Page 5 of 6 FirstFirst ... 3456 LastLast
Results 41 to 50 of 53

Thread: जुए की महफिल - सुरेन्द्र मोहन पाठक

  1. #41
    कार्टून विशेषज्ञ
    Join Date
    Dec 2009
    Posts
    97
    -----------------
    Attached Images/संलग्न चित्र Attached Images/संलग्न चित्र  

  2. #42
    कार्टून विशेषज्ञ
    Join Date
    Dec 2009
    Posts
    97
    ---------------
    Attached Images/संलग्न चित्र Attached Images/संलग्न चित्र  

  3. #43
    कार्टून विशेषज्ञ
    Join Date
    Dec 2009
    Posts
    97
    --------------------
    Attached Images/संलग्न चित्र Attached Images/संलग्न चित्र  

  4. #44
    कार्टून विशेषज्ञ
    Join Date
    Dec 2009
    Posts
    97
    -------------
    Attached Images/संलग्न चित्र Attached Images/संलग्न चित्र  

  5. #45
    कार्टून विशेषज्ञ
    Join Date
    Dec 2009
    Posts
    97
    --------------
    Attached Images/संलग्न चित्र Attached Images/संलग्न चित्र  

  6. #46
    कार्टून विशेषज्ञ
    Join Date
    Dec 2009
    Posts
    97
    ----------------
    Attached Images/संलग्न चित्र Attached Images/संलग्न चित्र  

  7. #47
    कार्टून विशेषज्ञ
    Join Date
    Dec 2009
    Posts
    97
    ------------------
    Attached Images/संलग्न चित्र Attached Images/संलग्न चित्र  

  8. #48
    कार्टून विशेषज्ञ
    Join Date
    Dec 2009
    Posts
    97
    आज मेरे antivirus programme से कोई चेतावनी नहीं मिली। इसलिए मैंने अधूरी कहानी को पूरी करने का निश्चय किया। लेकिन यहाँ आ कर मुझे कुछ नई जानकारियाँ भी मिली हैं - मसलन यहाँ सिर्फ इधर का उधर किया जाता है जिसमे न समय लगता है और न मेहनत। जिन वेब साइट्स पर वित्तीय लेनदेन नहीं किया जाता उन पर viruses, malware, spyware, ransomware आदि का कोई खतरा नहीं होता। क्योंकि https साइट्स पर भी वाइरस हो सकते हैं, इसलिए antivirus programmes खरीदने की कोई जरूरत नहीं है (इसी तरह सीट बेल्ट लगाना बेकार है क्योंकि सीट बेल्ट लगाने पर भी मृत्यु हो सकती है।

    यह सब जान कर मुझे अब और कहानियाँ/उपन्यास पोस्ट करने का कोई औचित्य नज़र नहीं आ रहा है।

  9. #49
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,982
    Quote Originally Posted by Poorangyan View Post
    आज मेरे antivirus programme से कोई चेतावनी नहीं मिली। इसलिए मैंने अधूरी कहानी को पूरी करने का निश्चय किया। लेकिन यहाँ आ कर मुझे कुछ नई जानकारियाँ भी मिली हैं - मसलन यहाँ सिर्फ इधर का उधर किया जाता है जिसमे न समय लगता है और न मेहनत। जिन वेब साइट्स पर वित्तीय लेनदेन नहीं किया जाता उन पर viruses, malware, spyware, ransomware आदि का कोई खतरा नहीं होता। क्योंकि https साइट्स पर भी वाइरस हो सकते हैं, इसलिए antivirus programmes खरीदने की कोई जरूरत नहीं है (इसी तरह सीट बेल्ट लगाना बेकार है क्योंकि सीट बेल्ट लगाने पर भी मृत्यु हो सकती है।

    यह सब जान कर मुझे अब और कहानियाँ/उपन्यास पोस्ट करने का कोई औचित्य नज़र नहीं आ रहा है।
    यह साईट भी https:// ही है। बस सर्टिफिकेट बड़ी कम्पनी का नहीं है.. और फिर बुद्धिमान लोग Antivirus नहीं इस्तेमाल करते। एंटीवायरस की सिक्योरिटी तोड़कर वायरस घुस जाता है। इसलिए एंटीवायरस का बाप 'डीप फ्रीज़' खरीदिए। वायरस घुसेगा, लेकिन कुछ बिगाड़ नहीं पाएगा। अगले सिस्टम रिबूट पर वायरस अपने आप स्वाहा हो जाएगा।

  10. #50
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,982
    डीप फ्रीज़ की बदौलत हम अपने सिस्टम पर वायरस से पिछले दस सालों से कबड्डी खेल रहे हैं।

Page 5 of 6 FirstFirst ... 3456 LastLast

Posting Permissions

  • You may not post new threads
  • You may not post replies
  • You may not post attachments
  • You may not edit your posts
  •