Page 2 of 3 FirstFirst 123 LastLast
Results 11 to 20 of 21

Thread: दिल दिया टोकन लिया

  1. #11
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,497
    गीत - २

    नोट : पाठकगण गीत को पूरा पढ़े बिना आगे न बढ़ें। नहीं तो कहानी समझ में नहीं आएगी।


    दिलीप : मेरे देश का बनियाऽऽ..
    मेरे देश का बनिया गल्ला बेचे..
    बेचे चावल-चीनी..
    मेरे देश का बनियाऽऽ..

    वहीदा : (नाराज़ स्वर में) तो जा के ले लो ना..

    दिलीप : मेरे देश का बनियाऽऽ..
    मेरे देश का बनिया अंडा बेचे..
    बेचे आटा-धनिया..
    मेरे देश का बनियाऽऽ..

    वहीदा : (नाराज़ स्वर में) तो जा के ले लो ना..

    दिलीप : मेरे देश का बनियाऽऽ..
    मेरे देश का बनिया गेहूँ बेचे..
    बेचे सब्ज़ी-भाजी..
    मेरे देश का बनियाऽऽ..

    वहीदा : (नाराज़ स्वर में) तो जा के ले लो ना..

    दिलीप : बनिये की तराजू में जब गल्ला..
    भर-भर तौले जाते हैं..
    जीवन का राग सुनाते हैं..
    गम कोसों दूर हो जाता है..
    खुशियों के कमल मुस्काते हैं..

    सुन के तराज़ू की आवाज़ें..
    यूँ लगे कहीं शहनाई बजे..
    हाथ में आते ही गल्ला-पानी..
    घर में पूड़ी-कचौड़ी छने..

    मेरे देश का बनियाऽऽ..
    मेरे देश का बनिया बेसन बेचे..
    बेचे ठण्डा पानी..
    मेरे देश का बनियाऽऽ..

    वहीदा : (नाराज़ स्वर में) तो जा के ले लो ना..

    दिलीप : बनिये के दूकान की ओर..
    इस धरती पे कदम जब पड़ते हैं..
    मन में उठता है खुशियों का ज्वार..
    और सारे ग़म भूल जाते हैं..

    मेरे देश का बनियाऽऽ..
    मेरे देश का बनिया कंडोम बेचे..
    बेचे सिगरेट-बीड़ी..
    मेरे देश का बनियाऽऽ..

    वहीदा : (नाराज़ स्वर में) तो जा के ले लो ना..

    (दिलीप वहीदा को घूरकर देखता है। वहीदा शर्मा जाती है।)

    दिलीप : मेरे देश का बनियाऽऽ..
    मेरे देश का बनिया गल्ला बेचे..
    बेचे चावल-चीनी..
    मेरे देश का बनियाऽऽ..

    वहीदा : (नाराज़ स्वर में) तो जा के ले लो ना..

    दिलीप : मेरे देश का बनियाऽऽ..
    मेरे देश का बनिया गल्ला बेचे..
    बेचे चावल-चीनी..
    मगर कह दिया है उसने..
    उधार नहीं अब देनी..
    मेरे देश का बनियाऽऽ..

    (वहीदा जाते-जाते रूक जाती है।)

    वहीदा : क्या कहा तुमने?

    दिलीप : मेरे देश का बनियाऽऽ..
    मेरे देश का बनिया गल्ला बेचे..
    बेचे चावल-चीनी..
    मगर कह दिया है उसने..
    उधार नहीं अब देनी..
    मेरे देश का बनियाऽऽ..

