Page 1 of 5 123 ... LastLast
Results 1 to 10 of 45

Thread: एक्ट्रा मैरिटल अफ़ेयर्स में सेक्स लाइफ़ कैसे मैनेज करें?

  1. #1
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,956

    Cool एक्ट्रा मैरिटल अफ़ेयर्स में सेक्स लाइफ़ कैसे मैनेज करें?


  2. #2
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,956
    हमारा दावा है- गूगल बाबा की तशरीफ़ में बाँस डालकर सम्पूर्ण अन्तर्जाल में ढूँढ़ डालिएगा तो भी इस विषय पर आपको कोई लेख किसी भाषा में भी नहीं मिलेगा। यह एक अद्भुत और नूतन लेख है जो पूर्णतया मौलिक होने के साथ-साथ दुर्लभ भी है। अतः पाठकगण मन लगाकर इस मौलिक लेख को पढ़ने का आनन्द लें।

  3. #3
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,956
    इस लेख पर चर्चा आगे बढ़ाने से पहले हम यह बता दें कि यदि आप विवाहेतर सम्बन्धों (Extra Marital Affairs) पर एक बेहतरीन मूवी देखना चाहते हैं तो वर्ष 2022 में लोकार्पित अँग्रेज़ी फ़ीचर फ़िल्म 'डीप वाटर (Deep Water)' देखें।

  4. #4
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,956

  5. #5
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,956
    पुरूषों ने यदि 'डीप वाटर' मूवी देख लिया तो वे 'अपनी पत्नी के प्रेमियों को बड़ी बेशर्मी से हजम करने की नूतन कला' को बड़ी आसानी से सीख जाएँगे। पत्नी से प्रेम की बड़ी अद्भुत कहानी है 'डीप वाटर'। 'अरे भाई, हमें इस कला को सीखने की क्या ज़रूरत? हमारी पत्नी थोड़े ही ऐसी है।'--जैसा तर्क देने वालों के लिए हम यही कहेंगे कि आप खुशफ़हमी में जी रहे हैं, क्योंकि अभी हम जो प्रमाणिक आँकड़े देने वाले हैं उसे देखकर आपका सिर चकरा जाएगा और आप सदमे का शिकार हो जाएँगे। दिल थामकर आगे पढ़िए। कमज़ोर दिल वाले तत्काल पढ़ना छोड़ दें, अन्यथा हमारी कोई जिम्मेदारी न होगी।

  6. #6
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,956
    एक्स्ट्रा मैरिटल डेटिंग एप ग्लीडन द्वारा एक रिसर्च ऑनलाइन कराया गया था जिसमें दिल्ली, कोलकाता, मुंबई, चेन्नई, बैंगलोर, पुणे, अहमदाबाद और हैदराबाद जैसे बड़े शहरों के 1500 लोगों ने भाग लिया था। इस रिसर्च के अनुसार 53 प्रतिशत भारतीय महिलाओं ने माना है कि वे अपने पति के अलावा किसी अन्य पुरुष के साथ इंटिमेट रिलेशनशिप में हैं। जबकि शादी के अलावा दूसरी महिलाओं से सम्बन्ध रखने वाले पुरुषों की संख्या 43 प्रतिशत थी। अतः इस रिसर्च के द्वारा यह खुलासा हुआ कि पुरुषों के मुकाबले उन महिलाओं की संख्या ज्यादा थी जो नियमित रूप से अपने पति के अलावा अन्य पुरुषों से शारीरिक सम्बन्ध बनाती हैं।

  7. #7
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,956
    'अरे, हमारे तो बाल-बच्चे भी हैं। अब हमें किस बात का डर?'--कहकर गर्व से कॉलर खड़े करने वाले पुरूषों के लिए भी एक बहुत बड़ी बुरी ख़बर है। वह बहुत बड़ी बुरी ख़बर यह है कि एक्स्ट्रा मैरिटल डेटिंग एप ग्लीडन द्वारा कराए गए रिसर्च द्वारा यह भी पता चला है कि विवाहेतर सम्बन्ध रखने वाली महिलाओं में 48 प्रतिशत महिलाएँ माँ (Mom) थीं।

