Page 4 of 4 FirstFirst ... 234
Results 31 to 39 of 39

Thread: कॉमेडी थ्रिलर: आइ रियली डोंट नो ह्वाट यू डिड लास्ट समर

  1. #31
    कांस्य सदस्य sultania's Avatar
    Join Date
    Sep 2011
    Location
    MAKERS OF DIFFRENT TYPE THRED
    Posts
    5,642
    अच्छी मनोरंजक कोशिश । धन्यवाद
    हकलाते हैं तो संस्कृत सीखें,जो व्यक्ति धाराप्रवाह बोल नहीं पाते, अटकते हैं या फिर हकलाते हैं उन्हें संस्कृत सीखना चाहिए।संस्कृत से हकलाना भी खत्म हो जाता है।

  2. #32
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,614
    पाठकों को यह जानकर बड़ी निराशा होगी कि इस कहानी का अगला भाग 'आइ स्टिल रियली डोंट नो ह्वाट यू डिड लास्ट समर' लिखने की हमारी कोई योजना नहीं है। सच्चाई तो यह है कि हमने मूल अँग्रेज़ी फ़िल्म 'आइ नो ह्वाट यू डिड लास्ट समर' का अगला भाग 'आइ स्टिल नो ह्वाट यू डिड लास्ट समर' आज तक नहीं देखा!

  3. #33
    कर्मठ सदस्य
    Join Date
    Apr 2011
    Age
    30
    Posts
    2,022
    अच्छी वर्किंग की है आपने।

  4. #34
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,614
    Quote Originally Posted by punjaban rajji kaur View Post
    अच्छी वर्किंग की है आपने।
    ऐसा कुछ नहीं है। बहुत ही रफ़ वर्किंग है यह!

  5. #35
    कर्मठ सदस्य
    Join Date
    Apr 2011
    Age
    30
    Posts
    2,022
    Quote Originally Posted by superidiotonline View Post
    ऐसा कुछ नहीं है। बहुत ही रफ़ वर्किंग है यह!
    फिर भी। सोचा भी होगा , फिर लिखा भी होगा।

  6. #36
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,614
    Quote Originally Posted by punjaban rajji kaur View Post
    फिर भी। सोचा भी होगा , फिर लिखा भी होगा।
    कुछ लोग लिखने के लिए बहुत सोचते हैं जैसे पिछ्ली शताब्दि के फ़िल्मी लेखक अबरार अलवी बहुत सोचते थे। मुझे इतना सोचने की ज़रूरत नहीं पड़ती। आइडिया अपने आप बहुत अधिक आते रहते हैं, जिसके कारण कई रचनाएँ इस मंच पर अधूरी हैं, क्योंकि लिखने का वक्त नहीं है।

  7. #37
    कर्मठ सदस्य
    Join Date
    Apr 2011
    Age
    30
    Posts
    2,022
    Quote Originally Posted by superidiotonline View Post
    कुछ लोग लिखने के लिए बहुत सोचते हैं जैसे पिछ्ली शताब्दि के फ़िल्मी लेखक अबरार अलवी बहुत सोचते थे। मुझे इतना सोचने की ज़रूरत नहीं पड़ती। आइडिया अपने आप बहुत अधिक आते रहते हैं, जिसके कारण कई रचनाएँ इस मंच पर अधूरी हैं, क्योंकि लिखने का वक्त नहीं है।
    एक आप ही के सूत्र को आपने ही अधूरा छोड़ा हुआ HA। उस पर भी दृष्टि डालिये आज। साई वाले सूत्र में

  8. #38
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,614
    Quote Originally Posted by punjaban rajji kaur View Post
    एक आप ही के सूत्र को आपने ही अधूरा छोड़ा हुआ HA। उस पर भी दृष्टि डालिये आज। साई वाले सूत्र में
    अभी क्रिप्टो वाला पूरा कर लूँ, फिर सोचूँगा। हम तरह-तरह के सूत्र हर विभाग में लाते रहते हैं, क्योंकि हमेशा डर बना रहता है कि अनीता जी मंच बंद करके भाग न जाएँ। हम अपने सूत्र शहर में ढ़ाई लाख आशिकों वाली गर्लफ्रेंड के मनोरंजन के लिए बनाते हैं, क्योंकि वह तो पढ़ती ही है और साथ में उसके ढ़ाई लाख आशिक भी पढ़ते हैं। अनीता जी मंच बंद करके भाग गईं तो शहर में ढ़ाई लाख आशिकों वाली गर्लफ्रेंड का मनोरंजन कैसे होगा?

  9. #39
    कर्मठ सदस्य
    Join Date
    Apr 2011
    Age
    30
    Posts
    2,022
    Quote Originally Posted by superidiotonline View Post
    अभी क्रिप्टो वाला पूरा कर लूँ, फिर सोचूँगा। हम तरह-तरह के सूत्र हर विभाग में लाते रहते हैं, क्योंकि हमेशा डर बना रहता है कि अनीता जी मंच बंद करके भाग न जाएँ। हम अपने सूत्र शहर में ढ़ाई लाख आशिकों वाली गर्लफ्रेंड के मनोरंजन के लिए बनाते हैं, क्योंकि वह तो पढ़ती ही है और साथ में उसके ढ़ाई लाख आशिक भी पढ़ते हैं। अनीता जी मंच बंद करके भाग गईं तो शहर में ढ़ाई लाख आशिकों वाली गर्लफ्रेंड का मनोरंजन कैसे होगा?
    डरो MAT, लगे रहो अपने काम पे HA HA HA

Page 4 of 4 FirstFirst ... 234

Posting Permissions

  • You may not post new threads
  • You may not post replies
  • You may not post attachments
  • You may not edit your posts
  •