  2. #12
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,497
    इस गीत का भरपूर आनन्द लेने के लिए वर्ष १९६७ में लोकार्पित हिन्दी फ़ीचर फ़िल्म उपकार का यह गीत ज़रूर सुनें-


  3. #13
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,497
    गीत सुनकर वहीदा समझ जाती है कि दिलीप को बनिये ने उधार देने से मना कर दिया है। वहीदा शर्मिन्दा हो जाती है और अपने मोबाइल से दिलीप के मोबाइल पर बिग बास्कट का चार टोकन और भेज देती है। दिलीप खुश हो जाता है।

  4. #14
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,497
    वहीदा ब्रॉ और पैंटी पहने कम्प्यूटर पर बैठी काम कर रही है। उसी समय उसकी सहेली सपना आती है और कहती है कि तुम वर्क फ्रॉम होम कर रही हो। कम से कम पूरे कपड़े तो पहन लिया करो। वहीदा हँसते हुए कहती है कि वर्क फ्रॉम होम करते वक्त पूरे कपड़े पहनना कपड़ों की बर्बादी है और फिर वहीदा सपना से बताती है कि दिलीप नाम के एक युवक को बनिये ने उधार देने से मना कर दिया था जिसके कारण बेचारा भूखा मर रहा था और उसे बिग बास्कट का टोकन भी नहीं मिल रहा था। इसलिए तरस खाकर उसने दिलीप को चार टोकन दे दिए हैं। सपना पूछती है कि बनिये को नगद देने के लिए बेचारे के पास पैसा नहीं है तो वह बिग बास्कट का पेमेन्ट कैसे करता है? वहीदा सोचने लगती है और कहती है कि वह इस बात को दिलीप से पूछेगी।

  5. #15
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,497
    दिलीप अपने दोस्त अमित से बताता है कि उसे एक बहुत बड़ी दानी लड़की वहीदा मिली है जो चुटकी बजाते ही उसके एकाउंट में बिग बास्कट का चार टोकन भेज देती है। अमित आश्चर्यचकित रह जाता है और कहता है कि बिग बास्कट में एक समय में एक ही टोकन मिलता है। तुम्हें चार टोकन कैसे मिलता है? दिलीप बताता है कि उसके एक टोकन का इस्तेमाल करते ही अपने आप दूसरा टोकन स्क्रीन पर आ जाता है। जब चार टोकन ख़त्म हो जाते हैं तो फिर स्क्रीन पर टोकन कलेक्ट करने के लिए मैसेज आने लगता है। अमित कहता है कि बिग बास्कट का टोकन दूसरे के एकाउंट पर ट्राँसफर नहीं किया जा सकता तो फिर वो लड़की तुम्हारे एकाउंट पर टोकन कैसे भेजती है? दिलीप सोचने लगता है और कहता है कि वह इस बात को वहीदा से पूछेगा।

