Page 1 of 3 123 LastLast
Results 1 to 10 of 21

Thread: दिल दिया टोकन लिया

  1. #1
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,497

    Cool दिल दिया टोकन लिया

    Last edited by superidiotonline; 24-05-2021 at 08:11 PM.

  2. #2
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,497
    'DDLJ' की तर्ज पर 'DDTL' यानी 'दिल दिया टोकन लिया' कॉमेडी जानर की एक फ़िल्मी कहानी है जो हमारी खोपड़ी की उपज है। अब यक्ष-प्रश्न यह है कि खोपड़ी के खेत में बीज कौन सा बोया गया था? तो बता दें कि बिग बास्कट के टोकन की मारामारी शुरू हुई तो तो उसी के बीज से हमारी खोपड़ी के खेत में 'DDTL' ही नहीं, दो तरह की फसल पैदा हुई। सबसे पहले बात करते हैं 'DDTL' की कहानी पर। ऊपर का चित्र प्रतीकात्मक है, कहानी हमारी है। उम्मीद पर दुनिया कायम है। उम्मीद तो यही है कि 'DDTL' की कहानी पर यदि फ़िल्म बनी तो दर्शक हजारों वर्षों तक इसकी कहानी को याद रखेंगे और बिना अपना कपड़ा फाड़े थिएटर से बाहर नहीं निकलेंगे!

  3. #3
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,497
    'DDTL' की कहानी शुरू होती है एक पहाड़ी की चोटी से जहाँ पर कहानी का नायक दिलीप हाथ में स्मार्टफ़ोन लिए निराशा भरी नज़र से मोबाइल की स्क्रीन को देख रहा है। स्क्रीन पर बिग बास्कट का ऐप खुला हुआ है। दिलीप निराशा भरी नज़र से मोबाइल की स्क्रीन देखकर ठंडी साँस लेता है और चोटी से कूदकर आत्महत्या करना चाहता है। उसी समय कहानी की नायिका वहीदा देख लेती है और दिलीप को बचाने की कोशिश करती है। दिलीप कहता है कि मुझे मर जाने दो। मुझे बिग बास्कट का टोकन नहीं मिल रहा है। वहीदा कहती है कि तुम्हें कितना चाहिए बिग बास्कट का टोकन? मैं तुम्हें बिग बास्कट का टोकन दूँगी। दिलीप खुश हो जाता है। वहीदा अपना स्मार्टफ़ोन निकालकर कुछ टाइप करती है और दिलीप से कहती है कि देखो, तुम्हारे पास बिग बास्कट का चार टोकन आ गया है। दिलीप अपने स्मार्टफ़ोन में देखता है कि उसके पास बिग बास्कट का चार टोकन आ गया है। दिलीप खुशी से नाचने लगता है। गीत आरम्भ होता है।

  4. #4
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,497
    गीत - १

    दिलीप : मिल गया रे तेरे आने से..
    बिग बास्कट का टोकन मिल गया रे..

    वहीदा : खिल गया रे मेरे आने से..
    तेरा चेहरा कमल सा खिल गया रे..

    दिलीप : मिल गया रे तेरे आने से..
    बीबी का टोकन मिल गया रे..

    वहीदा : बिग बास्कट का टोकन मिला है..
    बीबी का मिला नहीं..

    दिलीप : बिग बास्कट और बीबी में..
    क्या फ़र्क है कहीं..

    वहीदा : बिग बास्कट बिग बास्कट है..
    बीबी बीबी है.. जो बीबी डेली है..

    दिलीप : मिल गया रे तेरे आने से..
    बिग बास्कट का टोकन मिल गया रे..

    वहीदा : खिल गया रे मेरे आने से..
    तेरा चेहरा कमल सा खिल गया रे..

