loading...
Page 6 of 6 प्रथमप्रथम ... 456
Results 51 to 55 of 55

Thread: रक्षा बंधन

  1. #51
    रजत सदस्य bndu jain's Avatar
    Join Date
    Sep 2016
    Location
    मध्य प्रदेश
    प्रविष्टियाँ
    23,217
    Rep Power
    24
    loading...

  2. #52
    रजत सदस्य bndu jain's Avatar
    Join Date
    Sep 2016
    Location
    मध्य प्रदेश
    प्रविष्टियाँ
    23,217
    Rep Power
    24

    वहीं महाराष्ट्र में रक्षाबंधन को नारियल पूर्णिमा कहते हैं, इस दिन सभी समुद्र के किनारे इकट्ठा होकर समुद्र में नारियल चढ़ाते हैं की समुद्र उनके ऊपर आपदा नहीं लायेगे। तमिलनाडु, केरल महारास्ट्र,ओडिशा के दक्षिण भारतीय ब्राह्मण इसे ‘अवनि अवित्तम’ कहते हैं। राजस्थान में ‘राम राखी लूम्बा’ बांधने का प्रचलन है। राम राखी में लाल डोरे पर एक पीली चोटी वाला फुदना लगा होता जिसे केवल भगवान को बांधते हैं। कुछ प्रान्तों में भाई के कानों के ऊपर भुजरिया लगाने की प्रथा है।

    पड़ोसी देश नेपाल के तरेाई वाले क्षेत्र में यह पर्व ‘भाई टीका’ के नाम से प्रसिद्ध है। तराई क्षेत्र में रहने वाले भाइयों को फल-फूल और मिठाई लेकर अपनी शादीशुदा बहन के घर जाने का रिवाज है। जहां बहनें अपने भाई की कलाई पर राखी बांध कर माथे पर टीका लगाती हैं और अपने भाई के लिए मंगलकामना करती हैं।


  3. #53
    रजत सदस्य bndu jain's Avatar
    Join Date
    Sep 2016
    Location
    मध्य प्रदेश
    प्रविष्टियाँ
    23,217
    Rep Power
    24

  4. #54
    कर्मठ सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    प्रविष्टियाँ
    1,889
    Rep Power
    2
    Quote Originally Posted by bndu jain View Post
    उत्तर भारत में इसे रक्षा बंधन पर्व के रूप में मनाया जाता है, दक्षिण भारत में इस पर्व के कई नाम हैं। दक्षिण भारत रक्षाबंधन को नारियल पूर्णिमा और अवनी अवित्तम के रूप में मनाया जाता है तो मध्य भारत में कजरी पूनम और गुजरात में पवित्रोपना के रूप में मनाया जाता है।

    दक्षिण भारत में रक्षाबन्धन के दिन यदि आवणि अविट्टम (ஆவணி அவிட்டம்) के नाम से कोई दूसरा त्यौहार मनाया जा रहा है तो इसका अर्थ यह नहीं कि वे लोग रक्षाबन्धन मना रहे हैं।

    आवणि अविट्टम मनाए जाने का उद्देश्य ही दूसरा है और फिर यह त्यौहार ब्राह्मण वर्ग का है।

    समयाभाव के कारण यहाँ पर सम्पूर्ण विवरण नहीं दिया जा रहा है।

  5. #55
    कर्मठ सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    प्रविष्टियाँ
    1,889
    Rep Power
    2
    इस त्यौहार को एक माह पहले ही आडि अविट्टम के रूप में भी ब्राह्मण वर्ग मना लेते हैं। अतः इस त्यौहार को रक्षाबन्धन से जोड़कर देखना कहीं से न्यायसंगत प्रतीत नहीं होता।

Page 6 of 6 प्रथमप्रथम ... 456

Thread Information

Users Browsing this Thread

There are currently 1 users browsing this thread. (0 members and 1 guests)

Bookmarks

Posting Permissions

  • You may not post new threads
  • You may not post replies
  • You may not post attachments
  • You may not edit your posts
  •