  6. #16
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,497
    दिलीप जा रहा होता है, तभी प्राण अपने गुर्गों के साथ दिलीप को घेर लेता है और उसे अगवा करना चाहता है। उसी समय गब्बर सिंह अपने आदमियों के साथ वहाँ आ जाता है और प्राण को ललकारता है। प्राण कहता है- तू तो जंगल का डाकू है रे, गब्बर। शहर में तेरा क्या काम? उसी समय अमरीश पुरी अपने आदमियों के साथ वहाँ आ जाता है और प्राण और गब्बर सिंह को ललकारते हुए कहता है कि तुम दोनों आउट ऑफ़ डेट हो चुके हो मगर अमरीश पुरी न कभी आउट ऑफ़ डेट हुआ है, न होगा। अमरीश पुरी की चिकनी खोपड़ी की चमक हमेशा बरकरार रहेगी। शराफत से लड़के को मेरे हवाले कर दो नहीं तो अगर मोबैंगो दुःखी हो गया तो खून की नदियाँ बह जाएँगी। उसी समय परेश रावल अपने आदमियों के साथ वहाँ आ जाता है और बड़े-बड़े बदमाशों को आपस में टकराते हुए देखकर छिप जाता है और अपने आदमियों से कहता है कि इन्हें आपस में लड़ने दो। अन्त में जो बचेगा उससे हम लड़ेंगे। प्राण, गब्बर सिंह और अमरीश पुरी के आदमी आपस में लड़ने लगते हैं। आपस में लड़ते-लड़ते जो आदमी परेश रावल के आदमियों के पास आकर गिरता है उसे परेश रावल के आदमी डंडे से ठोंककर बेहोश कर देते हैं। बड़े-बड़े बदमाशों का आपसी टकराव देखकर दिलीप थर-थर काँपते हुए देखता है कि परेश रावल के आदमी छिपकर एक-एक बदमाशों को डंडे से ठोंककर बेहोश कर रहे हैं। परेश रावल को अपना शुभचिंतक समझकर दिलीप परेश रावल के पास चला जाता है। मुर्ग़ा खुद आकर अपने जाल में फँसता देखकर परेश रावल खुश होकर दिलीप को बरगलाते हुए कहता है कि यहाँ पर उसकी जान को खतरा है। इसलिए उसे यहाँ से फूट लेना चाहिए। दिलीप घबड़ाकर परेश रावल की कार में बैठकर वहाँ से चला जाता है। प्राण, गब्बर सिंह और अमरीश पुरी बिना ध्यान दिए आपस में लड़ते रहते हैं। अन्त में अमरीश पुरी के आदमी प्राण और गब्बर सिंह को एक पेड़ से बाँधने लगते हैं। तभी दिलीप को गायब देखकर प्राण कहता है कि लड़का तो हाथ से निकल गया। अब हमें क्यों पेड़ से बाँध रहे हो? गब्बर सिंह कहता है कि चोर-चोर मौसेरे भाई। हमें आपस में लड़ना छोड़कर एक साथ मिलकर काम करना चाहिए और बिग बास्कट का टोकन आपस में बाँट लेना चाहिए। अमरीश पुरी कहता है कि हम तीन हैं और टोकन चार। बँटवारा कैसे होगा? तभी एक बदमाश बताता है कि उसने लड़के को परेश रावल के साथ जाते देखा है। अमरीश पुरी खुश होकर कहता है कि तो हमारी तिकड़ी नहीं, चौकड़ी है। टोकन का बँटवारा आसानी से हो जाएगा।

  7. #17
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,497
    एक ट्रैफ़िक सिग्नल पर सी०आइ०डी० ऑफ़ीसर दया दिलीप को परेश रावल के साथ एक कार में बैठा देखकर अपनी कार से पीछा करता है और परेश रावल की कार को ओवरटेक करते हुए अपनी कार को सड़क के बीचों-बीच खड़ा कर देता है। परेश रावल की कार रुक जाती है। दया रिवाल्वर निकालकर अपनी कार से नीचे उतरता है। परेश रावल भी अपनी कार से नीचे उतरता है। दया परेश रावल के ऊपर रिवाल्वर तान कर पूछता है- 'लड़के को अगवा करके कहाँ ले जा रहे हो?' परेश रावल कहता है- 'दया भाई, मैंने तो लड़के की जान बचाई है। विश्वास न हो तो लड़के से पूछ लो।' दिलीप बताता है कि वह अपनी मर्ज़ी से जा रहा है और उसका किडनैप नहीं हुआ। दया परेश रावल से पूछता है कि बोल तेरे घर में आटा है, दाल है, चावल है, चीनी है? परेश रावल नहीं में सिर हिलाता रहता है। दया हवाई फ़ायर करते हुए कहता है कि मुझे तेरे पर विश्वास नहीं। कुत्ते की दुम टेढ़ी की टेढ़ी ही रहेगी। तू कॉमेडी करके क्राइम करने वाला आदमी है। शराफ़त से लड़के को मेरे हवाले कर दो। परेश रावल दिलीप को दया के हवाले करके वहाँ से भाग जाता है। दया दिलीप को अपनी कार में बैठाकर वहाँ से जाता है। दिलीप दया को बहुत बड़ा गुण्डा समझकर अपनी जान बचाने के लिए कार से नदी में कूदकर भाग जाता है।