  8. #8
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,956
    'हे-हे-हे! हमारी तो लव मैरिज है। हमें कोई ख़तरा नहीं।'--कहकर खी-खी करके दाँत निकालकर खिल्ली उड़ाने वालों को बता दें कि यह एक कटु सत्य है कि अरेंज मैरिज की तुलना में लव मैरिज आसानी से टूटने की सम्भावना अधिक होती है। अतः लव मैरिज होने के बावजूद विवाहेतर सम्बन्ध के ख़तरे की तलवार हमेशा सिर पर लटकती रहती है, जिसे कतई नज़रअंदाज नहीं किया जा सकता। परम्परागत विवाह अर्थात् अरेंज मैरिज के टूटने के कई कारण हो सकते हैं, क्योंकि अरेंज मैरिज एक तरह का ब्लाइंड गेम होता है। इसका सबसे बड़ा नकारात्मक पहलू यह होता है कि आपको विवाह के बाद अपने पार्टनर को जानना-समझना और रोमांस करना पड़ता है। विवाह से पहले आपको अपने पार्टनर के स्वभाव, उनकी पसन्द-नापसन्द तथा उनके अतीत के बारे में कोई जानकारी नहीं होती है तथा अचानक पार्टनर का छुपा हुआ स्वरूप सामने आ जाने से रिश्ते में दरार आ सकती है। अरेंज मैरिज के टूटने के मुख्यतः तीन कारण हो सकते हैं। पहला कारण- यदि किसी कारणवश कपल के बीच में भावनात्मक सम्बन्ध मज़बूत नहीं हो पाता तो रिश्ते में खटास आनी शुरू हो जाती है। दूसरा कारण- यदि आप पत्नी की इच्छाओं उसके सपनों की कद्र नहीं करते तो रिश्ते में दरार आनी शुरू हो जाती है। तीसरा कारण- यदि आप पत्नी को अस्वस्थ शारीरिक सम्बन्ध (Unhealthy Relationship) बनाने के लिए दबाव डालते हैं तो यह ख़तरे की घण्टी है। आपकी पत्नी कभी भी उड़नछू हो सकती है। बता दें कि अस्वस्थ शारीरिक सम्बन्धों में अनल सेक्स, ओरल सेक्स, ब्लोजॉब इत्यादि की गिनती होती है। अतः स्पष्ट है- रिश्तों में खटास या दरार आने के बाद पत्नी के उड़नछू होने की सम्भावना बहुत बढ़ जाती है। पत्नी अगर वर्किंग वुमन हुई तो अलग घर ले लेगी, नहीं हुई तो मायके में जाकर जम जाएगी और आप बस हाथ मलते ही रह जाएँगे, 'रंगों' की तरह। लोगों को ऐसा लगेगा- आप अपने हाथ से होली का रंग छुड़ा रहे हैं।

  9. #9
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,956
    परम्परागत विवाह अर्थात् अरेंज मैरिज की तरह लव मैरिज कोई ब्लाइंड गेम नहीं होता है। लव मैरिज का सबसे बड़ा सकारात्मक पहलू यह होता है कि आप कई महीने तक ठोंक-बजाकर देखने-समझने के बाद ही प्यार में पड़ते हैं। कुछ लव कपल और अधिक कायदे से 'ठोंक-बजाकर' देखने-समझने के लिए 'लिव-इन-रिलेशनशिप' में कूद पड़ते हैं और सालों तक एक-दूसरे को कायदे से 'ठोंक-बजाकर' देखने-समझने के बाद लव मैरिज कर लेते हैं। अतः लव मैरिज में आप अपने पार्टनर को पहले से ही अच्छी तरह से समझते हैं और विवाह के बाद आपको अपने पार्टनर को न तो जानने में ही रुचि होती है और न ही ज़रूरत। लव मैरिज का इतना बड़ा सकारात्मक पहलू होते हुए भी जब अचानक रिश्ता टूटने के कगार पर पहुँच जाता है या टूट जाता है तो लोग मुँह खोलकर अचरज व्यक्त करते हैं और प्रेम-विवाह के विरोधी लोग फटाक् से बोलने लग जाते हैं कि 'देखा, हमने तो पहले ही कहा था- लव मैरिज वेस्ट होता है और अरेंज मैरिज बेस्ट होता है!'

  10. #10
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,956
    अब सबसे बड़ा यक्ष-प्रश्न यही है कि लव मैरिज का इतना बड़ा सकारात्मक पहलू होते हुए भी अधिकतर मामलों में आखिर क्यों रिश्ता टूट जाता है और कुछ मामलों में कभी नहीं टूटता? रिश्ता टूटने के पीछे का राज़ आखिर क्या है? मिल्की-वे का सबसे बड़ा 'टर्रर' होने के कारण हमारे पास पूरे मिल्की-वे से रोज़ अरबों-खरबों की तादाद में ईमेल, टेक्स्ट मैसेज, पत्र वगैरह प्राप्त होते रहते हैं जिसमें एक ही बात लिखी होती है कि 'रूठी हुई गर्लफ्रेंड या पत्नी को कैसे मनाएँ?' यहाँ पर बता दें कि शहर में ढ़ाई लाख आशिक़ों वाली गर्लफ्रेंड स्वघोषित दुनियाँ की सबसे बड़ी 'टर्रर' है। इसलिए हमने उससे भी एक कदम आगे बढ़कर अपने आप को मिल्की-वे का सबसे बड़ा 'टर्रर' घोषित कर दिया है। नवागत लेखक भी इस गुर को गाँठ बाँध लें कि पाठकों के बीच अपना भौकाल बनाने के लिए रोजाना लाखों-करोड़ों ईमेल, टेक्स्ट मैसेज, पत्र वगैरह प्राप्त होने की झूठी बात बड़ी बेशर्मी से हाँकी जाती है। इससे पाठकगण अत्यन्त प्रभावित होते हैं। अब आते हैं असली मुद्दे पर। पुरूषों की मुख्य समस्या है- 'रूठी हुई गर्लफ्रेंड या पत्नी को कैसे मनाएँ?' अतः जब इस बात का समाधान नहीं मिलता तो पुरूष अक्सर विवाहेतर सम्बन्ध अर्थात् एक्ट्रा मैरिटल अफ़ेयर में कूद जाते हैं।

Page 1 of 5 123 ... LastLast

Posting Permissions

  • You may not post new threads
  • You may not post replies
  • You may not post attachments
  • You may not edit your posts
  •