  5. #5
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,497
    कहानी का खलनायक प्राण बिग बास्कट का टोकन न मिलने के कारण एक हफ्ते से भूखा-प्यासा बैठा भूख से कराह रहा है और उसके गुंडे-बदमाश उसे सान्त्वना दे रहे हैं कि बॉस, हिम्मत न हारिए। अगले हफ्ते आपको बिग बास्कट का टोकन मिल ही जाएगा। एक गुंडा आकर बताता है कि दिलीप नाम के एक लड़के के पास बिग बास्कट का एक-दो नहीं, पूरे चार टोकन हैं। प्राण खुश हो जाता है और दिलीप को उठाकर लाने के लिए कहता है।

  6. #6
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,497
    जंगल में शोले फ़िल्म का डाकू गब्बर सिंह जो बिग बास्कट का टोकन न मिलने के कारण एक हफ्ते से भूखा-प्यासा बैठा भूख से कराह रहा है, कालिया से कहता है कि जाकर पता लगाओ- लड़के के पास बिग बास्कट का चार टोकन कहाँ से आया?

  7. #7
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,497
    कहानी के तीसरे खलनायक परेश रावल को जब बिग बास्कट के चार टोकन के बारे में पता चलता है तो वह भी टोकन हथियाने के चक्कर में लग जाता है।

  8. #8
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,497
    कहानी के चौथे खलनायक अमरीश पुरी को जब पता चलता है कि एक लड़के के पास बिग बास्कट का चार टोकन है और तीन जाने-माने बदमाश टोकन हथियाना चाहते हैं तो उसका खून खौल जाता है और वह अपने आदमियों से कहता है कि 'मोगैंबो दुःखी हुआ' और फिर आदेश करता है कि 'चाहे जितनी लाशें गिर जाएँ, टोकन अपने हाथ में आना चाहिए।'

  9. #9
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,497
    सी०आइ०डी० के ए०सी०पी० प्रद्युमन को जब पता चलता है कि एक लड़के दिलीप के पास बिग बास्कट का चार टोकन है तो वह दया से कहता है कि कहीं तो कुछ गड़बड़ है, दया। पता लगाओ- लड़के के पास बिग बास्कट का चार टोकन कहाँ से आया?

  10. #10
    कांस्य सदस्य superidiotonline's Avatar
    Join Date
    May 2017
    Posts
    6,497
    दिलीप वहीदा को फ़ोन करके निराशा भरे स्वर में कहता है कि वह चाहता है कि अब सुसाइड कर ही ले। वहीदा घबड़ाकर पूछ्ती है कि क्यों, क्या हुआ? दिलीप बताता है कि उसके पास बिग बास्कट का टोकन खत्म हो गया है और भूखे मरने से अच्छा सुसाइड करना है। वहीदा आश्चर्यपूर्वक कहती है कि तुम्हारे पास चार टोकन थे। चारों कैसे खत्म हो गए? अभी तो सिर्फ़ चार ही दिन हुए हैं! चार टोकन में तो चार महीने तक गल्ला-पानी मँगवाया जा सकता है। दिलीप बताता है कि पहले दिन उसने केला मँगवाकर खाया। दूसरे दिन सेब मँगवाकर खाया। तीसरे दिन अँगूर मँगवाकर खाया और चौथे दिन दूध मँगवाकर पी गया। इस तरह चार दिन में चार टोकन ख़त्म हो गए। वहीदा क्रोधपूर्वक कहती है कि तुम्हें एक ही दिन में सारा सामान मँगवा लेना चाहिए था। इससे तीन टोकन बच जाता। दिलीप 'वो क्या है, वो क्या है' कहकर हकलाने लगता है और ठीक से जवाब नहीं दे पाता। वहीदा का पारा सातवें आसमान पर पहुँच जाता है और वह जाकर दिलीप से मिलती है तथा उसे लताड़ते हुए कहती है कि बंदर क्या जाने- बिग बास्कट के टोकन की कीमत? जानते हो- इस समय टोकन के लिए कितनी मारामारी है? और तुमने अपनी वेवकूफी की वजह से पूरे तीन टोकन बर्बाद कर दिए। अब जाओ- बनिए की दूकान से गल्ला-पानी खरीदो। मुझे क्या? कहकर वहीदा नाराज़ होकर जाने लगती है। वहीदा को मनाने के लिए दिलीप गीत गाता है। गीत आरम्भ होता है।

Page 1 of 3 123 LastLast

Posting Permissions

  • You may not post new threads
  • You may not post replies
  • You may not post attachments
  • You may not edit your posts
  •