loading...
Page 2 of 586 प्रथमप्रथम 12341252102502 ... LastLast
Results 11 to 20 of 5853

Thread: महान शायरों के चंद शेर

  1. #11
    चित्रपट विशेषज्ञ fullmoon's Avatar
    Join Date
    Jul 2009
    Location
    कानपुर
    प्रविष्टियाँ
    9,714
    Rep Power
    40

    Re: महान शायरों के चंद शेर

    loading...
    किसी को मकां मिला,किसी के हिस्से में दुकां आई,

    मैं घर में सबसे छोटा था,मेरे हिस्से में माँ आई.....
    अच्छे दिनों में बुरी बात,कि वो एक दिन खत्म हो जाते हैं,

    बुरे दिनों में अच्छी बात,कि वो भी एक दिन खत्म हो जाते हैं.....


  2. #12
    चित्रपट विशेषज्ञ fullmoon's Avatar
    Join Date
    Jul 2009
    Location
    कानपुर
    प्रविष्टियाँ
    9,714
    Rep Power
    40

    Re: महान शायरों के चंद शेर

    मुझको थकने नहीं देता , ये ज़रुरत का पहाड़.

    मेरे बच्चे मुझे बूढा होने नहीं देते......
    अच्छे दिनों में बुरी बात,कि वो एक दिन खत्म हो जाते हैं,

    बुरे दिनों में अच्छी बात,कि वो भी एक दिन खत्म हो जाते हैं.....


  3. #13
    चित्रपट विशेषज्ञ fullmoon's Avatar
    Join Date
    Jul 2009
    Location
    कानपुर
    प्रविष्टियाँ
    9,714
    Rep Power
    40

    Re: महान शायरों के चंद शेर

    मैंने कल शब चाहतों की सब किताबें फाड़ दी,
    सिर्फ एक कागज़ पर लफ्जे माँ रहने दिया .....
    अच्छे दिनों में बुरी बात,कि वो एक दिन खत्म हो जाते हैं,

    बुरे दिनों में अच्छी बात,कि वो भी एक दिन खत्म हो जाते हैं.....


  4. #14
    चित्रपट विशेषज्ञ fullmoon's Avatar
    Join Date
    Jul 2009
    Location
    कानपुर
    प्रविष्टियाँ
    9,714
    Rep Power
    40

    Re: महान शायरों के चंद शेर

    गम बिछड़ने का नहीं करते खानाबदोश ,

    वो तो वीराने बसाने का हुनर जानते हैं.......
    अच्छे दिनों में बुरी बात,कि वो एक दिन खत्म हो जाते हैं,

    बुरे दिनों में अच्छी बात,कि वो भी एक दिन खत्म हो जाते हैं.....


  5. #15
    चित्रपट विशेषज्ञ fullmoon's Avatar
    Join Date
    Jul 2009
    Location
    कानपुर
    प्रविष्टियाँ
    9,714
    Rep Power
    40

    Re: महान शायरों के चंद शेर

    प्यार अपनों का मिटा देता है ,इंसान का वजूद ,

    जिंदा रहना है तो गैरों की नज़र में रहिये.......
    अच्छे दिनों में बुरी बात,कि वो एक दिन खत्म हो जाते हैं,

    बुरे दिनों में अच्छी बात,कि वो भी एक दिन खत्म हो जाते हैं.....


  6. #16
    चित्रपट विशेषज्ञ fullmoon's Avatar
    Join Date
    Jul 2009
    Location
    कानपुर
    प्रविष्टियाँ
    9,714
    Rep Power
    40

    Re: महान शायरों के चंद शेर

    रंजिश ही सही , दिल को दुखाने के लिए आ,

    आ फिर से मुझे , छोड़ जाने के लिए आ.....
    अच्छे दिनों में बुरी बात,कि वो एक दिन खत्म हो जाते हैं,

    बुरे दिनों में अच्छी बात,कि वो भी एक दिन खत्म हो जाते हैं.....


  7. #17
    नवागत alvi's Avatar
    Join Date
    Jun 2010
    आयु
    36
    प्रविष्टियाँ
    16
    Rep Power
    0

    Re: महान शायरों के चंद शेर

    fullmoon जी एक से बड़कर एक शायरी मारी है आप ने मेरी तरफ से ये रहा
    वो खुदगर्ज हो गए तो मै क्या करू
    मुझे उनकी वफा भुलाई नही जाती

  8. #18
    सदस्य BHARAT KUMAR's Avatar
    Join Date
    Jun 2010
    प्रविष्टियाँ
    4,555
    Rep Power
    18

    Re: महान शायरों के चंद शेर

    बहुत ही जबरदस्त संग्रह.. और भी लिखिए फुल मून जी

    बेमिसाल.. खासतोर से माँ ..

    बहुत दिल को छु गयी ये लाइनें

    मैं भी कुछ पक्तियां डालना चाहूँगा,,, फुल मून जी कोई परेशानी तो नहीं?
    काम अगर ये हिन्दू का है, मंदिर किसने लुटा है!
    मुस्लिम का है काम अगर ये, खुदा का घर क्यूँ टूटा है!
    जिस मज़हब में जायज़ है ये-वो मजहब तो झूठा है!


    [Only Registered and Activated Users Can See Links. Click Here To Register...]

  9. #19
    फोरम कवि man-vakil's Avatar
    Join Date
    Sep 2009
    Location
    मुसाफिर हूँ इस दुनिया में , जल्द वापिस
    प्रविष्टियाँ
    3,553
    Rep Power
    34

    Re: महान शायरों के चंद शेर

    मिर्ज़ा ग़ालिब का एक शेर है पेश करता हूँ:

    बड़े बेआबरू होकर तेरे कूचे से हम निकले..बहुत निकले मगर मेरे अरमान दिल से लेकिन कम निकले..
    निकलना खुल्द( स्वर्ग) से आदम का सुनते आये थे, हुआ मालुम तब , तेरे कूचे से जब हम निकले..
    मन-वकील ....

  10. #20
    फोरम कवि man-vakil's Avatar
    Join Date
    Sep 2009
    Location
    मुसाफिर हूँ इस दुनिया में , जल्द वापिस
    प्रविष्टियाँ
    3,553
    Rep Power
    34

    Re: महान शायरों के चंद शेर

    मिर्ज़ा ग़ालिब का एक शेर है पेश करता हूँ:
    "दिल-इ-नादान तुझे हुआ क्या है..आखिर इस दर्द की दवा क्या है..
    हमको उनसे से वफ़ा की उम्मीद ..जो नहीं जानते वफ़ा क्या है.."
    मन-वकील ....

Page 2 of 586 प्रथमप्रथम 12341252102502 ... LastLast

Thread Information

Users Browsing this Thread

There are currently 7 users browsing this thread. (0 members and 7 guests)

Similar Threads

  1. जय जय भारत महान
    By harry1 in forum मेरा भारत
    Replies: 3
    अन्तिम प्रविष्टि: 30-03-2011, 12:48 PM

Bookmarks

Posting Permissions

  • You may not post new threads
  • You may not post replies
  • You may not post attachments
  • You may not edit your posts
  •