा करते आए हैं। इनके भक्त ऐसा मानते हैं कि ये ईश्वर के अवतार थे। हिन्दू और मुस्लिम दोनों ही समुदाय के लोग इन्हें पूजते हैं। शिर्डी साईं बाबा को मानने वाले उन्हें योगी, संत, फकीर कहलकर पुकारते हैं। शिर्डी साईं बाबा के धर्म और जन्म को लेकर लोगों में विरोधाभास है। कुछ लोग उन्हें हिन्दू मानते हैं तो लोग मुस्लिम। परंतु, वे सभी धर्मों का सम्मान करने वाले थे जो हमेशा ‘सबका मालिक एक’ जपते थे। आइए जानते हैं उनके जीवन के बारे में-

  4. #14
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,465
    श्री साईं बाबा को भारत में एक महान संत के रूप में जाना जाता है। कहा जाता है कि ये अद्भुत शक्तियों से सम्पन्न थे। में से एक के रूप में देखा जाता है, जो अभूतपूर्व शक्तियों से संपन्न हैं, और एक भगवान के रूप में पूजे जाते हैं। साईं एक युवा फकीर के रूप में सबसे पहले शिरडी गए और जीवनभर वहीं रहे। मान्यता है कि जो भी उनसे मिलने आया उसका जीवन बदल गया। साईं बाबा के जन्म स्थान को लेकर इतिहासकारों और विद्वानों में अलग-अलग मत हैं। कुछ विद्वानों का मानना है कि इनका जन्म महाराष्ट्र के पाथरी गांव में 28 दिसंबर के दिन साल 1835 में हुआ था। हालांकि उनके जन्म को लेकर कोई ठोस प्रमाण नहीं है।

  5. #15
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,465
    साईं सत्चरित्र नामक किताब के मुताबिक साईं 16 साल की अवस्था में महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले के शिर्डी गांव में आए थे। जहां वे एक सन्यासी का जीवन व्यतीत कर रहे थे। वे हमेशा एक नीम के पेड़ के नीचे ध्यान लगाकर भक्ति में लीन रहते थे। धीरे-धीरे लोग इनके उपदेशों को अपनाने लगे और इस तरह इनकी ख्याति आसपास के गांवों में बढ़ती गई।

  6. #16
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,465
    कहां स्थित है साईं मंदिर

    महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले के शिर्डी गांव में साईं मंदिर स्थित है। इस मंदिर से आज भी लोगों की आस्था जुड़ी हुई है। कहते हैं कि इस मंदिर के दर्शन के लिए देश-विदेश से लोग आते हैं। यह मंदिर साईं बाबा की समाधि पर बनाया गया है। मंदिर से जुड़ी हुई मान्यता है कि जो भक्त सच्चे मन से साईं के दर्शन करने मंदिर पहुंचते हैं, उनकी कामना पूरी होती है।

    -------------------------
    साभार: जनसत्ता ऑनलाइन

  7. #17
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,465

    Cool

    शिरडी श्री साई बाबा और ख्वाजा ग़रीब नवाज़-अजमेर के विरोध में कुतर्क करने वालों की भी कोई कमी नहीं है। आइए, सबसे पहले जानते हैं शिरडी श्री साई बाबा के विरोध में अन्तर्जाल में क्या-क्या कुतर्क प्रस्तुत किए जाते हैं-

Page 2 of 2 FirstFirst 12

Posting Permissions

  • You may not post new threads
  • You may not post replies
  • You may not post attachments
  • You may not edit your posts
  •