  8. #18
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,497
    घर पहुँचकर दिलीप घर के बाहर टंगे बिग बास्कट के बैग में देखता है जिसमें सिर्फ़ मक्खन है। दिलीप मुँह बनाकर मक्खन की टिकिया को घर के अन्दर ले जाता है और ऊँगली से चाट-चाटकर खाने लगता है। उसी समय वहीदा का फ़ोन आ जाता है। दिलीप मोबाइल उठाकर 'हैलो' कहता है। दूसरी ओर से वहीदा पूछती है कि क्या कर रहे हो? दिलीप बताता है कि वह मक्खन चाट रहा है। वहीदा हँसते हुए पूछती है कि बिग बास्कट से आर्डर करके खाने के लिए तुम्हें और कुछ नहीं मिला क्या? दिलीप बताता है कि मक्खन के साथ उसने ब्रेड भी आर्डर किया था, किन्तु पेमेन्ट करते-करते ब्रेड आउट ऑफ़ स्टॉक हो गया और उसे सिर्फ़ मक्खन नसीब हुआ। दिलीप आगे बताता है कि ऐसा हमेशा होता है। हाई डिमांड होने की वजह से आर्डर करते-करते माल खत्म हो जाता है। वहीदा कहती है कि अब तुम्हें ऐसी परेशानी कभी नहीं होगी। आर्डर करते-करते माल अब कभी ख़त्म नहीं होगा। दिलीप खुश हो जाता है।

  9. #19
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,497
    दिलीप मोबाइल में बिग बास्कट देख रहा है। अमित आता है। दिलीप अमित से खुशी-खुशी बताता है कि अब आर्डर करते-करते माल आउट ऑफ़ स्टॉक नहीं होता। अमित आश्चर्यचकित होकर अपने मोबाइल में बिग बास्कट खोलकर देखता है- जो चीज़ें उसके मोबाइल में आउट ऑफ़ स्टॉक दिख रही हैं वो सभी चीज़ें दिलीप के मोबाइल में उपलब्ध दिख रही हैं। अमित दिलीप से कहता है कि क्या उसने वहीदा से पूछा कि वो जादूगरनी ये सब कैसे करती है? अमित बताता है कि उसका अपहरण हो गया था जिसके कारण वह पूछना भूल गया था। अब ज़रूर पूछेगा। अमित आश्चर्यचकित होकर पूछता है कि उसका अपहरण कौन करेगा और क्यों करेगा? दिलीप सोचने लगता है।

  10. #20
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,497
    एक बड़े मैदान में चारों दिशाओं से अमरीश पुरी, गब्बर, प्राण और परेश रावल अपने आदमियों के साथ आकर मैदान के बीचों-बीच एक-दूसरे से मुलाकात करते हैं। अमरीश पुरी परेश रावल की ओर इशारा करते हुए कहता है कि मोबैंगो बहुत दुःखी हुआ। इस जोकर की बेवकूफी से लड़का हाथ से निकल गया। इस बार ऐसा नहीं होना चाहिए। बड़ी शर्म की बात है- हम चारों मिलकर भी आज तक लड़के का पता-ठिकाना मालूम नहीं कर सके। लड़के की खोज तेज़ करो। नहीं तो हम भूखे मर जाएँगे। यह मत भूलो- लड़के के पास बिग बास्कट का एक-दो नहीं पूरे चार टोकन हैं! परेश रावल कहता है कि चार टोकन की बात पुरानी हो चुकी है। मुझे पता चला है- लड़के के पास अब अनलिमिटेट टोकन हैं। लड़का अब बिग बास्कट का टोकन देने वाला मुर्ग़ा बन चुका है! अमरीश पुरी, प्राण और गब्बर सोचने लगते हैं कि लड़का अगर हाथ में आ जाए तो टोकन बेचने का धंधा खूब चलेगा! अमरीश पुरी कहता है कि लड़का अगर एक बार हाथ में आ जाए तो हम टोकन बेचकर खूब कमाएँगे! प्राण और गब्बर हाँ में सिर हिलाते हैं। परेश रावल सोचता है कि लड़का अगर एक बार हाथ में आ जाए तो मैं किसी को बताने वाला नहीं। रोज़ टोकन बेचूँगा और खूब कमाऊँगा!

Page 2 of 3 FirstFirst 123 LastLast

Posting Permissions

  • You may not post new threads
  • You may not post replies
  • You may not post attachments
  • You may not edit your posts
  •